लाइव टीवी

जब दिग्विजय सिंह ने कैलाश विजयवर्गीय को गले लगाया, कहा- चलो कॉफी पीते हैं

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 15, 2020, 6:33 PM IST
जब दिग्विजय सिंह ने कैलाश विजयवर्गीय को गले लगाया, कहा- चलो कॉफी पीते हैं
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय को गले लगाया

दिग्विजय सिंह (digvijay singh) ने मालवी पगड़ी कैलाश विजयवर्गीय ((Kailash Vijayvargiya) को पहनाई और कैलाश विजयवर्गीय ने अपनी पगड़ी उतारकर दिग्विजय सिंह को पहना दी.

  • Share this:
इंदौर. सियायत में यूं तो राजनेताओं का अलग अंदाज हमेशा सुर्खियों में रहता है. लेकिन जब कट्टर विरोधी कहे जाने वाले नेता एक साथ एक मंच पर गले मिलते हुए नजर आएं तो बात हैरान कर देने वाली लगती है. प्रदेश की सियासत के गढ़ कहे जाने वाले इंदौर (indore) में मकर संक्रांति (makar sankranti) पर कुछ ऐसी ही तस्वीरें देखने को मिलीं. राजनीतिक प्रतिद्वंदी कहे जाने वाले बीजेपी महासचिव (BJP general secretary) कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह (digvijay singh) जब मिले तो दोनों ने एक दूसरे का गर्मजोशी से स्वागत किया. दिग्विजय सिंह ने मालवी पगड़ी कैलाश विजयवर्गीय को पहनाई और कैलाश विजयवर्गीय ने अपनी पगड़ी उतारकर दिग्विजय सिंह को पहना दी.

राजनीति में 'चाणक्य' के रूप में पहचान बनाने वाले दिग्विजय सिंह और राजनीति के सूरमा कहे जाने वाले बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बीच वैसे तो 36 का आंकड़ा है. उनके बीच सियासी खींचतान भी किसी से छिपी हुई नहीं है. मुद्दा कोई भी हो दोनों नेता एक दूसरे पर निशाना साधने का मौका नहीं छोड़ते. लेकिन इसी खींचतान के बीच सियासत के दोनों सूरमा जब एक मंच पर गले मिल जाएं तो सियासी चर्चाओं का बाजार गर्म होना स्वाभाविक है.



चलो कॉफी पीते हैं...

प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर जहां से कैलाश विजयवर्गीय ने अपने राजनीतिक सफर की शुरुआत की तो वहीं इसी इंदौर से दिग्विजय सिंह ने भी राजनीति के गुर सीखे. लेकिन राजनीति में दोनों अलग-अलग ध्रुव हैं. अपनी-अपनी पार्टियों में दोनों ही नेता काफी मुखर माने जाते हैं. बुधवार को इंदौर की स्मार्ट सड़क पर जब ये दोनों नेता मिले तो दोनों ही एक दूसरे को गले लगा लिया और फिर दिग्विजय सिंह ने तुरंत कैलाश विजयवर्गीय को कॉफी ऑफर कर दी. कहा- चलो कॉफी पीते हैं. इस दौरान उनकी पुरानी यादें ताजा हो आयीं. दोनों नेता इस दौरान ठहाके लगाते नज़र आए.



स्मार्ट सड़क पर स्मार्ट राजनीतिकेंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की स्टैंडिंग कमेटी की टीम देश के सबसे साफ शहर इंदौर की स्मार्ट सड़क का जायजा लेने पहुंची थी. इसमें कांग्रेस सांसद दिग्विजय सिंह भी शामिल थे. उसी दौरान जब कैलाश विजयवर्गीय मौके पर पहुंचे तो दिग्विजय सिंह ने आगे बढ़कर कैलाश विजयवर्गीय को गले लगा लिया. फिर क्या था. मेल मुलाकात के बीच ही विजयवर्गीय ने दिग्विजय सिंह को मालवी पगड़ी पहना दी. दिग्विजय सिंह ने भी मालवी पगड़ी पहनाकर विजयवर्गीय का स्वागत उनके अंदाज में कर दिया.

मतभेद हैं मनभेद नहीं

दोनों नेताओं की गर्मजोशी के साथ हुई यह मुलाकात प्रदेश भर में चर्चा का विषय बन गई है. हालांकि बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय इसे सौजन्य भेंट बता रहे हैं. उनका कहना है कि एमपी की यही खासियत है कि राजनेताओं के बीच भले ही मतभेद हों लेकिन व्यक्तिगत संबंध हमेशा ही मधुर रहते हैं.

मंत्री जीतू पटवारी ने बताई अच्छी परंपरा
दिग्विजय सिंह इस मुलाकात पर कुछ नहीं कह रहे हैं. लेकिन उनके समर्थक इसे राजनीति की अच्छी परंपरा और सकारात्मक राजनीति बता रहे हैं. उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी का कहना है कि राजनीतिक प्रतिद्वंदिता अपनी जगह लेकिन यह मुलाकात संस्कारी व्यवहार का उदाहरण है.

सियासी गलियारों में चर्चा का बाज़ार गर्म
इस मुलाकात के बाद सियासी गलियारों भी चर्चा का बाजार गर्म हो गया है. वजह भी साफ है, जब मध्यप्रदेश में कैलाश विजयवर्गीय को चौतरफा घेरने के लिए कांग्रेस पूरी ताकत लगा रही है. उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करा कर गिरफ्तारी की बात कह रही है. राज्य के गृहमंत्री बाला बच्चन भी जल्द गिरफ्तारी की बात कह रहे हैं, तो ऐसे में सियासत के 'चाणक्य' दिग्विजय सिंह, बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय से गर्मजोशी से मिलकर क्या संदेश देना चाह रहे हैं.

ये मुलाक़ात तो बहाना है
राजनीतिक जानकार कह रहे हैं कि ये मुलाकात तो सिर्फ बहाना है. दरअसल कैलाश विजयवर्गीय अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए कांग्रेस की शरण में पहुंच गए हैं और कांग्रेस नेताओं को अपने पुराने संबंध याद दिला रहे हैं. उन्हें आस है कि मध्य प्रदेश के सुपर सीएम दिग्विजय सिंह उनकी मदद जरूर करेंगे.

ये भी पढ़ें-

मकर संक्रांति पर नेताओं ने लड़ाए सियासी पेंच, एक-दूसरे की पतंग काटने की होड़

बैकफुट पर MPPSC : भील जनजाति से संबंधित आपत्तिजनक सवाल प्रश्नपत्र से हटाए

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 15, 2020, 6:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर