Home /News /madhya-pradesh /

कोरोना से 'मृत' बताया गया शख्स हुआ 'जिंदा', पहुंचा प्रशासन के सामने, जानिए फिर क्या हुआ?

कोरोना से 'मृत' बताया गया शख्स हुआ 'जिंदा', पहुंचा प्रशासन के सामने, जानिए फिर क्या हुआ?

INDORE CORONA DEATH COMPENSATION. जानकीलाल अपने बेटों के साथ कलेक्ट्रेट में हाजिर हो गए. अपना मृत्यु प्रमाण पत्र देखकर वो भी हैरान रह गए.

INDORE CORONA DEATH COMPENSATION. जानकीलाल अपने बेटों के साथ कलेक्ट्रेट में हाजिर हो गए. अपना मृत्यु प्रमाण पत्र देखकर वो भी हैरान रह गए.

Indore News: इंदौर में एक जीवित व्यक्ति को मृत बताकर उसका मृत्यु प्रमाण पत्र जमा कर दिया गया. मौत का कारण कोरोना बताया गया और मुआवजा राशि के लिए आवेदन कर दिया. पोल तब खुली जब पटवारी ने वेरिफिकेशन के लिए फोन किया, जिसे मृत बताया गया था उसके बेटे ने कहा पिताजी तो जिंदा हैं. मामला सांवेर में रहने वाले जानकीलाल का है. उनके और उनके बेटे अभिषेक के पैरों तले उस वक़्त जमीन खिसक गई जब उन्हें पता चला कि जानकीलाल को मृत बताकर राज्य सरकार की ओर से दी जाने वाली अनुग्रह राशि के लिए आवेदन किया गया है.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. इंदौर में कोरोना मृत्य (Corona Death) मुआवजे में बड़े घोटाले का संकेत मिल रहा है. यहां एक अजब मामला सामने आया है. एक शख्स को कोरोना में मृत बताकर उसके नाम पर सरकारी मुआवजा वसूलने की तैयारी की जा रही थी. लेकिन ऐन वक्त पर वही व्यक्ति कलेक्ट्रेट में आ पहुंचा और बोला- मैं ज़िंदा हूं.

इंदौर में एक जीवित व्यक्ति को मृत बताकर उसका मृत्यु प्रमाण पत्र जमा कर दिया गया. मौत का कारण कोरोना बताया गया और मुआवजा राशि के लिए आवेदन कर दिया, पोल तब खुली जब पटवारी ने वेरिफिकेशन के लिए फोन किया, जिसे मृत बताया गया था उसके बेटे ने कहा पिताजी तो जिंदा हैं. मामला सामने आने के बाद जिला प्रशासन जांच कर रहा है.

जानकीलाल जिंदा हैं
ये मामला सांवेर में रहने वाले जानकीलाल का है. उनके और उनके बेटे अभिषेक के पैरों तले उस वक़्त जमीन खिसक गई जब उन्हें पता चला कि जानकीलाल को मृत बताकर  राज्य सरकार की ओर से दी जाने वाली अनुग्रह राशि के लिए आवेदन किया गया है, अभिषेक के पास इंदौर कलेक्टर कार्यालय से पटवारी का फोन आया कि उनके पिता की कोविड से  मृत्यु के बाद राज्य सरकार ने अनुग्रह राशि के लिए दिया गया आवेदन स्वीकृत कर दिया है, राशि खाते में जमा कराने के लिए जरूरी दस्तावेज लेकर पहुंचें. पटवारी की बात सुनकर पहले तो अभिषेक को यकीन नहीं हुआ कि वह उनके पिता के बारे में ही बात कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें- Hijab पर विवाद : कांग्रेस विधायक के कॉलेज में लड़कियों ने हिजाब और बुर्का पहनकर खेला फुटबॉल

जिंदा का बन गया मृत्यु प्रमाण पत्र
पटवारी का फोन सुनकर जानकीलाल का बेटा अभिषेक भागा-भागा कलेक्टर कार्यालय पहुंचा. वहां सच में उनके पिता की मृत्य का सर्टिफिकेट देकर अनुग्रह राशि के लिए आवेदन दिया गया था. आवेदन में अभिषेक के पिता जानकीलाल की कोविड रिपोर्ट के साथ ही नगर निगम की ओर से जारी मृत्यु प्रमाण पत्र भी लगाया गया था.  इतना ही नहीं अभिषेक का आधार कार्ड, बैंक पासबुक भी इस आवेदन के साथ जमा किए गए थे.

कलेक्ट्रेट पहुंचा ‘मृतक’
साजिश पता चलते ही अभिषेक अपने पिता जानकीलाल और भाई हितेश के साथ कलेक्टर कार्यालय पहुंचा. अपर कलेक्टर पवन जैन ने मामले की जांच का आदेश दे दिया है. साथ ही सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं जिससे ये पता चल सके कि आवेदन किसने किया था.

किसी परिचित का हाथ
जानकीलाल को आशंका है कि उन्हीं के किसी परिचित या रिश्तेदार की यह हरकत होगी. पटवारी के फोन आने के बाद वह समय रहते कलेक्टर कार्यालय पहुंच गए और शिकायत की. अब अधिकारियों को इस प्रकरण के उजागर होने के बाद आशंका है कि और भी इस तरह के कई फर्जी आवेदन हो सकते हैं. अब अफसर नए सिरे से सभी दस्तावेज और प्रकरणों का सत्यापन करवाएंगे,उसके बाद जी राशि स्वीकृत होगी,

एडीएम ने की पुष्टि
एडीएम पवन जैन के मुताबिक सुनवाई के दौरान एक प्रकरण आया था,जिसमें जीवित शख्स को मृत बताकर कोरोना अनुग्रह राशि के लिए आवेदन किया गया है. इसमें फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र और फर्जी कोविड पॉजिटिव की रिपोर्ट लगायी गई थी. फिलहाल प्रकरण को रुकवा दिया गया है ,अनुग्रह राशि रुकवा कर मामले की जांच शुरू की गई है, आवेदन किसने किया था उसके लिए सीसीटीवी से पता किया जाएगा.

Tags: Corona death, Indore news. MP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर