Home /News /madhya-pradesh /

fraud with farmers organic farming loss of 40 crore case registered against 10 accused mpsg

किसानों को फसल विदेश में बेचने का झांसा दिया और 40 करोड़ रुपये समेट कर भाग गए ठग

Indore Crime Samachar. किसानों को बिजनेस का आइडिया देकर मंडी नहीं सीधे विदेश में माल बेचने का झांसा देने वाले करोड़ों की धांधली कर फरार हो गए. जिन आरोपियों ने किसानों के साथ ठगी की है, वह खरगोन, झाबुआ, महाराष्ट्र, और गुजरात के रहने वाले हैं. जानकारी है कि बिजनेस का आइडिया सुनकर किसानों ने एक समिति बनाई और एक किसान को उसका अध्यक्ष बना दिया. जैविक खेती में जो भी उत्पादन हुआ उसे लेकर बाद में आइडिया देने वाले रफूचक्कर हो गए.

Indore Crime Samachar. किसानों को बिजनेस का आइडिया देकर मंडी नहीं सीधे विदेश में माल बेचने का झांसा देने वाले करोड़ों की धांधली कर फरार हो गए. जिन आरोपियों ने किसानों के साथ ठगी की है, वह खरगोन, झाबुआ, महाराष्ट्र, और गुजरात के रहने वाले हैं. जानकारी है कि बिजनेस का आइडिया सुनकर किसानों ने एक समिति बनाई और एक किसान को उसका अध्यक्ष बना दिया. जैविक खेती में जो भी उत्पादन हुआ उसे लेकर बाद में आइडिया देने वाले रफूचक्कर हो गए.

Indore Crime Samachar. किसानों को बिजनेस का आइडिया देकर मंडी नहीं सीधे विदेश में माल बेचने का झांसा देने वाले करोड़ों की धांधली कर फरार हो गए. जिन आरोपियों ने किसानों के साथ ठगी की है, वह खरगोन, झाबुआ, महाराष्ट्र, और गुजरात के रहने वाले हैं. जानकारी है कि बिजनेस का आइडिया सुनकर किसानों ने एक समिति बनाई और एक किसान को उसका अध्यक्ष बना दिया. जैविक खेती में जो भी उत्पादन हुआ उसे लेकर बाद में आइडिया देने वाले रफूचक्कर हो गए.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. इंदौर क्राइम ब्रांच ने किसानों से करोड़ों की ठगी करने वाले गिरोह का भांडाफोड़ कर 10 आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज किया है. आरोपियों ने किसानों को झांसे में लेकर उनसे लगभग 40 करोड़ रूपये की फसल ली और उसे औने पौने दामों में बेच दिया. फिर रफूचक्कर हो गए. आरोपियों ने किसानों को भरोसा दिलाया था कि वह जैविक खेती से होने वाली फसल को भारत सरकार के उपक्रम से विदेश में बेचेंगे. उसके लिए उन्हें एक संस्था बनानी होगी दफ्तर खोलना होगा, कुछ राशि भी जमा करना होगी. किसानो ने ऐसा ही किया और फसल उगने पर उन्हें दे दी. लेकिन ठग फसल के बदले नगद राशि लेकर रफूचक्कर हो गए.

किसानों को बिजनेस का आइडिया देकर मंडी नहीं सीधे विदेश में माल बेचने का झांसा देने वाले करोड़ों की धांधली कर फरार हो गए. जिन आरोपियों ने किसानों के साथ ठगी की है, वह खरगोन, झाबुआ, महाराष्ट्र, और गुजरात के रहने वाले हैं. जानकारी है कि बिजनेस का आइडिया सुनकर किसानों ने एक समिति बनाई और एक किसान को उसका अध्यक्ष बना दिया. जैविक खेती में जो भी उत्पादन हुआ उसे लेकर बाद में आइडिया देने वाले रफूचक्कर हो गए.

गिरोह में महिलाएं भी शामिल
ठगी के शिकार हुए सेंधवा के प्रकाश आर्या ने पुलिस के बड़े अफसरों से शिकायत की थी. बड़े अधिकारियो ने मामले की जांच क्राइम ब्रांच को सौंपी थी. बयानों के बाद क्राइम ब्रांच ने ठगी में शामिल 10 लोगों के विरुद्ध केस दर्ज कर लिया है. इसमें महिलाएं भी शामिल हैं. किसानों से कहा गया था कि तुम जैविक खेती करो. भारत सरकार के उपक्रम के माध्यम से उत्पादों को विदेश में भेजकर अच्छी कीमत मिलेगी. समिति के सदस्य उनकी बातों में आ गए और सैकड़ों एकड़ में जैविक खेती की. जैविक खेती का जो उत्पादन हुआ था, उसे भी ठगोरों को दे बैठे.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस ने जारी किया इंदौर का वचन पत्र, संजय शुक्ला अपने खर्च पर बनवाएंगे 5 फ्लाईओवर

ठगों की तलाश
आरोपियों ने माल को विदेश भी भेजा, लेकिन उसकी जो कीमत आई थी, वह समिति के सदस्यों को नहीं देते हुए खुद आपस में बांट ली, जो उपज समिति के सदस्यों ने आरोपियों को दी उसकी अनुमानित कीमत 40 करोड़ रुपए बताई जा रही है. पुलिस ने ठगी के मामले में गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है. हालांकि पुलिस अभी खाली हाथ ही है. कोई आरोपी हाथ नहीं लगा है. पुलिस का दावा है कि उनकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है.

क्राइम ब्रांच थाना प्रभारी लाइन अटैच
क्राइम ब्रांच भले ही मामले में जांच के बाद कार्रवाई का दावा कर रही हो. लेकिन अंदरखाने से मिली जानकारी यह भी है कि ठग गिरोह में शामिल एक शख्स से बड़ा लेनदेन किया गया है. उसे छोड़ दिया गया, उसे आरोपी नहीं बनाया गया है. क्राइम ब्रांच ने जब इस प्रकरण में केस दर्ज किया उसके कुछ ही देर बाद क्राइम ब्रांच थाना प्रभारी को लाइन अटैच कर दिया गया. आशंका है कि इसी लेनदेन की जानकरी बड़े अफसरों तक पहुंच गई थी.

Tags: Fraud case, Indore news. MP news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर