Covid-19 Update: इंदौर में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, एक ही दिन में 540 से ज्यादा मामले

सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि जिले में महामारी के मरीजों की मृत्यु दर 1.94 फीसद के स्तर पर है. (AP Photo/Ajit Solanki)
सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि जिले में महामारी के मरीजों की मृत्यु दर 1.94 फीसद के स्तर पर है. (AP Photo/Ajit Solanki)

उन्होंने बताया कि 546 नये मामलों के साथ ही जिले में कोविड-19 के मरीजों की कुल तादाद बढ़कर 37,661 हो गयी है. इनमें से 732 मरीजों (Patients) की मौत हो चुकी है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 22, 2020, 12:22 PM IST
  • Share this:



इंदौर. कोविड-19 (COVID-19) की नयी लहर के बीच मध्य प्रदेश में इस महामारी से सबसे ज्यादा प्रभावित इंदौर (Indore) जिले में पिछले 24 घंटों के दौरान 546 नये संक्रमित मिले हैं. यह जिले में इस महामारी के पिछले आठ महीने से जारी प्रकोप के दौरान एक ही दिन में मिले संक्रमितों की सर्वाधिक तादाद है. अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि 546 नये मामलों के साथ ही जिले में कोविड-19 के मरीजों की कुल तादाद बढ़कर 37,661 हो गयी है. इनमें से 732 मरीजों (Patients) की मौत हो चुकी है.

सरकारी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चलता है कि जिले में महामारी के मरीजों की मृत्यु दर 1.94 फीसद के स्तर पर है जो 1.46 प्रतिशत के मौजूदा राष्ट्रीय औसत के मुकाबले अधिक है. अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,825 मरीजों का इलाज किया जा रहा है. इनमें घरों में पृथक-वास (होम आइसोलेशन) में रखे गये मरीज भी शामिल हैं. उन्होंने बताया कि जिले में अब तक 34,104 लोग इलाज के बाद कोरोना वायरस संक्रमण से मुक्त हो गए हैं. करीब 35 लाख की आबादी वाले जिले में कोविड-19 के प्रकोप की शुरूआत 24 मार्च से हुई, जब पहले चार मरीजों में इस महामारी की पुष्टि हुई थी.
यात्रियों की संख्या में कम होनी शुरू हो गई है


वहीं, कुछ देर पहले इंदौर से खबर सामने आई थी कि कोरोना (Corona) के कारण बंद हुई घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर फिर से संकट के बादल छाने लगे हैं. इसके पीछे कोरोना दोबारा से वजह बन रहा है. दोबारा से बढ़ते कोरोना के कारण लोग हवाई यात्रा (Air travel) करने से बच रहे हैं, जिसका सीधा असर विमानन कंपनियों पर पड़ता दिखाई दे रहा है. अगर कुछ समय तक ऐसी ही रहा तो कंपनियां अपनी उड़ानों को बंद या उनकी फ्रीक्वेंसी कम कर सकती हैं. कोरोना की पहली लहर कम होने के बाद जब उड़ानें शुरू हुईं तो उनमें कम यात्री सफर कर रहे थे, लेकिन जैसे-जैसे कोरोना के मामले कम हुए तो यात्रियों की संख्या भी बढ़ने लगी थी. अब दोबारा से ऐसा समय आ गया है, जिसमें इंदौर एयरपोर्ट से वर्तमान में 36 से अधिक उड़ानें संचालित हो रही हैं, लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण एक बार फिर से यात्रियों की संख्या में कम होनी शुरू हो गई है.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज