Home /News /madhya-pradesh /

durlabh kashyap ujjain gangster true life story had unique style gave advertisement on facebook to commit crime cgpg

कहानी गैंगस्टर दुर्लभ कश्यप की जो माथे पर लगाता था तिलक, क्राइम करने के लिए देता था विज्ञापन

Durlabh Kashyap News: दुर्लभ कश्यप ने कम उम्र में जुर्म की दुनिया में कदम रख लिया था. 2020 में हुए गैंगवार में उसकी मौत हो गई.

Durlabh Kashyap News: दुर्लभ कश्यप ने कम उम्र में जुर्म की दुनिया में कदम रख लिया था. 2020 में हुए गैंगवार में उसकी मौत हो गई.

Durlabh Kashyap Ujjain Life Story: उज्जैन के एक सामान्य परिवार का बेटा दुर्लभ कश्यप (Durlabh Kashyap Murder) बचपन से डॉन बनने का सपना देखने लगा था. पिता कारोबारी और माता टीचर. जैसे-जैसे उम्र बढ़ती गई दुर्लभ जुर्म की दुनिया में आगे बढ़ता गया. माथे पर तिलक, आंखों में काजल और कंधे पर गमछा उसका स्टाइल बन गया. उसने अपना एक गैंग भी बना लिया और सभी लड़के उसके जैसे ड्रेस पहनने लगे. फेसबुक पर दुर्लभ (Durlabh Kashyap News) अपने गैंग को प्रमोट किया करता था. उसने अपने फेसबुक प्रोफाइल में क्राइम करने के लिए एक विज्ञापन भी लिख रखा था, 'किसी भी तरह के विवाद के निपटारे के लिए संपर्क करें.' वह अक्सर सोशल मीडिया पर हथियार और अपने गैंग के साथ फोटो शेयर किया करता था. उसके हरकतें देख लोग उसे 'उज्जैन का डॉन' कहने लगे थे. 6 सितंबर 2020 को गैंगवार में दुर्लभ मारा गया.

अधिक पढ़ें ...

उज्जैन. आपने कई गैंगस्टर के किस्से कहानी सुनी और पढ़ी होंगी. हम आपको ऐसे बदमाश की कहानी बताने जा रहे हैं जो कच्ची उम्र में जुर्म की दुनिया पर राज करना चाहता था. उसका एक अलग स्टाइल था तो युवाओं के बीच काफी पॉपुलर भी हुआ. हम बात कर रहे हैं उज्जैन के गैंगस्टर दुर्लभ कश्यप की. उसकी उम्र महज 20 साल की थी, लेकिन उसने लोगों के दिल में अपना खौफ बैठा लिया था. माथे पर तिलक, आंखों में काजल और कंधे पर काला कपड़ा दुर्लभ का स्टाइल स्टेटमेंट था.  6 सितंबर 2020 को हुए गैंगवार में उसकी मौत हो गई. उस पर कई आपराधिक मामल दर्ज थे. माना जाता है कि आज भी उसके नाम से कुछ गैंग एक्टिव हैं.

दुर्लभ कश्यप का जन्म मध्य प्रदेश के उज्जैन में साल 2000 में हुए था. उसके पिता कारोबारी हैं और माता टीचर. बड़े अरमानों के साथ माता पिता ने अपने बेटे का नाम दुर्लभ रखा था. उन्होंने सोचा था कि बेटा बड़ा होगा तो कुछ हटकर काम करेगा लेकिन जैसे-जैसे उम्र बढ़ती गई दुर्लभ जुर्म की दुनिया में आगे बढ़ता गया. इतना ही नहीं उसने अपने फेसबुक प्रोफाइल में क्राइम करने के लिए एक विज्ञापन भी लिख रखा था, ‘किसी भी तरह के विवाद के निपटारे के लिए संपर्क करें.’ दुर्लभ के पिता का कहना है कि कम उम्र में ही बच्चों पर ध्यान रखना चाहिए. अगर वो गलत रास्ते पर जाए तो देर होने से पहले उन्हें समझाना चाहिए.

सोशल मीडिया पर एक्टिव रहता था दुर्लभ

दुर्लभ सोशल मीडिया का शौकीन था. उसने अपने और अपने गैंग को प्रमोच करने के लिए फेसबुक का सहारा है. उसने जुर्म करने के लिए अपने पेज पर विज्ञापन पर दिया था. वह सोशल मीडिया पर ही लोगों को धमकियां दिया करता था. इसी के जरिए वह लोगों से रंगदारी और सुपारी लेने लगा. इतना ही नहीं वह अपने गैंग में कम उम्र के लड़कों को अक्सर शामिल किया करता था. दुर्लभ अपने ड्रेसिंग सेंस के लिए भी काफी फेमस था. आंखों में काजल, माथे पर तिलक और कंधे पर गमछा उसकी और उसके गैंग की पहचान बन गई थी.

ये भी पढ़ें:  MP: स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी, साइबर सेल के हाथ लगे अहम सबूत, कोयंबटूर पहुंची टीम

वह अक्सर सोशल मीडिया पर हथियार और अपने गैंग के साथ फोटो शेयर किया करता था. उसके हरकतें देख लोग उसे ‘उज्जैन का डॉन’ कहने लगे थे. दुर्लभ जैसे कपड़े पहनता था, उसके गैंग के लड़के भी ठीक वैसे ही तरह के ड्रेस पहनते थे. वह अपने गैंग के जरिए वसूली, रंगदारी, लूट जैसे कई वारदातों को अंजाम दिया करता था. बताया जाता है कि 19 साल की उम्र में उस पर करीब 9 मामले दर्ज हो चुके थे.

जुर्म करने देता था विज्ञापन
बताया जाता है कि दुर्लभ ने अपने एक सोशल मीडिया प्रोफाइल पर कुख्यात बदमाश और नामी अपराधी लिख रखा था. उसने अपने पेज पर लिखा था कि किसी भी तरह के विवाद निपटारे के लिए संपर्क करें. हालांकि साल 2018 में पुलिस ने दुर्लभ और उसके गैंग का पर्दाफाश कर दिया था. कोविड वेव के दौरान साल 2020 में उसे बाकि कैदियों की तरह जेल से रिहा कर दिया गया था. 6 सितंबर 2020 को दुर्लभ चाय की एक दुकान पर था. इस दौरान उसका दूसरे गैंग से विवाद हो गया. गैंगवार में दुर्लभ मारा गया. पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक उस पर चाकूओं से 25 से ज्यादा वार किए गए थे.

Tags: Gangster, Mp news, Ujjain news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर