Assembly Banner 2021

INDORE : नगरीय निकाय चुनाव के लिए BJP ने फिर बदली रणनीति,अब ये शर्त

इंदौर महापौर पद के लिए कांग्रेस अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है.

इंदौर महापौर पद के लिए कांग्रेस अपने उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है.

INDORE : भाजपा (Bhopal) की नगरीय निकाय चुनाव संचालन समिति के संयोजक तक को नहीं पता कि टिकट का पैमाना क्या होगा.इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि निकाय चुनाव में टिकट (Ticket) वितरण भी चौंकाने वाला होगा.

  • Share this:
इंदौर.विधान सभा उप चुनाव में बड़ी जीत के बाद भाजपा (BJP) का रंग,रूप और ढंग सब कुछ बदल गया है.यही वजह है कि अब नगरीय निकाय चुनाव आते ही एक कुर्सी के दर्जनों दावेदार सामने हैं. बीजेपी अब तक कहती रही है कि हारे जीते विधायकों (MLA) को टिकट नहीं दिया जाएगा.इस बार युवाओं को मौका मिलेगा लेकिन अब उसने ये रणनीति भी बदल दी है. इंदौर पहुंचे नगरीय निकाय चुनाव संचालन समिति के संयोजक उमाशंकर गुप्ता ने कहा टिकट को लेकर पार्टी ने कोई क्राइटेरिया तय नहीं किया है. सिर्फ जिताऊ उम्मीदवार को ही टिकट दिया जाएगा.

उपचुनाव के बाद भारतीय जनता पार्टी में अंदरूनी खींचतान मची हुई है.ये खींचतान नगरीय निकाय चुनाव के लिए टिकट तय करने में साफ देखी जा रही है.पार्टी का एक धड़ा अनुभवी और पुराने नेताओं को मैदान में उतारने का पक्षधर है तो दूसरा धड़ा नए ऊर्जावान युवाओं को मौका देने की पैरवी कर रहा है.ऐसे में पार्टी की नगरीय निकाय चुनाव संचालन समिति के संयोजक बनाये गए पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता भी मीडिया के सवालों के आगे गोलमोल जवाब ही देते नजर आए.उन्होंने पार्टी में टिकट का क्राइटेरिया तय नहीं होने की बात कहकर दावेदारों को फिर चौंका दिया.

बीजेपी में खलबली
नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस ने इंदौर में अपना मेयर का प्रत्याशी तय कर दिया है. तब से बीजेपी में खलबली मची हुई है.चुनाव संचालन समिति के संयोजक उमाशंकर गुप्ता ने तो यहां तक दावा कर दिया कि सभी 16 नगर निगमों के चुनाव में कांग्रेस,बीजेपी की मदद करेगी.उन्होंने कहा हमारे सभी प्रत्याशियों की सूची तैयार है. समय आने पर घोषणा भी कर दी जाएगी.हालांकि उन्होंने चुनाव में युवाओं को मौका देने और एक व्यक्ति एक पद जैसे सवालों का गोलमोल जबाब दिया.वहीं नगरीय निकाय चुनाव संचालन समिति के सह संयोजक विधायक रमेश मेंदोला की नाराजगी और बैठक में न आने पर उमाशंकर गुप्ता ने कहा नाराजगी जैसी कोई बात नहीं है उनसे चर्चा होती रहती है.



जिताऊ उम्मीदवार की तलाश
भाजपा की नगरीय निकाय चुनाव संचालन समिति के संयोजक तक को नहीं पता कि टिकट का पैमाना क्या होगा.इससे अंदाज लगाया जा सकता है कि निकाय चुनाव में टिकट वितरण भी चौंकाने वाला होगा.हालांकि पार्टी जिताऊ उम्मीदवारों की तलाश करती दिखाई दे रही है.इस चुनाव में शिवराज सरकार की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है. पिछले नगरीय निकाय चुनाव में प्रदेश के सभी 16 नगर निगमों पर बीजेपी का कब्जा था.ऐसे में अब वही प्रदर्शन दोहराने का दबाव सीएम से लेकर संगठन तक पर दिखाई दे रहा है. देखने वाली बात ये होगी कि पार्टी कब तक अपने उम्मीदवारों की घोषणा करती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज