होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /

INDORE : कोरोना काल में IIM इंदौर में हुआ सौ फीसदी प्लेसमेंट, इस बार स्टायपेंड भी ज़्यादा

INDORE : कोरोना काल में IIM इंदौर में हुआ सौ फीसदी प्लेसमेंट, इस बार स्टायपेंड भी ज़्यादा

प्लेसमेंट रिपोर्ट जारी करते हुए आईआईएम (IIM) इंदौर के डायरेक्टर पर डॉ. हिमांशु राय ने कहा हमें खुशी है कि एक बार फिर देश की शीर्ष कंपनियों ने महामारी की परिस्थिति के बावजूद हमारे स्टूडेंट्स पर अपना विश्वास बनाए रखा है

प्लेसमेंट रिपोर्ट जारी करते हुए आईआईएम (IIM) इंदौर के डायरेक्टर पर डॉ. हिमांशु राय ने कहा हमें खुशी है कि एक बार फिर देश की शीर्ष कंपनियों ने महामारी की परिस्थिति के बावजूद हमारे स्टूडेंट्स पर अपना विश्वास बनाए रखा है

प्लेसमेंट रिपोर्ट जारी करते हुए आईआईएम (IIM) इंदौर के डायरेक्टर पर डॉ. हिमांशु राय ने कहा हमें खुशी है कि एक बार फिर देश की शीर्ष कंपनियों ने महामारी की परिस्थिति के बावजूद हमारे स्टूडेंट्स पर अपना विश्वास बनाए रखा है

इंदौर.कोरोना (Corona) संकट काल में जब लोगों की नौकरियां जा रही हैं, ऐसे समय में भी आईआईएम (IIM) इंदौर का ग्राफ ऊंचा रहा.यहां स्टूडेंट्स का सौ फीसदी प्लेसमेंट हो गया. खास बात ये है कि इन स्टूडेंट्स को पिछले साल के मुकाबले 7 फीसदी ज़्यादा स्टायपेंड मिला है.

कोरोना संकट के बीच भी नए साल में आईआईएम (IIM) इंदौर अपने कामयाबी के सफर पर आगे बढ़ता रहा. यहां पढ़ने वाले बच्चों का इस बार 100 फीसदी प्लेसमेंट हुआ है. आईआईएम ने समर प्लेसमेंट की रिपोर्ट जारी की है. इसके मुताबिक IIM इंदौर के 2022 बैच के 575 स्टूडेंट्स का प्लेसमेंट हो चुका है. खास बात ये है कि स्टूडेंट को इस साल पिछले साल के मुकाबले 7 फ़ीसदी ज़्यादा स्टायपेंड पर प्लेसमेंट मिला है.

एक और उपलब्धि
इसके साथ ही आईआईएम इंदौर 2019 में ईएफएमडी क्वालिटी इंप्रूवमेंट सिस्टम मान्यता प्राप्त करने के बाद ट्रिपल क्रॉउन प्राप्त करने वाला दूसरा भारतीय बिजनेस स्कूल बन गया है.संस्थान दुनिया के शीर्ष 100 ट्रिपल क्रॉउन मंत्र प्राप्त संस्थानों की सूची में शामिल हो चुका है. आईआईएम इंदौर के फाइव ईयर इंटीग्रेटेड प्रोग्राम इन मैनेजमेंट, पोस्ट ग्रेजुएट प्रोग्राम इन मैनेजमेंट के 575 स्टूडेंट्स का प्लेसमेंट हुआ है. स्टूडेंट को रिक्रूट करने 190 कंपनियां आयीं.



ज़्यादा स्टायपेंड
प्लेस हुए स्टूडेंट अब दो महिने अलग-अलग कंपनियों में जाकर इंटर्नशिप करेंगे.इन 2 माह के लिए स्टूडेंट का औसत स्टायपेंड 1.83 लाख रुपये प्रति माह मिला है. जबकि पिछले साल औसत स्टायपेंड 1.68 लाख रुपए था. हालांकि पिछले साल के मुकाबले इस साल सर्वाधिक स्टायपेंड में गिरावट आई है. पिछले साल जहां सर्वाधिक स्टायपेंड 4 लाख रुपए था जो इस साल 3.2 लाख रुपए ही रहा.

खुश है संस्थान
प्लेसमेंट रिपोर्ट जारी करते हुए आईआईएम के डायरेक्टर पर डॉ. हिमांशु राय ने कहा हमें खुशी है कि एक बार फिर देश की शीर्ष कंपनियों ने महामारी की परिस्थिति के बावजूद हमारे स्टूडेंट्स पर अपना विश्वास बनाए रखा है. हम इंडस्ट्री के साथ अपने संबंध मजबूत बनाना जारी रखेंगे.उन्हीं के सहयोग से हम विश्व स्तरीय और रेलीवेंट सिलेबस तैयार करते हैं जो हमारे स्टूडेंट को स्किल्ड बनाता है. उन्हें सामाजिक रूप से संवेदनशील लीडर और अच्छा मैनेजर बनाता है. सामाजिक रूप से संवेदनशील बनाता है.

ये कंपनियां आयीं 
इस साल समर प्लेसमेंट में जो कंपनियां आयीं,उनमें अमेजॉन, अमेरिकन एक्सप्रेस, आर्सेलर मित्तल, निप्पॉन स्टील, एशियन पेंट्स,एक्सिस बैंक, बैन एंड कंपनी,बजाज ऑटो, बार्कलेंज, ब्रिजस्टोन, बोस्टन कंसलटिंग ग्रुप,कैपजैमिनी, कॉग्निजेंट, सिपला, क्रेडिट सुईस, डी ई शॉ, डेलोइट यूएसआई, ड्यूश बैंक,एवरेस्ट ग्रुप, जनरल इलेक्ट्रिक,गोल्डमैन सैक्स, गूगल, ग्लैक्सो स्मिथक्लाइन, एचएसबीसी बैंक,हिन्दुस्तान यूनिलीवर, आईसीआईसीआई बैंक, आईटीसी, जेपी मॉर्गन चेस एंड कंपनी, जुबिलेंट फूडवर्क्स,कोटक महिन्द्रा बैंक, टाटा स्टील, वॉलमार्ट, यस बैंक, सोनी पिक्चर्स, लार्सन एंड ट्रुबो सहित कई दूसरे रिक्रूटर शामिल हैं. चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद इस बार 70 से ज्यादा रिक्रूटर प्लेसमेंट में शामिल हुए.

Tags: Corona Days, IIM, Madhya pradesh news

अगली ख़बर