उज्जैन मंडी में दो रुपये किलो बिक रहा है लहसुन, किसानों को हुआ नुकसान

उज्जैन सब्जी मंडी में लहसुन 2 रुपये किलों से 5 रुपये किलो की दर से बिक रहा है. जिन किसानों की फसल 2 रुपये किलो के भाव से बिक रही है वे अपनी फसल का खर्च भी नहीं निकाल पा रहे हैं.

Anand Nigam | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 7, 2018, 2:58 PM IST
उज्जैन मंडी में दो रुपये किलो बिक रहा है लहसुन, किसानों को हुआ नुकसान
मंडी में आया लहसुन
Anand Nigam | News18 Madhya Pradesh
Updated: December 7, 2018, 2:58 PM IST
मध्य प्रदेश की बड़ी मंडियों में शुमार होने वाले चिमनगंज मंडी में लहसुन बेचने आये किसानों के हाथ निराशा लग रही है. दरअसल, उज्जैन सब्जी मंडी में लहसुन 2 रुपये किलो से 5 रुपये किलो की दर से बिक रहा है. जिन किसानों की फसल 2 रुपये किलो के भाव से बिक रही है वे अपनी फसल का खर्च भी नहीं निकाल पा रहे हैं. लहसुन की आवक अधिक और मांग कम होने के कारण किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ा रहा है.

उज्जैन-आगर रोड स्थित सब्जी मेंडी में लहसुन और प्यार की बंपर आवक हो रही है. मंडी में हर रोज करीब 3500 क्विंटल लहसुन आ रहा है. अधिक आवक व कम मांग के कारण लहसुन कम भाव से बिक रहा है, जिससे लहसुन उत्पादक किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है.

मंडी में लहसुन दो रुपये से लेकर पांच रुपये प्रति किलों के भाव से बिक रहा है. ऐसे में जिन किसानों की उपज 2 रुपये किलों की दर से बिक रही है उन्हें लहसुन की लागत भी नहीं मिल रही है. मंडा व्यापारियों का कहना है कि जो लहसुन 7 रुपये किलों की दर से बिक रहा है वह उच्च गुणवत्ता का है, लेकिन वह भी किसान घाटे में बेच रहे हैं. मंडी में कुछ किसान ऐसे हैं जिन्हें फसल के खरीददार ही नहीं मिल रहे हैं.

यह भी पढ़ें-  प्याज 50 पैसे प्रति किलो, फसल के साथ किसान भी हो रहा है बर्बाद

यह भी पढ़ें-  दो लाख कट्टे लहसुन की फर्जी खरीदी दर्शा करोड़ों की चपत लगाने की कोशिश
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर