Home /News /madhya-pradesh /

नोटबंदी का असर: भ्रष्ट अफसरों से जब्त पुराने नोटों से 6.25 करोड़ की एफडी

नोटबंदी का असर: भ्रष्ट अफसरों से जब्त पुराने नोटों से 6.25 करोड़ की एफडी

लोकायुक्त पुलिस ने छापों में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों की शक्ल में जब्त करीब सवा छह करोड़ रुपए की मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के एक आदेश के मुताबिक सावधि जमा (एफडी) योजना के रूप में बैंक में जमा करा दी है.

लोकायुक्त पुलिस ने छापों में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों की शक्ल में जब्त करीब सवा छह करोड़ रुपए की मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के एक आदेश के मुताबिक सावधि जमा (एफडी) योजना के रूप में बैंक में जमा करा दी है.

लोकायुक्त पुलिस ने छापों में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों की शक्ल में जब्त करीब सवा छह करोड़ रुपए की मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के एक आदेश के मुताबिक सावधि जमा (एफडी) योजना के रूप में बैंक में जमा करा दी है.

  • Agencies
  • Last Updated :
    लोकायुक्त पुलिस ने छापों में 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों की शक्ल में जब्त करीब सवा छह करोड़ रुपए की मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय के एक आदेश के मुताबिक सावधि जमा (एफडी) योजना के रूप में बैंक में जमा करा दी है.

    प्रदेशभर में भ्रष्टाचार के आरोपी 156 अफसरों व कर्मचारियों के घर से कुल सवा छह करोड़ रुपए जब्त हुए थे. लोकायुक्त संगठन के सात संभाग में सबसे ज्यादा रकम भोपाल संभाग से दो करोड़ रुपए जमा कराई गई है.

    लोकायुक्त पुलिस की इंदौर इकाई के डीएसपी बीएस परिहार ने बताया कि पिछले एक दशक के दौरान भ्रष्टाचार के 30 मामलों में सरकारी कारिंदों के ठिकानों पर मारे गये छापों में जब्त कुल एक करोड़ 61 लाख 56 हजार रुपए की नकदी की एक राष्ट्रीयकृत बैंक में अलग-अलग एफडी करायी गयी है.

    उन्होंने बताया कि यह नकदी 500 और 1,000 रुपए के उन पुराने नोटों के रूप में है, जो सरकार की आठ नवंबर की नोटबंदी की घोषणा के चलते अब वैध मुद्रा नहीं रह गये हैं. उच्च न्यायालय के एक आदेश के मुताबिक एफडी कराने के लिये इस नकदी को सरकारी कोषालय से पिछले 10 दिन में निकाला गया.

    डीएसपी ने बताया कि लोकायुक्त पुलिस भ्रष्टाचार के मामलों में मारे गये छापों में जो नकदी जब्त करती है, उसे सरकारी कोषालय में जमा कर देती है. इन मामलों में अदालत अपना अंतिम फैसला सुनाते वक्त तय करती है कि यह नकदी किसे सौंपी जाए.

    उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ ने एक पूर्व सरकारी अधिकारी के आय के ज्ञात स्रोतों से ज्यादा संपत्ति रखने के मामले में 19 दिसंबर को आदेश दिया था कि भ्रष्टाचार और अन्य आपराधिक मामलों में जब्त 500 और 1,000 रुपए के पुराने नोटों को नोटबंदी के मद्देनजर 30 दिसंबर तक राष्ट्रीयकृत बैंकों में सावधि जमा (एफडी) योजना के तहत जमा करा दिया जाए.

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर