अपना शहर चुनें

States

काली कमाई के कुबेर खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना को सरकार ने नौकरी से निकाला, अनिवार्य सेवानिवृत्ति दी

प्रदीप खन्ना ने तृतीय श्रेणी कर्मचारी के तौर पर नौकरी शुरू की थी.
प्रदीप खन्ना ने तृतीय श्रेणी कर्मचारी के तौर पर नौकरी शुरू की थी.

इंदौर में प्रदीप खन्ना के माउन्ट बर्ग स्थित जिस बंगले पर छापा मारा गया था उसकी अनुमानित कीमत एक करोड़ बीस लाख रुपए थी

  • Share this:
इंदौर. काली कमाई के धन कुबेर भ्रष्ट खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना को नौकरी से निकाल दिया गया है. सरकार ने उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है. लोकायुक्त के छापे (Raid) में खन्ना के घर आय से अधिक करोड़ों की काली संपत्ति मिली थी.5 महीने पहले लोकायुक्त पुलिस ने खन्ना के इंदौर और भोपाल सहित तीन ठिकानों पर छापा मारा था. खन्ना का सर्विस रिकॉर्ड भी ऐसा ही था.32 साल की नौकरी में वो 3 बार सस्पेंड हो चुका था.

मुख्यमंत्री ने सितंबर में हुई खनिज विभाग की बैठक में खन्ना जैसे अफसरों को बर्खास्त करने के निर्देश दिए थे. उसके बाद विभाग ने उनका नाम उस छानबीन समिति को भेज दिया था जो 20 साल नौकरी या 50 साल उम्र के आधार पर कर्मचारियों की जांच करती है. समिति ने खन्ना को अनफिट पाते हुए अनिवार्य सेवानिवृत्ति देने की सिफारिश की थी. सामान्य प्रशासन विभाग ने मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग को छानबीन समिति की सिफारिश भेजी. आयोग की हर झंडी मिलने के साथ ही खन्ना को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी गई.

करोड़ों का साम्राज्य
खन्ना ने अपने सर्विस करियर की शुरुआत तृतीय श्रेणी कर्मचारी के तौर पर की थी. कुछ साल बाद वो अधिकारी बन गया. और उसके बाद उसने करोड़ों का साम्राज्य खड़ा कर लिया था.
1 और 2 सितंबर को पड़ा था छापा


काली कमाई (Black money) के मामले में लोकायुक्त पुलिस ने 2 सितंबर को खनिज अधिकारी प्रदीप खन्ना के इंदौर स्थित बंगले की तलाशी ली थी. लोकायुक्त की टीम खन्ना को लेकर यहां पहुंची और फिर सर्चिंग शुरू की थी. प्रदीप खन्ना उस वक्त श्योपुर में पदस्थ थे. इससे पहले वो 5 साल तक इंदौर में थे.

करोड़ों की काली कमाई
इंदौर में प्रदीप खन्ना के माउन्ट बर्ग स्थित जिस बंगले पर छापा मारा गया था उसकी अनुमानित कीमत एक करोड़ बीस लाख रुपए थी. बंगले में सुख-सुविधाएं देखकर लोकायुक्त की टीम भी चौंक गयी खन्ना के अलग अलग ठिकानों से लाखों रुपये नगद, गहने, सात बैंक खाते और करोड़ों की अचल संपत्ति का पता चला था.भोपाल के गौतम नगर स्थि‍त उनके घर (एमआईजी 171) की कीमत भी करोड़ों रुपए में आंकी गयी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज