अपना शहर चुनें

States

Online Classes के कारण टेंशन में आए शिक्षकों का IIM इंदौर करेगा इलाज, जानिए क्या है प्लान

MP NEWS : तनाव दूर करने का ये प्लान 3 लाख शिक्षकों के लिए है.
MP NEWS : तनाव दूर करने का ये प्लान 3 लाख शिक्षकों के लिए है.

INDORE : ऑनलाइन शिक्षकों (Teachers) के बदले व्यवहार को देखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग ने आईआईएम इंदौर (IIM Indore) की टीम से प्रदेश के 39,000 स्कूल शिक्षकों का विस्तृत सर्वे कराया.

  • Share this:
इंदौर. कोरोना काल में शुरू हुआ online क्लासेस का टशन सिर्फ स्टूडेंट्स में ही नहीं बल्कि टीचर्स (Teachers) में भी तनाव बढ़ा रहा है. लेकिन चिंता की बात नहीं. टीचर्स को रिलेक्स्ड कराने के लिए IIM इंदौर तैयार है. उसने 3 लाख से ज़्यादा शिक्षकों के लिए एक प्लान तैयार किया है. लेकिन इसका लाभ सिर्फ सरकारी स्कूलों के शिक्षकों पर पड़ेगा. खुद शिक्षा विभाग के कहने पर उसने प्लान बनाया है.

कोरोना महामारी ने हमारे जीवन के हर पहलू पर असर डाला. शिक्षा क्षेत्र भी इससे अछूता न रहा. स्कूल बंद होने की वजह से ऑनलाइन क्लासेस पर जोर दिया गया.शिक्षकों को घंटों तक मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर पर नजरें गड़ाकर बच्चों को पढ़ाना पड़ा. इससे उनके दिमाग में तनाव पैदा हुआ.

39,000 शिक्षकों का सर्वे
शिक्षकों के बदले व्यवहार को देखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग ने आईआईएम इंदौर की टीम से प्रदेश के 39,000 स्कूल शिक्षकों का विस्तृत सर्वे कराया. इसमें मिले निष्कर्षों से पता चला कि मात्र 12 प्रतिशत पुरुष शिक्षक और आठ प्रतिशत महिला शिक्षक अपने सामान्य स्वास्थ्य की स्थिति से संतुष्ट थे. 32 प्रतिशत पुरुष शिक्षकों और 30 प्रतिशत महिला शिक्षकों का अनुकूल मनोवैज्ञानिक व्यवहार पाया गया. 35 प्रतिशत से अधिक पुरुष और 30 प्रतिशत महिला शिक्षक अपने काम से अत्यधिक संतुष्ट थे,जबकि 51 प्रतिशत पुरुष शिक्षक और 56 प्रतिशत महिला शिक्षक अपने समय का प्रबंधन करने में अक्षम थे.
6 मॉड्यूल तैयार


इसी सर्वे के आधार पर स्कूल शिक्षा विभाग ने  सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को IIM इंदौर की मदद से ट्रेंड करने का फैसला लिया.इसके लिए अब IIM इंदौर छह वीडियो-आधारित मॉड्यूल तैयार कर रहा है.इन प्रशिक्षण मॉड्यूल का मकसद कक्षा पहली से 12वीं तक पढ़ाने वाले 3 लाख सात हजार शिक्षकों को अपने समय का कुशलतापूर्वक मैनेजमेंट करने और ऑनलाइन पढ़ाई से बढ़ रहा तनाव कंट्रोल करना है.

हर मॉड्यूल में 12 वीडियो
इन 6 प्रशिक्षण मॉड्यूल में से प्रत्येक में12 वीडियो शामिल हैं. ये तीन प्रमुख बिन्दुओं पर केंद्रित हैं - समय प्रबंधन, तनाव प्रबंधन और स्व-प्रबंधन. वीडियो से पहले और बाद में पढ़ने के लिए सामग्री भी उपलब्ध है.हर वीडियो के बाद बहुविकल्प-आधारित प्रश्न हैं. एक बार एमएसक्यू राउंड पास करने के बाद ही शिक्षक अगले मॉड्यूल पढ़ सकते हैं. इन सभी ऑनलाइन प्रशिक्षण मॉड्यूलों में पास होने वाले शिक्षकों को आईआईएम इंदौर प्रमाणित शिक्षक के रूप में प्रमाण पत्र देगा.

मॉड्यूल का शुभारंभ
इन वीडियो मॉड्यूल का शुभारंभ स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार और आइआइएम इंदौर के निदेशक प्रोफेसर हिमांशु राय ने ऑनलाइन मोड में किया. इस मौके पर स्कूल शिक्षा विभाग की प्रमुख सचिव रश्मि अरुण शमी, राज्य शिक्षा केंद्र के निदेशक धनराजू एस., लोक शिक्षण संचालनालय की आयुक्त जयश्री कियावत और राज्य शिक्षा केंद्र के अतिरिक्त निदेशक ओ.एल. मंडलोई भी उपस्थित थे.

सबके लिए
स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा, शिक्षक को स्वयं के प्रबंधन और समय प्रबंधन में कुशल होने और तनाव मुक्त रहने की ज़रूरत है.ताकि वो छात्र-छात्रों को शिक्षा देने और सिखाने में प्रभावी योगदान दे सके. उन्होंने कहा ये वीडियो मॉड्यूल सिर्फ शिक्षकों के लिए ही नहीं, बल्कि पूरे समाज के लिए फायदेमंद हैं,जिससे व्यक्ति को व्यक्तिगत और व्यावसायिक स्तर पर प्रभावी प्रबंधन कौशल सीखने में मदद मिलेगी.

देश में पहली बार
IIM के डायरेक्टर प्रो. हिमांशु राय ने कहा इन शिक्षण मॉड्यूल का उद्देश्य शिक्षकों को मानसिक रूप से मजबूत बनाना है.यह हमारे संस्थान के साथ साझेदारी की देश में अपनी तरह की पहली पहल है. हमें उम्मीद है कि यह मध्यप्रदेश में सरकारी स्कूल के शिक्षकों के व्यवहार और दक्षता में सकारात्मक बदलाव लाएगा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज