• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • नेपाल के माओवादियों के लिए इंदौर में फंडिंग! नेपालियों से रोज वसूला जा रहा है 1 रुपया

नेपाल के माओवादियों के लिए इंदौर में फंडिंग! नेपालियों से रोज वसूला जा रहा है 1 रुपया

नेपाली समाज ने वसूली की शिकायत कलेक्टर मनीष सिंह से की है.

नेपाली समाज ने वसूली की शिकायत कलेक्टर मनीष सिंह से की है.

Indore : कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा ये बहुत ही गंभीर मामला है क्योंकि ये राष्ट्र विरोधी गतिविधि है. इनकी धरपकड़ के लिए विस्तृत जानकारी इकट्ठी की जा रही है. जांच की जा रही है कितने नेपाली लोगों के पास भारत की नागरिकता है और कितने लोग अनाधिकृत रूप से रह रहे हैं.

  • Share this:

इंदौर. क्या चीन समर्थित नेपाली माओवादियों (Maoists) के लिए इंदौर से भी फंडिग हो रही है. कलेक्टर मनीष सिंह को ऐसी शिकायत मिली है. इसमें बताया गया है कि इंदौर (Indore) में रह रहे नेपालियों से एक रुपया रोज के हिसाब से चंदा लिया जा रहा है. इस शिकायत के बाद जिला प्रशासन जांच में जुट गया है और इसका नेटवर्क पूरे देश में फैले होने की आशंका जताई जा रही है.

माओवादियों की मदद
इंदौर में नेपाली संस्कृति परिषद ने कलेक्टर मनीष सिंह को एक शिकायत सौंपी है. इसमें कहा गया है कि कुछ असामाजिक तत्व माओवादियों की मदद के नाम पर नेपाली समाज के लोगों से एक रुपये रोज के हिसाब से वसूली कर रहे हैं. इंदौर जिले में आकर रोजगार कर अपना जीवन यापन कर रहे नेपाली मूल के नागरिकों से तथाकथित असामाजिक तत्व और उनसे जुड़े संगठन दबाव बनाकर ये वसूली कर रहे हैं. उनसे जबरन उगाही की जा रही है. इंदौर में रहने के लिए इनसे एक रुपया प्रतिदिन लिया जा रहा है. परिषद ने आरोप लगाया कि इस पैसे का इस्तेमाल चीन समर्थित माओवादी संगठनों की मदद में किया जा रहा है. नेपाली समाज के लोगों ने सरकार से इन असामाजिक तत्वों पर कार्रवाी की मांग की है.

कलेक्टर ने जताई चिंता
कलेक्टर मनीष सिंह ने जानकारी दी कि नेपाली संस्कृति परिषद के जागरूक नागरिक मिलने आए थे. उन्होंने शिकायत की है कि कुछ असामाजिक लोग उनसे एक रुपये रोज के हिसाब से पैसा वसूल रहे हैं. इस पैसे का उपयोग नेपाल में चल रही माओवादी गतिविधियों के लिए किया जा रहा है. वसूली करने वाले लोग भी नेपाली मूल के हैं. ये बहुत ही गंभीर मामला है क्योंकि ये राष्ट्र विरोधी गतिविधि है. इनकी धरपकड़ के लिए विस्तृत जानकारी इकट्ठी की जा रही है. जांच की जा रही है कितने नेपाली लोगों के पास भारत की नागरिकता है और कितने लोग अनाधिकृत रूप से रह रहे हैं.

नेटवर्क की जांच
नेपाली मूल के लोगों से की जा रही वसूली की बात सामने आने के बाद जांच एजेंसिया भी सक्रिय हो गई हैं. वो पता लगा रहीं है कि ये वसूली देश में और कहां कहां पर की जा रही है. इसका नेटवर्क पूरे देश में फैले होने की आशंका है. इससे देश की सुरक्षा पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं इसलिए इसका जल्द पर्दाफाश करने की जरूरत है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज