Home /News /madhya-pradesh /

दिग्विजय ने मोदी सरकार पर कसा तंज, बोले- बापू जीवित होते तो आर्टिकल 370 पर कश्मीर यात्रा की कर देते घोषणा

दिग्विजय ने मोदी सरकार पर कसा तंज, बोले- बापू जीवित होते तो आर्टिकल 370 पर कश्मीर यात्रा की कर देते घोषणा

दिग्विजय सिंह ने आर्टिकल 370 के बहाने मोदी सरकार पर साधा निशाना.

दिग्विजय सिंह ने आर्टिकल 370 के बहाने मोदी सरकार पर साधा निशाना.

मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister Digvijay Singh) ने गांधी जयंती के मौके पर मोदी सरकार (Modi Government) पर तंज करते हुए कहा कि अगर महात्मा गांधी जीवित होते तो जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu-Kashmir) से विशेष दर्जा वापस लिए जाने के दिन ही दिल्ली से श्रीनगर तक यात्रा की घोषणा कर देते.

अधिक पढ़ें ...
    इंदौर. महात्‍मा गांधी (Mahatma Gandhi) की 150वीं जयंती के मौके पर जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) को लेकर मोदी सरकार (Modi Government) पर निशाना साधते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्‍य प्रदेश के पूर्व मुख्‍यमंत्री दिग्विजय सिंह (Former Chief Minister Digvijay Singh) ने बुधवार को कहा कि अगर महात्मा गांधी जीवित होते तो राज्य से विशेष दर्जा वापस लिए जाने के दिन ही दिल्ली से श्रीनगर तक यात्रा की घोषणा कर देते. उन्‍होंने इंदौर में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, 'जिस दिन संसद में मोदी सरकार ने (जम्मू-कश्मीर से जुड़ा) अनुच्छेद 370 हटाया, उस दिन अगर महात्मा गांधी जिंदा होते, तो वह उसी दिन दिल्ली के लाल किले से श्रीनगर के लाल चौक की अपनी यात्रा की घोषणा कर देते.'

    दिग्‍विजय ने कही ये बात

    इस दौरान 72 वर्षीय राज्यसभा सांसद दिग्‍विजय ने कहा, 'पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी हमेशा कहते थे कि कश्मीर समस्या का हल जम्हूरियत (लोकतंत्र), कश्मीरियत और इंसानियत से मिल सकता है, लेकिन मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने इन तीनों सिद्धांतों को विदा देकर उनकी (अटलजी) इस विचारधारा को समाप्त कर दिया.' जबकि दिग्विजय ने पाकिस्तान में बहुसंख्यकों के अतिवाद से हालात बिगड़ने का हवाला देते हुए कहा कि मुस्लिमों के चरमपंथीकरण की तरह हिंदुओं को भी चरमपंथी विचारधारा की ओर धकेलना खतरनाक है.

    उन्होंने कहा, 'आपने (संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र में) पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का हालिया भाषण सुना होगा जिसमें वह इस्लामोफोबिया और इस्लामी चरमपंथ की बात कर रहे थे. इसके विरोध में 'रेडिकलाइजेशन ऑफ द हिंदूज' (हिंदुओं का चरमपंथीकरण) की बात की जा रही है और 'रेडिकलाइजेशन ऑफ द हिंदूज' भी उतना ही खतरनाक है, जितना खतरनाक 'रेडिकलाइजेशन ऑफ द मुस्लिम्स' (मुस्लिमों का चरमपंथीकरण) है.

    पाकिस्‍तान जैसे होंगे भारत के हालात
    यही नहीं, दिग्विजय ने इस दौरान कहा कि पाकिस्तान में बहुसंख्यकों का सांप्रदायिकरण हुआ है और वहां के हालात आप देख ही रहे हैं. इसी तरह अगर भारत में बहुसंख्यकों का सांप्रदायिकरण होगा, तो इसके दुष्परिणामों से हमारे देश को बचाना आसान नहीं होगा.

    जबकि महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से भाजपा की देश भर में शुरू हुई 'गांधी संकल्प पदयात्रा' के औचित्य पर सवाल उठाते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा, 'मैं तो इस बात को भी अजीब मानता हूं कि जिस विचारधारा ने महात्मा गांधी की हत्या की, उसी विचारधारा के लोग आज अपने कार्यकर्ताओं को संदेश दे रहे हैं कि वे एक महीने तक हर ग्राम पंचायत तक पदयात्रा करें.'

    उन्होंने तंज किया, 'मैं जानना चाहता हूं कि इस पदयात्रा के दौरान जनता के सामने गांधी दर्शन रखा जायेगा अथवा गोड़से दर्शन या गोलवलकर दर्शन को प्रदर्शित किया जायेगा.' कार्यक्रम के बाद संवाददाताओं से बातचीत में दिग्विजय ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 'फादर ऑफ इंडिया' (भारत के पिता) कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए कहा, 'अगर मोदी के मन में महात्मा गांधी के लिये थोड़ी भी इज्जत होती, तो वह तत्काल कह देते कि वह ट्रम्प की दी गयी इस उपाधि (फादर ऑफ इंडिया) को स्वीकार नहीं करते.'

    उन्होंने कहा, 'हमारे प्रधानमंत्री को कहना चाहिए था कि महात्मा गांधी ही हमारे देश के राष्ट्रपिता रहेंगे, लेकिन मुझे दु:ख है कि उन्होंने ‘फादर ऑफ इंडिया’ की उपाधि को लेकर ट्रम्प की बात का विरोध नहीं किया.'

    ये भी पढ़ें-

    बापू की जयंती पर NSUI का प्रदर्शन, कहा-गांधी के देश में नहीं चलेंगे अंग्रेजों के गुलाम
    सिर्फ सत्ता पाने और बचाने के लिए कांग्रेस करती है 'बापू' के नाम का जाप- BJP अध्‍यक्ष

    Tags: Amit shah, Article 35A, Article 370, Digvijay singh, Gandhi jayanti, Gandhi@150, Jammu and kashmir, Pm narendra modi

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर