Corona Curfew: इंदौर के ये 2 इलाके मानने को तैयार नहीं, जानिए कलेक्टर को क्या और कैसे देनी पड़ी चेतावनी

इंदौर के सिंधी कॉलोनी और जेल रोड में लग रही ये भीड़ बता रही है कि यहां कोरोना गाइडलाइन का क्या पालन हो रहा होगा. प्रशासन ने सभी को सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी है.

Corona Curfew: मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर. जिले के सिंधी कॉलोनी और जेल रोड में रहने वाले व्यापारी कोरोना गाइडलाइन को मानने को तैयार ही नहीं हैं. कलेक्टर ने इन सभी को खुली चेतावनी दे दी है.

  • Share this:
इंदौर. इंदौर (Indore) में दो इलाके सिंधी कॉलोनी और जेल रोड ऐसे हैं, जहां के लोगों ने प्रशासन का सिर दर्द बढ़ा दिया है. इन इलाकों में कोरोना गाइडलाइन का बिल्कुल भी पालन नहीं किया जा रहा. कलेक्टर और पूर्व महापौर ने इन इलाकों को दौरा किया और भविष्य में कड़ी कार्रवाई करने की बात कही. कलेक्टर ने कहा कि अब अगर यहां किसी ने कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं किया तो उसके खिलाफ सीधे धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी.

दरअसल, कलेक्टर मनीष सिंह, निगम आयुक्त और पूर्व महापौर सिंधी कॉलोनी के दौरे पर निकले थे. इन्होंने देखा कि यहां किसी भी तरह की कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा और कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है. गलियों में बड़ी संख्या में सब्जी और फल के ठेले लगे हुए थे. इस पर कलेक्टर भड़क गए और व्यापारियों समझाइश दी.

कलेक्टर ने दी ये चेतावनी

कलेक्टर ने निगम अधिकारियों से कहा कि कल से क्षेत्र में फल-सब्जी का एक भी ठेला नहीं लगना चाहिए. अब यहां कोई ठेला जब्त नहीं किया जाएगा, बल्कि सीधे धारा 188 के तहत गिरफ्तारी की जाएगी. कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि शहर के अन्य क्षेत्रों के व्यापारी कोरोना कर्फ्यू का सख्ती से पालन कर रहे हैं. लेकिन सिंधी कॉलोनी और जेल रोड के व्यापारियों को समझाना काफी कठिन कार्य है. उन्होंने कहा कि इन दोनों क्षेत्रों की दुकानें अभी नहीं खुलेंगी.

माने नहीं तो सख्ती बढ़ती जाएगी – गौड़

पूर्व महापौर मालिनी गौड़ ने कहा कि सिंधी कॉलोनी और जेल रोड की कई दिनों से शिकायतें मिल रही थीं कि यहां फल-सब्जियों के ठेले वाले भीड़ लगाकर खड़े रहते हैं. कोरोना संक्रमण के दौरान यह आम जनता के लिए घातक हो सकता है. इसीलिए कलेक्टर  और निगमायुक्त के साथ सिंधी कॉलोनी का दौरा किया. पूर्व महापौर मालिनी गौड़ ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई बढ़ती जाएगी.