ऑक्सजीन प्लांट में चोरी: कर्मचारियों के मुंह में डाली मिर्ची, खड़ा किया बर्फ पर, जमकर की पिटाई

इंदौर के ऑक्सीजन प्लांट में चोरी करने पर दो कर्मचारियों के साथ जानवरों जैसा सलूक किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

इंदौर के ऑक्सीजन प्लांट में चोरी करने पर दो कर्मचारियों के साथ जानवरों जैसा सलूक किया गया. (सांकेतिक तस्वीर)

ऑक्सजीन प्लांट में चोरी: मध्य प्रदेश के इंदौर में दो कर्मचारियों को मालिक ने जमकर पीटा. आरोप है कि कर्मचारियों के मुंह में मिर्ची डाली गई और बर्फ पर खड़ा किया गया. जैसे-तैसे उनकी जान बची.

  • Last Updated: May 16, 2021, 8:55 AM IST
  • Share this:

इंदौर. इंदौर के एक ऑक्सीजन प्लांट के कर्मचारियों को जानवरों की तरह पीटा गया. उन्हें बर्फ पर खड़ा किया गया और मुंह में डाल-डालकर पीटा गया. पिटाई का कारण ऑक्सीजन की चोरी बताया जा रहा है. हालांकि, पीटे गए दोनों कर्मचारियों ने अपना गुनाह भी कबूल किया है. आरोपियों का कहना है उन्हें पुलिस के हवाले कर देते, इस तरह न पीटते.

जानकारी के मुताबिक, इंदौर के पाटनीपुरा में रहने वाले राज और नेहरू नगर में रहने वाले चिराग भंवरलाल शेखावत के कुमेड़ी में BRJ कॉरपोरेशन प्लांट में काम करते थे. आरोपियों ने बताया कि 12 मई की रात 10 बजे जब वे काम पर पहुंचे तो उन्हें एक हॉल में ले जाया गया. यहां बाणगंगा थाने के दो सिपाही भी मौजूद थे. उनके अलावा प्लांट का मालिक, उसकी बेटी कोमल, मैनेजर धीरज और चाय वाले पप्पू सहित 15-20 लोग मौजूद थे.

चिल्लाने पर दी जान से मारने की धमकी – पीड़ित

पीड़ितों के मुताबिक अंदर ले जाते ही उन्हें जानवरों की तरह पीटा गया. आधे घंटे बाद पुलिस वाले चले गए. इसके बाद चार लोग उन्हें अंदर वाले कमरे में ले गए. यहां फिर पीटना शुरू किया गया. पीड़ित राज के मुताबिक उसे  पीठ पर खूब मारा गया. बर्फ पर खड़ा करने के बाद फिर उन्होंने मुंह में मिर्ची भी डाली, उसके ऊपर से बरफ ठूंस दी. चिल्लाने पर उन्हें जान से मारने की धमकी दी.
पीड़ित ने कबूल किया चोरी का आरोप

पीड़ित चिराग ने हालांकि चोरी की बात कबूल की. उसने बताया कि कोरोना की वजह से जब से मरीजों के लिए ऑक्सीजन रिफिल की जाने लगी, तभी से प्लांट पर चोरी शुरू हो गई. हर कर्मचारी चालान कटाने के बाद चोरी कर रहा था. जब किसी ग्राहक का चालान कटता तो उस ग्राहक से खाली सिलेंडर वापस नहीं लिया जाता था, बल्कि, भरा हुआ सिलेंडर दे दिया जाता था. इसके बदले में पैसा कमाया जाता था. चिराग ने आरोप लगाय कि मैनेजर धीरज ने भी बड़े स्तर पर हेरा-फेरी की है.

Youtube Video



मालिक को वापस कर दिए एक लाख और सिलेंडर – पीड़ित

चिराग ने कबूला कि उसने दस सिलेंडर परिचितों को दे दिए थे. जबकि राज ने 2 सिलेंडर दिए थे. चिराग ने चोरी कबूलकर एक लाख रुपए मालिक को जमा भी करवा दिए थे, वहीं राज ने दोनों सिलेंडर दे दिए थे. इसके बाद भी पीटा गया. उनका कहना था कि यदि चोरी पकड़ी है तो पुलिस के हवाले कर दो, लेकिन ऐसा मत पीटो. फिर भी रातभर बंधक बनाकर पीटा है. पीड़ित युवकों का कहना है कि रात में जब पिटाई हुई उस वक़्त थाने के दो जवान प्लांट ले बाहर तैनात थे.

वहां CCTV सीसीटीव्ही भी लगे हैं. बावजूद इसके पुलिसकर्मियों ने कोई कार्यवाही नही की, बल्कि जब सुबह परिजन प्लांट पहुंचे तो उन्हें बंधक से मुक्त कराया गया. बाणगंगा थाना पुलिस ने मामले की जांच के बाद  मारपीट की धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी के मुताबिक बाणगंगा थाना इलाके में स्थित ऑक्सीजन प्लांट के भीतर मारपीट का मामला सामने आया है. केस दर्ज कर लिया गया है. जांच की जा रही है. साथ ही वहां लगे CCTV भी खंगाले जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज