गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मामले में कांग्रेस नेता ने इंदौर क्राइम ब्रांच पर उठाए गंभीर सवाल

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के नाम पर करोड़ों की ठगी का खुलासा करने वाले कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश सिंह यादव ने इंदौर क्राइम ब्रांच की कार्रवाई पर सवालिया निशान लगाया है.

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 22, 2019, 7:46 PM IST
गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड मामले में कांग्रेस नेता ने इंदौर क्राइम ब्रांच पर उठाए गंभीर सवाल
कांग्रेस नेता ने लगाए गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर फर्जीवाड़े के आरोप कहा- पैसे लेकर बांटे गए करोड़ों के अवॉर्ड
Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: July 22, 2019, 7:46 PM IST
गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के नाम पर करोड़ों की ठगी का खुलासा करने वाले कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश सिंह यादव ने अब इंदौर क्राइम ब्रांच की कार्रवाई पर सवालिया निशान लगाया है. राकेश सिंह ने क्राइम ब्रांच के अधिकारियों पर बीजेपी के दबाव में काम करने और आरोपी दोषी को बचाने की शिकायत सीएम कमलनाथ से की. साथ शिकायत के जरिए क्राइम ब्रांच के अधिकारियों को सस्पेंड करने की मांग की है.

कांग्रेस नेता राकेश सिंह ने लगाए गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर फर्जीवाड़े के आरोप कहा- पैसे लेकर बांटे गए करोड़ों के अवॉर्ड
कांग्रेस नेता राकेश सिंह ने लगाए गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर फर्जीवाड़े के आरोप कहा- पैसे लेकर बांटे गए करोड़ों के अवॉर्ड


गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड पर लगाया ठगी का आरोप

दरअसल कांग्रेस के प्रदेश सचिव राकेश सिंह यादव ने 3 महीने पहले गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के नाम पर देशभर में करोड़ों की ठगी होने का खुलासा किया था, उन्होंने गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड के मालिक मनीष विश्नोई पर आरोप लगाया था कि उन्होंने पैसे लेकर हजारों लोगों और संस्थाओं को ये अवॉर्ड दिया है. वहीं इसके माध्यम से हवाला कारोबार संचालित होने का आरोप भी राकेश सिंह ने लगाया था.

गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर लगा 20 करोड़ से ज्यादा लोगों को फर्जी अवॉर्ड बांटने का आरोप
गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड पर लगा 20 करोड़ से ज्यादा लोगों को फर्जी अवॉर्ड बांटने का आरोप


बीजेपी पर दोषियों को बचाने का लगाया आरोप

इस मामले में क्राइम ब्रांच ने जांच की और पाया कि करीब 2 हजार अवार्ड दिए जा चुके है, जबकि मनीष विश्नोई के पास अवॉर्ड देने की अधिकारिक नियुक्ति ही नहीं है, सिर्फ गुमास्ता के लाइसेंस पर संस्था रजिस्टर्ड करके फर्जीवाड़ा किया जा रहा है. बावजूद इसके क्राइम ब्रांच बीजेपी के दवाब में दोषी को बचाने में जुटी है और अब तक मुख्य आरोपी के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज नहीं की गई.
Loading...

पुलिस ने जांच रिपोर्ट में स्वीकारा करोड़ों का घोटाला

राकेश सिंह यादव ने क्राइम ब्रांच की जांच रिपोर्ट दिखाते हुए कहा कि गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के नाम पर करोड़ों का फर्जीवाड़ा पुलिस ने जांच रिपोर्ट में स्वीकारा है और इसके मालिक मनीष विश्नोई के खिलाफ जांच में सबूत होने के बाद भी धारा 420,467,468,120B के तहत  में FIR दर्ज करने में पसीने छूटे रहे है. वहीं हवाला कांड की जांच ही नहीं की गई, सिर्फ ईडी का पत्र जरूर लिखा है, क्योंकि मनीष विश्नोई ने अमेरिका के एम वी डी शेर से गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड की ऑनरशिप लेने की बात कही थी. ऐसे में अमेरिकी दूतावास को भी इसकी जानकारी दी जाना चाहिए, जिससे सच सामने आ सके.

यह भी पढ़ें- ई टेंडरिंग घोटाला : 3 आरोपी गिरफ़्तार, बैंगलुरू से हुई थी टेंडर में टैम्परिंग!
First published: July 22, 2019, 7:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...