इंदौर : हार्टबीट की जांच करवाने के नाम पर अस्पताल से नवजात को ले उड़ी महिला, छानबीन में जुटी पुलिस

अस्पताल के सीसीटीवी फुटेज में एक महिला दिखी है जो नवजात को लेकर बाहर जा रही है.
अस्पताल के सीसीटीवी फुटेज में एक महिला दिखी है जो नवजात को लेकर बाहर जा रही है.

नवजात के अस्पताल से चोरी होने के मामले में संयोगितागंज थाना पुलिस सक्रिय हो गई है. उसने परिजनों की फरियाद और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अपहरण का मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 5:20 PM IST
  • Share this:
इंदौर. प्रदेश के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल एमवाय से एक दिन का नवजात बच्चा चोरी होने का सनसनीखेज मामला सामने आया है. अस्पताल में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने नवजात के चोरी का मामला दर्ज कर लिया है. इस मामले में पुलिस की छानबीन जारी है.

सीसीटीवी में कैद हुई महिला

अस्पताल के सीसीटीवी फुटेज में दिख रहा है कि एक महिला नवजात को लेकर जा रही है. नवजात के अस्पताल से चोरी होने के मामले में संयोगितागंज थाना पुलिस सक्रिय हो गई है. उसने परिजनों की फरियाद और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अपहरण का मामला दर्ज कर आरोपी की तलाश शुरू कर दी है. इंदौर (ईस्ट) के एसपी विजय खत्री ने इस बारे में कहा कि नवजात की दादी के पास एक महिला ने आकर कहा कि इस बच्चे की हार्टबीट चेक होनी है, इसलिए नवजात हमें दें. नवजात की दादी ने महिला के इस बयान पर बच्चा उसे सौंप दिया. पर वह महिला बच्चे को लेकर फरार हो गई. बच्चे को लेकर जाने के क्रम में वह सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई है. इस सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस महिला की पहचान करने में जुटी है.







जल्द ही आरोपी को पकड़ने का पुलिस का दावा

पुलिस ने कहा कि उम्मीद है हम जल्द ही आरोपी महिला को गिरफ्तार कर लेंगे. फिलहाल, सीसीटीवी फुटेज की जांच की जा रही है. पूरे मामले पर हमारी नजर है. आरोपी को गिरफ्तार कर बच्चे को सही सलामत बरामद कर लिया जाएगा. बहरहाल आपको बता दें कि इंदौर में यह कोई पहला मामला नहीं है जब बच्चा चोरी का खुलासा हुआ हो. इससे पहले वर्ष 2016 में भी बच्चा चोरी का मामला सामने आया था. वहीं हाल ही पुलिस ने बच्चों की खरीद-फरोख्त में शामिल एक गैंग का खुलासा करते हुए कई आरोपियों को गिरफ्तार किया था. इनके चंगुल से बच्चे भी छुड़वाए गए थे. अब देखना होगा कि पुलिस इस बच्चे को कब तक आरोपियों के चंगुल से छुड़वाने में सफल हो पाती है?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज