लाइव टीवी

लुटेरों की भाषा सीखी, 15 दिन परदेश में रहे, तब शिकंजे में आए 50 लाख रुपए लूटने वाले शातिर

Vikas Singh Chauhan | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 13, 2019, 7:19 PM IST
लुटेरों की भाषा सीखी, 15 दिन परदेश में रहे, तब शिकंजे में आए 50 लाख रुपए लूटने वाले शातिर
क्राइम ब्रांच ने उड़ीसा से गिरफ्तार किए दो बदमाश.

इंदौर (Indore) शहर के विभिन्न थाना इलाकों में कुछ दिन पहले सिलसिले वार लूट की वारदातों से हड़कंप मच गया था. जबकि बदमाशों को गिरफ्तार करने में सफलता नहीं मिलने पर क्राइम ब्रांच (Crime Branch) ने एक स्‍पेशल टीम बनाने का फैसला किया. बदमाशों को पकड़ने के लिए टीम को ना सिर्फ उड़ीसा में 15 दिन डेरा डालना पड़ा बल्कि स्‍थानीय भाषा भी सीखनी पड़ी.

  • Share this:
इंदौर. शहर के विभिन्न थाना इलाकों में कुछ समय पूर्व सिलसिले वार लूट की वारदातें हुई थीं और इससे खासा हड़कंप मच गया था. जबकि पुलिस लगातार प्रयायों के बाद भी आरोपियों तक नहीं पहुंच पा रही थी. आपको बता दें कि जूनी इंदौर थाना (Juni Indore Police Station) क्षेत्र में व्यापारी जब अपनी दुकान बंद कर घर जा रहा था तो उस वक्‍त दो बदमाश कार के पास आए और उससे कार पंचर होने की बात कही. जैसे ही व्यापारी (Merchant) का ध्यान भटका वैसे ही वह 27 लाख रुपये से भरा बैग लेकर भाग निकले. हालांकि इस दौरान वह रास्‍ते में लगे सीसीटीवी में कैद हो गए थे. शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने सीसीटीवी के आधार पर इलाके में सर्चिंग की, लेकिन बदमाशों का कोई सुराग नहीं लगा. जबकि इन आरोपियों की तलाश सांवेर पुलिस, जूनी इंदौर पुलिस और महू समेत अन्य थानों की पुलिस सरगर्मी से कर रही थी, लेकिन कोई कामयाबी नहीं मिली. इसके बाद क्राइम ब्रांच (Crime Branch) का एक दल गठित किया गया, जिसे आरोपियों को पकड़ने का टास्‍क सौंपा गया.

फिर यूं पुलिस ने पकड़े आरोपी
तकनीकी और सीसीटीवी के आधार पर पुलिस को उड़ीसा के शातिर बदमाशों का घटना के वक्‍त का मूवमेंट मिला था, जिसमें चार बदमाश दिखाई दिए थे. लिहाजा क्राइम ब्रांच ने आरोपियों को पकड़ने के लिए ना सिर्फ उड़ीसा में 15 दिन तक डेरा डाला बल्कि वहां की स्‍थानीय भाषा भी सीखी. इसके बाद स्‍पेशल टीम आरोपियों को पकड़ने में सफल रही. इस दौरान हैरान करने वाला भी खुलासा हुआ. जी हां, पुलिस को पता चला कि उस गांव के युवा एक साथ में चोरी की वरदात को अंजाम देने के लिए अलग अलग राज्यों में निकलते हैं और तय समय में वारदात को अंजाम देने के बाद वापस लौट आते हैं. यही नहीं, आरोपी बैंक के आस पास ही रेकी करते थे और बड़ा व्यापारी जब पैसा लेकर जाता था तो उसका पीछा करते थे. इसके बाद रास्ते में व्यापारी का ध्यान भटका कर उसे बातों में अटकाते थे और फिर गैंग का दूसरा साथी रुपयों से भरा बैग लेकर फरार हो जाता था. वैसे पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने इंदौर के विभिन्न थाना इलाकों में चार से पांच वारदातों को अंजाम देने की बात कबूल की है.

 Crime Branch, SSP Ruchivardhan Mishra, जूनी इंदौर थाना, क्राइम ब्रांच, एसएसपी रूचिवर्धन मिश्र
क्राइम ब्रांच ने उड़ीसा से गिरफ्तार किए दो बदमाश.


इन घटनाओं को दिया अंजाम
>>आरोपियों ने पहली वारदात को जूनी इंदौर थाना क्षेत्र में अंजाम दिया था. आरोपी स्टील व्यापारी से 27 लाख रुपयों से भरा बैग लेकर फरार हो गए थे.
>>आरोपियों ने दूसरी वारदात को अंजाम किशनगंज थाना इलाके में दिया था. बिल्डर और ट्रांसपोर्ट व्यापारी की कार से 12 लाख रुपये से भरा बैग लेकर फरार हो गए.>>आरोपियों ने तीसरी वारदात को सांवेर थाना क्षेत्र स्थित ज्वैलरी शॉप पर अंजाम दिया था. उन्‍होंने ताले में फेविकोल डालकर मालिक को ताला खोलने में उलझाया. फिर रुपये और 10 लाख के करीब की ज्वैलरी से भरा बैग लेकर फरार हो गए.
>>इसके अलावा आरोपियों ने महू, पीथमपुर और धार जिले में कई वारदात को अंजाम देने की बात पुलिस पूछताछ में कबूल की है.

ऐसे आरोपियों ने कबूला जुर्म
पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू की तो उन्होंने हिंदी की जानकारी ना होने से ही इंकार कर दिया, लेकिन जब सख्ती से पूछताछ की तो अपना जुर्म कबूल कर लिया. आरोपियों ने बताया कि उनके गिरोह के सदस्यों ने उड़ीसा के स्टेशन से अपनी अपनी रेसिंग मोटर बाइक बुक करवायी थी और बाइक आने के बाद खुद को मेडिकल स्टूडेंट बताकर देवास और उज्जैन में कमरे किराये पर लिए थे. जबकि वह अपनी बाइक से इंदौर आकर बैंक के पास रेकी करते थे और करीब एक महीन में अलग-अलग इलाकों में विभिन्न व्यापारियों से लूट की वारदात को अंजाम देने के बाद गिरोह के एक एक सदस्य उड़ीसा के लिए रवाना हो जाते थे. साथ ही उन्‍होंने बताया कि उनका उद्देश्य सिर्फ नगदी लूटना ही रहता था, वह गाड़िया और अन्य चीजे चोरी नहीं करते थे. क्राइम ब्रांच ने आरोपियों से पांच लाख रूपये के सोने के आभूषण जब्त किये हैं. जबकि पुलिस गिरोह के अन्य सदस्यों की तलाश में जुटी है, ताकि अन्‍य वारदातों का खुलासा हो सके.

एसएसपी ने कही ये बात
एसएसपी रूचिवर्धन मिश्र (SSP Ruchivardhan Mishra) के मुताबिक उड़ीसा का गैंग शहर में लूट की सिलसिले वार वारदातों अंजाम दे रहा था. क्राइम ब्रांच ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है और उनसे पूछताछ में चार वारदातों का खुलासा हुआ. इसके अलावा इंदौर सहित आस पास के जिलों में भी बदमाशों ने वारदात को अंजाम देने की बात कबूल की है. सभी जिलों के पुलिस अधीक्षक को जानकारी दी जा रही है और कई बड़ी वारदातों का खुलासा होने की संभावना है.

ये भी पढ़ें-

कांग्रेस ने 'भारत बचाओ रैली' के लिए झोंकी ताकत,कमलनाथ ने दिल्‍ली में डाला डेरा

देश के 23 प्रदेशों में मृगनयनी शोरूम खोलेगी कमलनाथ सरकार, ये है मकसद

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 13, 2019, 7:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर