डीजीपी ने इंदौर संभाग की कानून व व्यवस्था और अपराधों की समीक्षा की

ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 5:22 PM IST
डीजीपी ने इंदौर संभाग की कानून व व्यवस्था और अपराधों की समीक्षा की
डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला.
ETV MP/Chhattisgarh
Updated: September 17, 2017, 5:22 PM IST
इंदौर पुलिस कंट्रोल रूम में प्रदेश के डीजीपी ऋषि कुमार शुक्ला ने वरिष्ठ अधिकारियों की  बैठक ली. इस बैठक में संभाग भर के तमाम पुलिस अधिकारी मौजूद रहे. बैठक में डीजीपी ने डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्ष्क प्रशांत चौबे और क्राइम ब्रांच के एएसपी अमरेंद्र सिंह की जमकर तारीफ की.

डीजीपी शुक्ला रविवार को इंदौर पहुंचे और संभाग के सभी अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था औऱ अपराधों की समीक्षा की. उन्होंने इंदौर संभाग के सभी पुलिस अधिकारियों को ट्विटर सहित सोशल मीडिया के अन्य माध्यमों पर सक्रिय रहने के भी निर्देश दिए.

बैठक में नवरात्रि और मोहर्रम सहित आने वाले सभी त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से निपटाने और इस दौरान सुरक्षा व्यवस्था माक़ूल रखने सम्बंधी विषयों पर भी विस्तार से चर्चा हुई.

बैठक के बाद मीडिया से चर्चा में डीजीपी ने इंदौर में सिर्फ़ सड़क दुर्घटनाओं के आंकड़ों में कमी पर संतोष जताया, जबकि गुंडों के मकान तोड़ने की कार्रवाई की भी तारीफ़ की है. आगे भी त्योहारों के बाद दूसरे दौर की कार्रवाई होने की बात कही.

डीजीपी ने पुलिस और जनता के बीच बेहतर संवाद के लिए भी कई क़दम उठाने की बात पर ज़ोर दिया. प्रदेश पुलिस के मुखिया के मुताबिक साइबर अपराध चुनौती बना हुआ है. इससे निपटने के लिए 15 सौ अधिकारियों को तकनीकी रूप से कुशल बनाया गया है. आने वाले दिनों में हर जिले मे नोडल अधिकारी नियुक्त करने की बात भी डीजीपी ने कही.

डीजीपी ने माना है कि प्रदेश में करीब 250 योग्य अधिकारियों की जरुरत है, जिसकी कमी के कारण कई बार अपराधों की विवेचना सही नहीं हो पाती है.
First published: September 17, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर