• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • इंदौर को स्मार्ट बनाने में रोड़ा बनी एक सड़क, 60 से घटकर 30 फुट संकरी रह गयी है

इंदौर को स्मार्ट बनाने में रोड़ा बनी एक सड़क, 60 से घटकर 30 फुट संकरी रह गयी है

1975 के मास्टर प्लान मेंं ये सड़क 60 फीट चौड़ी थी जो अब अतिक्रमण के कारण  
 30 फीट भी नहीं बची है.

1975 के मास्टर प्लान मेंं ये सड़क 60 फीट चौड़ी थी जो अब अतिक्रमण के कारण 30 फीट भी नहीं बची है.

INDORE : 1975 में आए मास्टर प्लान में इस सड़क को 60 फीट चौड़ा बताया गया था. उसके बाद नक्शे के विपरीत दुकानें और मकानों के ओटले बढ़ा लिए गए. इससे सड़क की चौड़ाई बहुत कम हो गई और रोज ट्रैफिक जाम की स्थिति बनने लगी.

  • Share this:

इंदौर. इंदौर को स्मार्ट (Smart City) बनाने में एक सड़क बाधा बन गयी है. ये सड़क बड़ा गणपति से राजवाड़ा को जोड़ती है. लेकिन अतिक्रमण और राजनीति ने इस सड़क का बेड़ा गर्क कर दिया है. रोज यहां घंटों ट्रैफिक जाम रहता है. नगर निगम अतिक्रमण हटाने के लिए तैयार है. व्यापारी कह रहे हैं दीपावली तक रुक जाइए.

इंदौर की एक सियासी सड़क की जिसकी चौड़ाई 1975 में 60 फीट से ज्यादा थी वो आज सिमट कर 30 फीट से भी कम रह गई है. बड़ा गणपति से राजवाड़ा को जोड़ने वाली इस सड़क पर ज़बरदस्त अतिक्रमण है. यही अतिक्रमण अब विकास कार्य में बाधा बना हुआ है क्योंकि इसे हटाने को लेकर जबरदस्त राजनीति हो रही है.

दीपावली तक मोहलत
बड़ा गणपति को राजवाड़ा से जोडने वाली 1.7 किलोमीटर की सड़क के चौड़ीकरण का मुद्दा सियासी रंग लेता जा रहा है. आज कांग्रेस विधायक संजय शुक्ला ने इस इलाके का दौरा कर व्यापारियों से उनकी समस्या जानी और दीपावली तक तोड़ फोड़ न करने की प्रशासन से मांग की. बड़ा गणपति चौराहे से कृष्णपुरा छतरी तक 60 फीट चौड़ी मास्टर प्लान की इस सड़क का काम सितंबर में शुरू होने वाला है. इसमें सड़क निर्माण में सबसे बड़ी चुनौती 250 से ज्यादा छोटी-बड़ी बाधाएं हटाने की है. इसके लिए नगर निगम प्रशासन पहले ही संबंधित संपत्ति स्वामियों और दुकानदारों को नोटिस दे चुका है.CONG MLA Sanjay Shukla

ये भी पढ़ें-Shri Krishna Janmashtami 2021 : इंदौर में विश्व का एक मात्र यशोदा मंदिर, मां की गोद में हैं बाल गोपाल

4 दिन का वक्त
ये सड़क स्मार्ट सिटी मिशन के तहत 32 करोड़ रुपये की लागत से बनाई जानी है और इसके लिए नगर निगम चार दिन बाद अतिक्रमण हटाना शुरू कर देगा. शहर की दूसरी स्मार्ट रोड की तरह इस पर भी दोनों तरफ पानी, सीवर, स्टार्म वाटर लाइन और भूमिगत बिजली केबल बिछाई जानी है. ये रोड चौड़ी होने के बाद जवाहर मार्ग, सुभाष मार्ग पर वाहनों का दबाव कम हो जाएगा, क्योंकि अभी सड़क संकरी होने से लोग बड़ा गणपति-कृष्णपुरा रोड का उपयोग करने से बचते हैं. लेकिन स्थानीय दुकानदार इसका विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है सरकार उनकी दुकानों और मकानों को तोड़ती है तो उन्हें उसका मुआवजा दिया जाना चाहिए. लेकिन नगर निगम उन्हें कोई मुआवजा नहीं दे रहा है जबकि दूसरे राज्यों में मुआवजा दिया जाता है.

कांग्रेस पर राजनीति करने का आरोप
उधर,बीजेपी रोड चौड़ीकरण के विरोध को कांग्रेस का पाखंड बता रही है. बीजेपी के प्रवक्ता उमेश शर्मा का कहना है स्मार्ट सिटी के तहत इंदौर शहर को सुंदर बनाया जा रहा है. इसके लिए प्रशासन और व्यापारियों को बीच अतिक्रमण हटाने की सहमति बन गई है. कुछ लोग तो खुद ही अपने अतिक्रमण हटा रहे हैं लेकिन कांग्रेस इस पर राजनीति कर रही है.

एयरपोर्ट से सीधे राजवाड़ा
1975 में आए मास्टर प्लान में इस सड़क को 60 फीट चौड़ा बताया गया था. उसके बाद नक्शे के विपरीत दुकानें और मकानों के ओटले बढ़ा लिए गए. इससे सड़क की चौड़ाई बहुत कम हो गई और रोज ट्रैफिक जाम की स्थिति बनने लगी. इस रोड के बन जाने से एयरपोर्ट से आने वाले पर्यटक सीधे राजवाड़ा पहुंच सकेंगे. उन्हें किसी तरह के ट्रैफिक जाम का सामना नहीं करना पड़ेगा, ये इंदौर के लिए जरूरी भी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज