होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /Indore News: छठी बार स्वच्छता का सरताज बना इंदौर, जश्न में झूम उठा हर इंदौरी, देखें- Video

Indore News: छठी बार स्वच्छता का सरताज बना इंदौर, जश्न में झूम उठा हर इंदौरी, देखें- Video

मध्य प्रदेश के इंदौर ने इतिहास रचते हुए स्वच्छता में लगातार छह बार नंबर 1 आने का खिताब अपने नाम कर लिया है. 4335 शहरों ...अधिक पढ़ें

    अंकित परमार/ इंदौर.  मध्य प्रदेश का इंदौर स्वच्छता के मामले में एक बार फिर से सिरमौर बना है. इंदौर देश के एक लाख से अधिक जनसंख्या वाले शहरों की रेस में नंबर वन रहा. यह अवार्ड लेने इंदौर से 22 लोगों की टीम पहुंची थी, जिसमें सांसद शंकर लालवानी के साथ पार्षद पुष्यमित्र भार्गव के अलावा नगर निगम आयुक्त प्रतिभा पाल मौजूद थी. राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू ने यह सम्मान इंदौर को दिया. शहर में जश्न का माहौल है. लोग घरों के आगे पटाखे जला रहे हैं, वही एक दूसरे को मिठाइयां खिलाकर बधाइयां दी जा रही है. सड़कों पर ढोल नगाड़ों के साथ नाच गाना भी हो रहा है. जश्न के माहौल में सफाई मित्र और सफाई दीदियां भी पीछे नहीं है. सफाई दीदी अपने हाथों में झाड़ू लेकर सड़कों पर नाचती हुई दिखाई दी.

    11 स्थानों पर हुआ लाइव प्रसारण
    शहर के 11 अलग-अलग स्थानों पर दिल्ली में हो रहे कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया गया. जैसे ही इंदौर को नंबर वन का खिताब मिला सभी इंदौरी झूम उठे और एक दूसरे को गले मिलकर बधाइयां देने लगे. इंदौर सफाई को त्यौहार की तरह मनाता है यही एक वजह है कि हम लगातार छठवीं बार नंबर 1 का खिताब अपने नाम कर पाए हैं. शहर के साढ़े सात हजार सफाई मित्र दिन-रात अपनी मेहनत में लगे रहते हैं उसी का नतीजा है कि हम हर बार नंबर 1 ही रहते हैं.

    इंदौर दूसरे शहरों से बहुत आगे
    अभी तक कई शहर ऐसे हैं, जहां गंदगी का आलम ही सुर्खियों में रहता है, वहीं, 32 लाख इंदौरियों ने सफाई को अपने डीएनए में उतारकर पिछले पांच सालों से अपना लोहा मनवाया है. अन्य सभी शहर कचरा निपटाने की व्यवस्था में सरकारी रकम ख़र्च करते हैं लेकिन इंदौर इस मामले में भी आगे है. गीले कचरे से बायो सीएनजी फॉर्मूले की मदद से अपना खर्च तो कम करता ही है बल्कि कचरे से अपनी कमाई भी करता है. यानी इंदौर में कचरे से कमाई होती है. इसके अलावा कुछ और फैक्टर भी हैं, जो स्वच्छता के मामले में इंदौर को अग्रणी बनाए रखते हैं.

    कचरे की छंटाई में भी इंदौर अपग्रेड
    नगर निगम इंदौर ने 2017 में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन वाहन से गीला और सूखा कचरा लेने की व्यवस्था बनाई थी. साल 2019 में इन वाहनों में तीसरा बिन लगाया गया. 2020 में इन वाहनों में ‘सिक्स बिन सेग्रिगेशन’ की व्यवस्था शुरू हुई. इसमें गीले और सूखे कचरे के अलावा प्लास्टिक, इलेक्ट्रिक, घरेलू हानिकारक व सेनेटरी वेस्ट को अलग-अलग लेने के लिए कपार्टमेंट बनाए गए. ऐसे में छह तरह का कचरा अलग-अलग मिलने से छंटाई की समस्या कम हुई.

    Tags: Indore news, Madhya pradesh news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें