Assembly Banner 2021

जम्मू कश्मीर में सैर सपाटे के लिए इंदौर में रोड शो, घाटी के टूरिज्म को मंदी से उबारने की कवायद

जम्मू-कश्मीर टूरिस्ट डिपार्टमेंट देशभर में रोड शो कर रहा है.

जम्मू-कश्मीर टूरिस्ट डिपार्टमेंट देशभर में रोड शो कर रहा है.

Road Show for Tourism Promotion;कोरोना की महामारी ने पूरी दुनिया के साथ ही कश्मीर घाटी में भी टूरिज्म उद्योग को मंदी में ढकेल दिया है. अब जम्मू-कश्मीर सरकार का टूरिज्म डिपार्टमेंट पूरे देश में रोड शो कर पर्यटकों को घाटी में सैर-सपाटे के लिए कई तरह के ऑफर देकर प्रोत्साहित कर रहा है.

  • Share this:
इंदौर. कोरोना महामारी की मार से मंदी से बुरी तरह जूझ रहे कश्मीर के पर्यटन (Tourism) को उबारने जम्मू कश्मीर (J & K) सरकार ने बेहद सकारात्मक पहल की है. विभाग की ओर से घाटी में सैरसपाटे को प्रोत्साहित करने के मकसद से मध्यप्रदेश की औद्योगिक नगरी इंदौर में रोड शो किया. विभाग की ओर से सैरसपाटे पर घाटी जाने वालों को कई आकर्षक आफर दिए जा रहे. इस तरह के रोड शो पूरे देश के 21 शहरों में किए जा रहे हैं. इससे पहले भोपाल में भी 6 मार्च को एक रोड शो का आयोजन किया गया था.

कोरोना के कारण कश्मीर सूना पड़ा है.पर्यटन इस राज्य की अर्थव्यवस्था की रीढ़ है. विदेशी पर्यटक तो यहां आ ही नहीं पा रहे.देसी पर्यटकों ने भी कोरोना के कारण सैर-सपाटा बंद कर रखा है.इस आर्थिक नुकसान की भरपाई के लिए जम्मू कश्मीर सरकार घरेलू पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए देश के 21 शहरों में रोड शो कर रही है.इनमें से इंदौर भी एक है. इंदौर में आयोजित रोड शो में जम्मू कश्मीर पर्यटन विभाग के अधिकारी और ट्रेवल एजेंट शामिल हुए.

पुणे से हुई थी कार्यक्रम की शुरुआत



25 फरवरी को पुणे से इस कार्यक्रम की शुरूआत हुई थी. उसके बाद 27 फरवरी को सूरत और जयपुर में रोड शो हुआ.1 मार्च को कोलकाता और अमृतसर, 6 मार्च को भोपाल और फिर अब इंदौर में रोड शो हुआ.इसके बाद 13 मार्च को लखनाऊ और वाराणसी में रोड शो किया जाएगा.
सुरक्षा का भरोसा
रोड शो के दौरान लोगों को जम्मू कश्मीर के दर्शनीय और पर्यटन स्थलों की फिल्मे दिखाईं जा रही हैं.साथ ही उन्हें प्रदेश में आने के लिए न्यौता भी दिया जा रहा है,जिससे राज्य की अर्थव्यवस्था में सुधार हो सके.कोविड से डरे लोगों को यकीन दिलाया जा रहा है कि जम्मू कश्मीर में टूरिज्म बिलकुल सुरक्षित है.

यहां करें सैर
इस रोडशो के जरिए माता वैष्णो देवी,बाबा अमरनाथ,शिव खोड़ी गुफा, सुद्धमहादेव, मानतलाई, बाबा बुड्ढा अमरनाथ, शहादरा शरीफ,नंगाली साहिब, मचैल माता, श्रीनगर के शंकराचार्य मंदिर, खीरभवानी और हजरतबल जैसे विश्व प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों के बारे में पर्यटकों को जानकारी दी गई.इसके साथ ही जम्मू में श्री रघुनाथ मंदिर, मां बावे वाली माता मंदिर, जामवंत गुफा पीरखोह, पुरमंडल उत्तरवाहिनी, अखनूर के कामेश्वर मंदिर और झिड़ी जैसे धार्मिक स्थलों पर पर्यटक सुखद अनुभूति का अहसास ले सकते हैं. पर्यटन से जुड़े लोगों को हिमालय की गोद में बसे जम्मू के पत्नीटाप, सनासर, भद्रवाह, सरथल और बनी के हिल स्टेशन के बारे में बताया गया.वहीं जम्मू के ही बसोहली, भद्रवाह, किश्तवाड़, राजौरी और पुंछ में पर्यटन की संभावनाओं,ऊधमपुर में श्यामा प्रसाद मुखर्जी को समर्पित दुनिया की सबसे बड़ी टनल, रियासी में बन रहे विश्व के सबसे ऊंचे पुल, कठुआ जिले की रणजीत सागर झील, बग्लिहार झील, जम्मू की मानसर औऱ सरुईसर झीलों के बारे में बताया गया.

एक भारत-श्रेष्ठ भारत
मध्यप्रदेश डोमेस्टिक टूरिस्म एसोसिशन के अध्यक्ष अमित सिंह का कहना है हम लोगों का प्रयास है कि हमारे देश का पर्यटन इस कोविड के माहौल से बाहर निकले. लोग पर्यटन के लिए निकलें और प्रदेश के साथ साथ दूसरे राज्यों की सैर पर जाएं. एक भारत श्रेष्ठ भारत की संकल्पना को साकार करें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज