Assembly Banner 2021

नंद कुमार चौहान का कल उनके गृहग्राम शाहपुर में किया जाएगा अंतिम संस्कार, BJP ने अपने कार्यक्रम रद्द किए

नंद कुमार चौहान खंडवा से बीजेपी के सिटिंग सांसद थे.

नंद कुमार चौहान खंडवा से बीजेपी के सिटिंग सांसद थे.

INDORE -हाल ही में निमाड़ में नेपानगर और मांधाता सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी को जिताकर शिवराज सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले 68 साल के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान नहीं रहे.

  • Share this:
इंदौर.खंडवा सांसद और बीजेपी (BJP) के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और नंद कुमार (Nand kumar singh chauhan) के निधन पर पूरा प्रदेश गमगीन है.सभी दलों के नेताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त कर श्रद्धांजलि दी. नंदू भैया के नाम से लोकप्रिय नंद कुमार चौहान का पार्थिव शरीर दोपहर 2:00 बजे दिल्ली से भोपाल लाया जाएगा.यहां बीजेपी दफ्तर में अंतिम दर्शन के लिए पार्थिव देह रखी जाएगी.शाम को यहां से बुरहानपुर के लिए उनकी पार्थिव देह रवाना की जाएगी.स्व.नंदकुमार चौहान का अंतिम संस्कार कल बुरहानपुर में उनके गृहग्राम शाहपुर में किया जाएगा.उनकी अंत्येष्टि में सीएम शिवराज सिंह चौहान सहित नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे.इस बीतच बीजेपी ने अपने तमाम कार्यक्रम रद्द कर दिए हैं.

हाल ही में निमाड़ में नेपानगर और मांधाता सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी को जिताकर शिवराज सरकार बनाने में अहम भूमिका निभाने वाले 68 साल के सांसद नंदकुमार सिंह चौहान नहीं रहे.कोरोना के कारण देर रात दिल्ली के मेदांता अस्पताल में उनका निधन हो गया.वो पिछले लगभग 1 महीने से दिल्ली में भर्ती थे. 11 जनवरी को कोरोना पॉजिटिव होने के बाद के बाद भोपाल के अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था.हालत गंभीर होने पर उन्हें दिल्ली के मेदांता अस्पताल में शिफ्ट किया गया था.इंफेक्शन की वजह से उनके 90 फीसदी फेंफड़े खराब हो गए थे.

गृहग्राम शाहपुर में अंतिम संस्कार
नंद कुमार चौहान का अंतिम संस्कार उनके गृहग्राम शाहपुर में बुधवार को किया जाएगा. बुरहानपुर जिले के इसी शाहपुर गांव में नंदकुमार सिंह चौहान का जन्म 8 सितंबर 1952 में हुआ था.पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षा के बाद उन्होंने राजनीति को अपने करियर के रूप में चुना और जनसंघ में शामिल हुए.बुरहानपुर जिले में शाहपुर नगर पालिका में वर्ष 1978-80 और 1983-87 तक अध्यक्ष रहे.इसके बाद 1985-96 तक लगातार 2 बार भाजपा से विजयी हो कर मध्य प्रदेश विधानसभा के बुरहानपुर क्षेत्र से विधायक रहे.सन 1996 में 11वें लोकसभा चुनाव में भाजपा ने उन्हें खंडवा क्षेत्र से सांसद उम्मीदवार बनाया था,इसमें वें विजयी हुए थे,लेकिन उनका कार्यकाल 1996-97 तक ही रहा,क्योंकि अटल बिहारी वाजपेयी सरकार गिर गई थी.उसके बाद सन 1998 में उपचुनाव में 12वीं लोकसभा चुनाव में वे दूसरी बार खंडवा क्षेत्र से विजयी हुए थे. यह कार्यकाल भी 1998-99 तक ही रहा क्योंकि वाजपेयी सरकार फिर गिर गयी थी.सन 1999 में 13वीं लोकसभा उपचुनाव में फिर से भाजपा ने खंडवा क्षेत्र से उन्हें उम्मीदवार बनाया. वे तीसरी बार भी विजयी हुए. इस बार स्व.चौहान का कार्यकाल 1999-2004 तक 5 वर्ष पूर्ण चला.इसके बाद सन 2004 में 14वीं लोकसभा चुनाव में वे चौथी बार फिर से खंडवा क्षेत्र से सांसद का चुनाव जीत कर विजयी हुए. लेकिन वे विपक्ष में बैठे क्योकिं केंद्र में मनमोहन सिंह की कांग्रेस सरकार बन चुकी थी.



2009 में चुनाव हारे
सन 2009 के 15वीं लोकसभा चुनाव में नंदकुार सिंह चौहान को पार्टी ने फिर से खंडवा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया लेकिन इस बार वे कांग्रेस प्रत्याशी अरूण यादव से चुनाव हार गए.उन्हें पार्टी ने मध्यप्रदेश राज्य का भाजपा पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया लेकिन 2013 के मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान उन्हें हटाकर नरेंद्र सिंह तोमर को प्रदेश अध्यक्ष बना दिया गया,उन्हें 16वीं लोकसभा चुनाव में भाजपा ने दोबारा खंडवा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया,इसमें वे चुनाव में विजयी हुए. पार्टी ने उसके बाद चौहान को दोबारा मध्य प्रदेश भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बना दिया.सन 2018 में उन्होंने अपना त्यागपत्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष पद से दे दिया,ताकि वे अपने संसदीय क्षेत्र में विकास कार्य कर सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज