इंदौर में आज से फल-सब्जी-किराना दुकानें बंद, देर रात आदेश आने पर मंडी में मची अफरा तफरी

indore. पुलिस ने रात में ही चौइथराम सब्जी मंडी खाली करवायी.

indore. पुलिस ने रात में ही चौइथराम सब्जी मंडी खाली करवायी.

Indore. मंडी (Mandi) में मौजूद किसान और व्यापारी प्रशासन के इस आदेश से खफा नजर आ रहे थे. उनका कहना था कि उन्हें मोहलत दी जाती तो मंडी में रखा सामान वो बेच लेते और किसानों को यहां आने से मना कर देते.

  • Share this:

इंदौर. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के इंदौर (Indore) दौरे के बाद प्रशासन ने कोरोना कर्फ्यू में और सख्ती कर दी है. आज से सब्जी, फल, किराना दुकानें बंद कर दी गयी हैं. 31 मई तक ये रोक जारी रहेगी. दूध की दुकानें भी अब सुबह और शाम सिर्फ तय समय पर ही खुल सकेंगी. अचानक मंडी (Mandi) बंद होने से किसान और व्यापारी परेशान हो गए. लोग सब्जी खरीदने के लिए मंडी में उमड़ पड़े. पुलिस ने पूरी मंडी खाली करवायी.

इंदौर में 31 मई तक सब्जी, फल, किराना दुकानें खोलने पर रोक लगा दी गयी है. दूध की बिक्री का भी समय तय कर दिया है. गुरुवार रात जारी आदेश में शुक्रवार सुबह से ही मंडी आगामी आदेश तक बन्द रहने के निर्देश दिए गए थे. इस आदेश के बाद अचानक सबसे बड़ी चोइथराम मंडी में अचानक भीड़ बढना शुरू हो गई. इसके बाद प्रशासन और अतिरिक्त पुलिस बल ने मोर्चा संभाला और पूरा मंडी प्रांगण खाली करा लिया गया.

कोरोना कर्फ्यू का असर

प्रशासन ने कोरोना कंट्रोल करने के लिए शहर में और सख्ती का मूड बनाया है. कोरोना कर्फ्यू का अब असर देखने को मिल रहा है इसलिए प्रशासन कोरोना कंट्रोल करने के लिए इसे और आगे बढ़ाने का मूड बना रहा है. कोरोना कर्फ्यू के कारण शहर में संक्रमण की रफ्तार कम हुई है. लंबे समय बाद गुरूवार रात जारी हुए कोरोना मेडिकल बुलेटिन में पॉजिटिव मरीजों की संख्या एक हजार से कम हो गयी है. ये बहुत बड़ी राहत है. प्रशासन की योजना अगले कुछ दिनों में कई तरह की एक्टिविटी पर रोक लगाकर संक्रमण की चेन तोड़ना है.
रात में आते हैं किसान

कलेक्टर मनीष सिंह ने फल और सब्जी मंडी बंद करने का आदेश दिया है. आसपास के इलाकों में चोइथराम सबसे बड़ी मंडी है. यहां पूरे संभाग के किसान अपनी फसल लेकर आते हैं और थोक में बेच देते हैं. वह अक्सर रात के वक़्त ही मंडी पहुंच जाते हैं और सुबह बेच कर रवाना हो जाते हैं. रात में जारी आदेश की जानकारी कुछ किसानों को नहीं मिल पाई और वो सब्जी बेचने मंडी में पहुंच चुके थे. कुछ ऐसे व्यापारी थे जिन्होंने पहले से ही थोक में सब्जी खरीद कर रखी थी. उन्हें उम्मीद थी कि एक दो दिनों में उनका सामान बिक जाएगा.

पुलिस ने मंडी खाली करायी



रात में अचानक मंडी बन्द करने का आदेश आते ही अफरा तफरी का माहौल बन गया. मंडी पहुंचे किसानों को सामान बिना बेचे ही वापस जाना पड़ा. जिन व्यापारियों ने पहले से ही सामान खरीद रखा था वह भी परेशान नजर आए. इसी बीच शहर के फुटकर खरीददार अचानक मंडी पहुंचने लगे और थोक में सब्जी खरीदी. इससे वहां भीड़ होने लगी. फौरन पुलिस बल मौके पर पहुंचा मंडी खाली करायी.

किसान व्यापारी नाराज़

हालांकि मंडी में मौजूद किसान और व्यापारी प्रशासन के इस आदेश से खफा नजर आ रहे थे. उनका कहना था कि उन्हें मोहलत दी जाती तो मंडी में रखा सामान वो बेच लेते और किसानों को यहां आने से मना कर देते. लेकिन ऐसा न होने से अचानक मंडी में विपरीत परिस्थिति निर्मित हो गयी. लोगों को जैसे ही खबर लगी कि मंडी कल से नहीं खुलेगी तो वो भी सब्जी लेने दौड़ पड़े. प्रशासन की दलील है कि यदि एक दिन की मोहलत देते तो अचानक खरीदी के लिए पूरा शहर मंडी में उमड़ सकता था. कोरोनस प्रोटोकॉल ध्वस्त हो जाता.


पुलिस गश्त जारी

राजेन्द्र नगर थाना प्रभारी अमृता सोलंकी के मुताबिक प्रशासन के आदेश के बाद पूरे इलाके का दौरा कर लोगों से घर पर रहने की अपील की जा रही है. मंडी में भी कहा गया है कि प्रशासन के नियमों का पालन करें. कोई भी पैनिक न करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज