• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • INDORE : सांवेर में करोड़ों रुपये का आलू खराब, किसान क्षिप्रा पुल पर लगाएंगे महापंचायत

INDORE : सांवेर में करोड़ों रुपये का आलू खराब, किसान क्षिप्रा पुल पर लगाएंगे महापंचायत

INDORE : सांवेर में 1 हजार किसानों का 1 लाख क्विंटल से ज्यादा आलू खराब हो गया है.

INDORE : सांवेर में 1 हजार किसानों का 1 लाख क्विंटल से ज्यादा आलू खराब हो गया है.

INDORE : किसानों (Farmers) की शिकायत पर जब उद्यान विभाग के अधिकारियों के साथ वैज्ञानिकों ने जांच की तो पाया कि कोल्ड स्टोरेज (Cold store) की मशीनें बंद पड़ी थीं. आलू को कम से कम 6 से 7 सेंटिग्रेड तापमान पर ही रख सकते थे. लेकिन स्टोरेज के स्टाफ ने इस तापमान को मेंटेन नहीं किया. इसलिए यहां रखी सारी फसलें बर्बाद हो गयीं.

  • Share this:

इंदौर. जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट (Tulsi Silawat) के विधानसभा क्षेत्र का किसान (Farmers) बर्बाद हो गया है. यहां के 1 हजार से ज्यादा किसानों का कोल्ड स्टोरेज में रखा 1 लाख 20 हजार क्विंटल आलू, गाजर और चुकंदर खराब हो गया है. जब कहीं सुनवाई नहीं हुई तो किसान अब क्षिप्रा नदी के पुल पर महापंचायत लगाने की तैयारी में हैं. वो बर्बाद हुई फसल का मुआवज़ा मांग रहे हैं. इसकी शिकायत उन्होंने SDM रवि श्रीवास्तव से भी की है.

इंदौर जिले की सांवेर विधान सभा क्षेत्र के एक हजार से ज्यादा किसानों ने अपने आलू, चुकंदर और गाजर कोल्ड स्टोरेज में सुरक्षित रखे थे. लेकिन कोल्ड स्टोरेज में बरती गयी लापरवाही से फसल और किसान सब बर्बाद हो गए. आलू में अंकुर फूट गया है और गाजर, चुकंदर भी खराब हो गए हैं. ये अब किसी काम के नहीं बचे हैं. किसानों ने इन्हें अपने बीजों के लिए कोल्ड स्टोरेज में पैसा देकर सुरक्षित रखवाया था.

गरम हो गया था कोल्ड स्टोरेज
किसानों की शिकायत पर जब उद्यान विभाग के अधिकारियों के साथ वैज्ञानिकों ने जांच की तो पाया कि आलू को कम से कम 6 से 7 सेंटिग्रेड तापमान पर ही रख सकते थे. लेकिन स्टोरेज के स्टाफ ने इस तापमान को मेंटेन नहीं किया. जिससे आलू और दूसरी फसलें पूरी तरह से खराब हो गई हैं. कोल्ड स्टोरेज की मशीनें बंद पड़ी थीं. कोल्ड स्टोरेज काफी पुराना होने के कारण अधिक मशीनों की क्षमता भी लगभग खत्म हो गई थी. इसकी वजह से किसानों का नुकसान हुआ है. कांग्रेस ने भी इस मुद्दे को उठाते हुए किसानों को मुआवजे की मांग की है. वो कोल्ड स्टोर संचालक को मंत्री तुलसी सिलावट का संरक्षण होने का आरोप लगा रहे हैं.

ये भी पढ़ें-शिवराज Cabinet ने कमलनाथ सरकार का फैसला पलटा, पूरक पोषण आहार का जिम्मा महिला स्व सहायता समूह को सौंपा

 कोल्ड स्टोरेज की बिजली बंद क्यों?
किसानों की करोड़ों रुपये की फसल खराब होने से वो गुस्से में हैं. वे जिला प्रशासन के चक्कर लगा रहे हैं.  स्थानीय विधायक और राज्य के जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. उन्होंने कलेक्टर और एसडीएम से किसानों के हित में फैसला लेने के निर्देश दिए हैं. क्षेत्रीय सांसद शंकर लालवानी का कहना है वे प्रशासन से मामले की जांच कराएंगे कि कोल्ड स्टोरेज की बिजली बंद क्यों की गई थी. किसानों का जो नुकसान हुआ है,उसकी भरपाई भी की जाएगी.

क्षिप्रा पुल पर  महा पंचायत
किसान नुकसान की भरपाई के साथ ही कोल्ड स्टोरेज संचालक अनिल झंवर पर FIR दर्ज करवाने की मांग कर रहे हैं. इसके लिए सांवेर विधानसभा क्षेत्र के बरलाई, जागीर, बूढ़ी बरलाई, पीर, कराडिया, मकोडिया,बच्चोखेड़ी, हतुनिया, डकाचिया पलासिया सिलोटिया, अर्जुन बड़ोदा, लसूड़िया परमार, कदवाली खुर्द, कदवाली बुजुर्ग, मंडलाउदा गांव सहित देवास जिले के किसान कभी क्षिप्रा थाने का चक्कर लगा रहे हैं तो कभी कृषि विभाग के बड़े अधिकारियों का,लेकिन उनकी सुनवाई कहीं नहीं हो रही है. इससे नाराज होकर किसानों ने क्षिप्रा पुल पर  महा पंचायत करने का ऐलान किया है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज