अपना शहर चुनें

States

INDORE : असलम शेर खान ने की नेहरू-गांधी परिवार से बाहरी व्यक्ति को अध्यक्ष बनाने की मांग

MP NEWS : असलम शेर खान ने कहा ज्योतिरादित्य का जाना बड़ा नुकसान है.
MP NEWS : असलम शेर खान ने कहा ज्योतिरादित्य का जाना बड़ा नुकसान है.

Indore : असलम शेर खान ने कहा-पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी को प्रधानमंत्री (PM) बना दिया गया होता तो कांग्रेस को आज ये दिन नहीं देखने पड़ते.पार्टी को सही नेतृत्व न मिलने से संगठन कमज़ोर पड़ गया है.

  • Share this:
इंदौर. पुराने कांग्रेसी और पूर्व केन्द्रीय मंत्री असलम शेर खान ने पार्टी अध्यक्ष (Congress President) नेहरू-गांधी खानदान से बाहर के व्यक्ति को बनाने की मांग की है. उन्होंने कहा अब बहुत हुआ. बाहरी व्यक्ति को मौका मिलना चाहिए.मुझे ये मौका दिया जाए तो मैं दो साल में पार्टी को बीजेपी के बराबर लाकर खड़ा कर दूंगा.

अपनी बेबाकी के लिए पहचाने जाने वाले पुराने कांग्रेसी असलम शेर खान ने फिर खरा बोला है.इंदौर आए खान ने कहा-पार्टी अध्यक्ष के लिए नेहरू गांधी परिवार के बाहर के व्यक्ति को मौका मिलना चाहिए. जब राहुल गांधी ने अध्यक्ष बनने से खुद मना कर दिया है तो फिर अब देर किस बात की है. कांग्रेस में पिछले करीब 18 साल से अध्यक्ष पद का चुनाव नहीं हुआ है. ऐसे में योग्य व्यक्ति को पार्टी की कमान दे देना चाहिए.

प्रणब मुखर्जी को बनाना था PM
असलम शेर खान ने ये भी कहा कि 2009 में मनमोहन सिंह की जगह पॉलिटिकल व्यक्ति को प्रधानमंत्री बनाना चाहिए था. यदि उस समय पार्टी के वरिष्ठ नेता प्रणब मुखर्जी को प्रधानमंत्री बना दिया गया होता तो कांग्रेस को आज ये दिन नहीं देखने पड़ते.पार्टी को सही नेतृत्व न मिलने से संगठन कमज़ोर पड़ गया है.




मुझे दो मौका
उन्होंने कहा मैं तो पहले ही कह चुका हूं मुझे दो साल का मौका दिया जाए मैं कांग्रेस को बीजेपी की बराबरी पर लाकर खड़ा कर दूंगा,इस बात में कोई शक नहीं है कि पार्टी  में बदलाव की जरूरत है,यदि कोई मुझसे बेहतर उम्मीदवार है तो उसे भी ये मौका दिया जा सकता है.

...इसलिए हुआ ये हश्र
असलम शेर खान ने कहा एक समय कांग्रेस कश्मीर से कन्याकुमारी तक अपनी प्रभावी भूमिका में थी. आज की स्थिति एकदम अलग है.पूर्ण बहुमत के साथ देश में राज करने वाली कांग्रेस आज 2 अंकों में सीटों पर सिमट कर रह गई है.इससे बड़ी दुर्गति और क्या होगी.पार्टी का नामोनिशान मिटने में अब बचा ही क्या है. कांग्रेस को सही नेतृत्व न मिलने से उसका ये हश्र हुआ है.

ज्योतिरादित्य का जाना दुर्भाग्य
असलम शेर खान ने ये भी कहा कि मध्यप्रदेश कांग्रेस के लिए सबसे बड़े दुर्भाग्य की बात ज्योतिरादित्य सिंधिया का जाना रहा.एक बडा़ चेहरा कांग्रेस ने खो दिया है.

खेल सिर्फ इवेंट रह गए- वहीं पूर्व ओलंपियन रहे असलम शेर खान ने आम बजट को लेकर कहा कि खिलाड़ियों को कोरोना काल के बाद बजट का इंतजार था. लेकिन इस बजट में खेलों के लिए कुछ खास नहीं है. दरअसल खेल कूद सरकार की प्राथमिकता में ही नहीं हैं.सरकार सिर्फ खेलो इंडिया जैसे इवेंट बनाने का काम करती है.जिस लेवल की हमारी इकोनॉमी है और जिस लेवल का हमारा युवा है 135 करोड़ का देश है, उसे देखते हुए वर्ल्ड लेवल पर स्पोर्ट्स को आगे लाने के लिए जो कोशिश होनी चाहिए वो बिलकुल नहीं हो रही है. बस खेल हो रहे हैं और सिस्टम चल रहा है. लेकिन उसके अंदर कोई ऩई चीज पैदा नही हो पा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज