लाइव टीवी

अच्छी खबर: इंदौर के MRTB हॉस्प्टिल से COVID-19 के 11 मरीजों को मिली छुट्टी
Indore News in Hindi

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: April 7, 2020, 9:45 AM IST
अच्छी खबर: इंदौर के MRTB हॉस्प्टिल से COVID-19 के 11 मरीजों को मिली छुट्टी
किसी भी संदिग्‍ध के मिलने की स्थिति में पूरे परिवार को क्वारेंटाइन किया जा रहा है.(सांकेतिक फोटो)

एमआरटीबी हॉस्पिटल से राजेश असवारा के डिस्चार्ज होने के बाद अरविंदो हॉस्पिटल इंदौर से भी 10 मरीज़ स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं. उनके नाम मोहम्मद सलीम, इक़बाल कुरेशी, वज़ीद कुरेशी, शब्बीर, करण सिसोदिया, प्रहलाद अग्रवाल, जितेंद्र सिसोदिया, अंजू सिसोदिया, आयशा और आलिया हैं.

  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर (Indore) से अच्छी खबर यह है कि कोरोना का पहला मरीज राजेश असवारा पूरी तरह स्वस्थ हो गया है. राजेश अस्वारा समेत 11 लोगों को एमआरटीबी (MRTB) अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया है. इंदौर के राजेश कुमार असवारा (Rajesh Kumar Aswara) को 26 मार्च को गले में खराश की समस्या महसूस हुई. उन्होंने एमआरटीबी अस्पताल में परामर्श लिया, जहां उन्हें होम क्वॉरेंटाइन रहने के निर्देश दिए गए. 29 मार्च एमआरटीबी अस्पताल से राजेश के पास कॉल आया और उन्हें एमआरटीबी अस्पताल बुलाया गया. वे जब वहां पहुंचे तो उन्हें बताया गया कि उनकी कोरोना सैंपल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. उन्हें आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया था.

कोरोना के इन मरीजों को भी मिली छुट्टी

एमआरटीबी हॉस्पिटल से राजेश असवारा के डिस्चार्ज होने के बाद अरविंदो हॉस्पिटल इंदौर से भी 10 मरीज़ स्वस्थ होकर घर लौट गए हैं. उनके नाम मोहम्मद सलीम, इक़बाल कुरेशी, वज़ीद कुरेशी, शब्बीर, करण सिसोदिया, प्रहलाद अग्रवाल, जितेंद्र सिसोदिया, अंजू सिसोदिया, आयशा और आलिया हैं.



राजेश ने अपने अस्पताल के अनुभवों को साझा करते हुए बताया कि इलाज के दौरान सभी डॉक्टर्स ने उनका बहुत सहयोग किया. उन्होंने सभी डॉक्टरों की तारीफ करते हुए कहा कि वे कोरोना से जूझ रहे मरीजों की इतनी अच्छी तरीके से देखभाल कर रहे हैं और इस सेवा कार्य में खुद के जीवन की भी चिंता नहीं कर रहें हैं.



डिस्चार्ज से पहले दो बार निगेटिव रिपोर्ट आना जरूरी

राजेश की शनिवार को कोरोना की टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव पाई गई थी. मेडिकल प्रोटोकॉल के मुताबिक 2 बार निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा सकता है. यही वजह है कि राजेश का दूसरा टेस्ट रविवार को किया गया और उसकी रिपोर्ट भी निगेटिव आने के बाद उन्हें हॉस्पिटल से डिस्चार्ज कर दिया गया है. आज वे स्वस्थ एवं सकुशल हैं.

डॉक्टरों और नर्सों ने बढ़ाई हिम्मत: राजेश

राजेश असवारा का कहना है कि कोरोना के इलाज के दौरान जब वे हताश होने लगते थे तब डॉक्टर, नर्स और समस्त मेडिकल स्टाफ उनका उत्साह बढ़ाते थे. वे सभी मुझसे कहते 'करोना को हराना है और इस लड़ाई में उन्हें जीतना है'. राजेश ने इंदौर वासियों को भी संयम बरतने और सही समय पर सही उपचार लेने का आग्रह किया.उन्होने बताया कि कोरोना पर जीत पाई जा सकती है, बस आपको सही समय पर दवा लेने के साथ साथ धैर्य भी रखना है.

बहरहाल इंदौर के कमिश्रर आकाश त्रिपाठी ने बताया है कि कोरोना के काले कोहरे से इंदौर जल्द ही उबरेगा.

ये भी पढ़ें: हिंदू महिला के अंतिम संस्कार में मुस्लिमों ने की मदद, अर्थी को दिया कंधा

COVID-19 : इंदौर में कोरोना की चुनौती से निपटेगी ये स्पेशल ब्रिगेड

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 7, 2020, 9:45 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading