लाइव टीवी

65 लाख के जमीनी विवाद में हुई थी प्रॉपर्टी कारोबारी की हत्‍या, 10 दिन बाद पुलिस के हत्‍थे चढ़े 4 आरोपी

Vikas Singh Chauhan | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 31, 2019, 9:11 PM IST
65 लाख के जमीनी विवाद में हुई थी प्रॉपर्टी कारोबारी की हत्‍या, 10 दिन बाद पुलिस के हत्‍थे चढ़े 4 आरोपी
65 लाख के जमीनी विवाद में 20 लाख रुपए की दी थी सुपारी.

इंदौर जिले (Indore District) के हातोद पुलिस थाना (Hatod Police Station) क्षेत्र के पालिया इलाके में 21 तारीख की देर शाम प्रॉपर्टी कारोबारी अरविन्द (Arvind) की हत्‍या के मामले में पुलिस ने दस दिन की कवायद के बाद चार आरोपी गिरफ्तार किए हैं. जबकि मुख्‍य आरोपी अभी भी फरार है.

  • Share this:
इंदौर. मध्‍य प्रदेश के इंदौर जिले (Indore District) के हातोद पुलिस थाना (Hatod Police Station) क्षेत्र के पालिया इलाके में 21 तारीख की देर शाम प्रॉपर्टी कारोबारी अरविन्द (Arvind) के दफ्तर में घुसकर दो अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या की वारदात को अंजाम दिया था. जबकि मौके पर मौजूद अरविन्द का दोस्त मनोज भी गोली लगने से घायल हो गया था. इंदौर एसएसपी रुचि वर्धन (Indore SSP Ruchi Vardhan) ने हत्यारे आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए अलग-अलग कई टीमें गठित कर मामले की जांच के आदेश दिए थे. यही नहीं इस हाई-प्रोफाइल मामले में थाना पुलिस समेत क्राइम ब्रांच भी आरोपियों की सरगर्मी से तलाश में लगी थी. हालांकि हत्याकांड के बाद से पुलिस को आरोपियों का कोई सुराग नहीं मिल रहा था, लेकिन दस दिन की कवायद के बाद चार आरोपी गिरफ्तार हुए हैं. जबकि मुख्‍य आरोपी अभी भी फरार है.

ये थी हत्‍या की वजह
मृतक अरविंद ने कुछ समय पूर्व ही पालदा इलाके में एक कॉलोनी बनाने का काम शुरू किया था. इसे पूर्व पर बार्बर शॉप संचालित करता था. कॉलोनी के लिए एक अन्य प्रॉपर्टी व्यवसायी से जमीन के लिए साथ में व्यापार करने के लिए रेशो एग्रीमेंट कर काम शुरू किया था. इसी जमीन का व्यापारी कुछ अन्य लोगों से भी सौदा कर पैसों का लेनदेन कर चुका था. इसी बात को लेकर जमीनी विवाद लम्बे समय से चल रहा था और यही वजह थी कि अमन और उसके सहयोगी अरविंद से खफा थे. यदि अरविंद दिलीप को रुपए नहीं देता ये जमीन अमन और उसके सहयोगी हड़पने की तैयारी में थे.
बहरहाल, पुलिस के लिए आरोपियों की शिनाख्त करना और आरोपियों को गिरफ्तार करना इसलिए भी बड़ी चुनौती बनी हुई थी, क्‍योंकि मृतक का जिससे पहले से विवाद था वह जेल में बंद था. हालांकि अब खुलासा हुआ है कि यह 65 लाख के जमीनी विवाद का मामला था.

20 लाख रुपए में दी थी सुपारी
जमीन हाथ से जाने से गुस्साए अमन ने 14 अक्टूबर को अपने साथी अर्जुन, नयन और शशिकांत के साथ पालिया स्थित शंकर के खेत पर पार्टी की और यहीं पर अरविंद की हत्या की प्लानिंग की. जबकि अर्जुन को हत्या के लिए 20 लाख रुपए की सुपारी दे दी. मामले में मास्टरमाइंड अमन योजनाबद्ध तरीके से बाणगंगा थाना इलाके में एक युवक पर हवाई फायर कर जेल में बंद हो गया था. जबकि उसके जेल जाने के बाद अन्‍य लोगों ने योजनाबद्ध तरीके से इलाके के एक ढाबे पर जाकर शराब पार्टी की और फिर पालिया में ही अरविन्द के दफ्तर में घुसे और पूछा अरविन्द कौन है? जैसे ही अरविन्द ने कहा हां, वैसे ही सोनू और उसके साथी आरोपी ने फायर कर दिए और चाक़ू से हमला कर मौत के घाट उतार दिया. आरोपियों को घटना को अंजाम देने पहले नगद 50 हजार रुपये मोबाइल और गाड़ी भी मुहैया कराई गई थी.

इंदौर एडीजी ये कहा
Loading...

इंदौर एडीजी वरुण कपूर के मुताबिक़ प्रॉपर्टी कारोबारी अरविन्द की हत्या की गुत्थी सुलझाकर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया. जबकि मामले में एक आरोपी अब भी फरार है और जल्द ही उसे भी गिरफ्तार किया जाएगा.

ये भी पढ़ें-
केंद्र से राहत पाने के लिए 'उपवास सत्‍याग्रह' करेगी कमलनाथ सरकार

MP सरकार 59 करोड़ में खरीदेगी नया 7 सीटर प्लेन, कैबिनेट मीटिंग में हुए ये फैसले

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 31, 2019, 8:46 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...