कोरोना के कहर से MP के पीथमपुर को एक महीने में हुआ 450 करोड़ का नुकसान, जानिए पूरा मामला
Indore News in Hindi

कोरोना के कहर से MP के पीथमपुर को एक महीने में हुआ 450 करोड़ का नुकसान, जानिए पूरा मामला
कोरोना वायरस के चलते चीन से नहीं आ रहा दवाओं के लिए कच्चा माल

कोरोना वायरस (Corona Virus) से फार्मा इंडस्ट्री बीमार हो गई है. चीन से आने वाले कच्चे माल की कीमतों में करीब 40 फीसदी का उछाल आ चुका है इससे प्रदेश में भी दवाओं की कीमतें बढ़ने के आसार हैं.

  • Share this:
इंदौर. चीन से फैले कोरोना वायरस की दहशत जहां दुनियाभर में देखी जा रही है, वहीं इसका असर मध्य प्रदेश के फार्मा उद्योग (Pharma Industries) पर भी पड़ने लगा है. देश के फार्मा उद्योग में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल का 70 फीसदी हिस्सा चीन से आता है. वायरस के असर के चलते कच्चे माल (Raw Material) की पूर्ति नहीं हो रही है, जिससे प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर और पीथमपुर का फार्मा उद्योग (Pithampur Pharma Industries) प्रभावित होने लगा है. मांग की तुलना में सप्लाई बेहद कम होने के कारण कच्चे माल की कीमतों में 30 से 40 फीसदी तक का इजाफा हो गया है, जिससे अब दवा की कीमतें बढ़ने के आसार बन गए हैं.

महीने भर में 450 करोड़ का व्यापार ठप्प
इंदौर और पीथमपुर से चाइना का रोजाना औसतन 15 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार है इस हिसाब से अंदाजा लगाया जाय तो महीने भर में सिर्फ इन दो शहरों का ही 450 करोड़ से अधिक व्यापार ठप हुआ है. दवाइयां बनाने के लिए दुनिया में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला पैरासिटामॉल जो 1 सप्ताह पहले तक 250 रुपए किलो में मिल रहा था, उसकी कीमत 450 रुपए किलो तक पहुंच गई है. सिर्फ पैरासिटामॉल की कीमतों में एक सप्ताह में दोगुने से ज्यादा की वृद्धि हो गई है, वहीं डायक्लोफीनिक का रेट 700-800 रूपये किलो से 1500 रुपए किलो तक पहुंच गया है. इसी तरह दूसरी दवाओं में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल की कीमतों में भी 20 से लेकर 40 फीसदी तक इजाफा हो गया है.

News - महंगा हो गया है दवाओं का कच्चा माल
महंगा हो गया है दवाओं का कच्चा माल




कच्चे माल की आपूर्ति रुकी, 20 फीसदी कम हो रहा उत्पादन


मध्य प्रदेश स्मॉल स्कैल मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष हिमांशु शाह का कहना है कि कच्चे माल की कीमतें बढ़ने और आवश्यकता के अनुरूप पूर्ति न होने से छोटे उद्योगों के उत्पादन पर असर शुरू हो गया है. कोरोना वायरस के चलते जनवरी के अंत से चीन से इंपोर्ट बंद है. चीन से हर महीने 100 करोड़ का कच्चा माल आता था, लेकिन वो बंद होने से करीब 20 फीसदी उत्पादन कम हो गया है.

सरकारी अस्पतालों में बंटने वाली फ्री दवाओं पर होगा असर
बेसिक ड्रग डीलर एसोसिएशन के महासचिव जयप्रकाश मूलचंदानी का कहना है कि सर्दी खांसी में उपयोग की जाने वाली छोटी से छोटी गोली से लेकर कैंसर और एड्स जैसी बीमारियों की दवाई बनाने में लगने वाला इंटरमीडिएट्स यानि कच्चा माल चीन से आयात होता है, लेकिन ये आयात बंद होने से सरकारी अस्पतालों में वितरित होने वाली मुफ्त दवाओं की सप्लाई पर भी असर होगा. माल नहीं आने और उत्पादन कम होने के कारण दवाएं महंगी हो रही हैं.

News - केंद्रीय मंत्री अश्विनी कमार चौबे ने कहा कि अगले 3 महीनों तक दवाओं की कमी नहीं होने देंगे
केंद्रीय मंत्री अश्विनी कमार चौबे ने कहा कि अगले 3 महीनों तक दवाओं की कमी नहीं होने देंगे


दवाओं से जुड़े उद्योग भी प्रभावित होंगे
मूलचंदानी ने बताया कि फार्मा इंडस्ट्री का प्रभाव 10 अलग-अलग उद्योगों पर होता है. केमिकल के मिलने से लेकर उनकी पैंकिग, बॉटल बनाने वाली कंपनी, कैप्सूल के खोखे बनाने वाले, बॉटल के ढक्कन बनाने वाले, प्रिंटिंग करने वाले, ट्रांसपोर्टेशन सिस्टम समेत दूसरे उद्योग फार्मा इंडस्ट्री से जुड़े हैं. कच्चे माल की कमी के चलते उत्पादन कम होने पर इस सभी पर असर होगा

केंद्रीय मंत्री ने कहा- अगले 3 महीनों तक दवाओं की कमी नहीं होने देंगे
चीन से इंपोर्ट बंद होने का सबसे ज्यादा असर बैक्टीरिया से होने वाले संक्रमण के इलाज पर पड़ने वाला है. संक्रमण के इ्लाज में इस्तेमाल किए जाने वाले एंटीबायोटिक, एजिथ्रोमाइसिन की कीमत में 70 फीसदी तक का इजाफा होने के संकेत मिलने लगे हैं. यदि मार्च के पहले हफ्ते तक सप्लाई बहाल नहीं होती तो फार्मा इंडस्ट्री में मुश्किल हालात हो जाएंगे, हालांकि केन्द्र सरकार इस समस्या से निपटने के लिए युद्ध स्तर पर काम कर रही है. केन्द्र सरकार के स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी कमार चौबे का कहना है कि सरकार हरसंभव प्रयास कर रही है. उनका दावा है कि अगले तीन महीनों तक दवाओं की कमी नहीं होने जी जाएगी

ये भी पढ़ें - 
दागी अफसरों पर 'मेहरबान' कमलनाथ सरकार, सजा देने के बजाए कर रही है ये काम
मध्य प्रदेश में अब 15 दिन में मिल जाएगा नये उद्योग लगाने का लायसेंस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading