अपना शहर चुनें

States

इंदौर : राम मंदिर चंदा रैली पर पथराव के बाद थाना प्रभारी सस्पेंड, SDOP मुख्यालय अटैच

कलेक्टर-डीआईजी ने मौके पर पहुंचकर लोगों को शांत कराया.
कलेक्टर-डीआईजी ने मौके पर पहुंचकर लोगों को शांत कराया.

राम मंदिर चंदा रैली पर पथराव के बाद इलाके में तनाव फैल गया. इसे देखते हुए स्‍थानीय प्रशासन ने धारा 144 लागू करते हुए भीड़ इकट्ठा होने पर प्रतिबंध लगा दिया है.

  • Share this:
इंदौर. गौतमपुरा में राम मंदिर (Ram mandir) चंदा रैली पर मंगलवार को हुए पथराव के बाद उस इलाके के थाना प्रभारी आर भास्करे को सस्पेंड और एसडीओपी (SDOP) को मुख्यालय अटैच कर दिया गया है. भास्करे की जगह गौतमपुरा थाने की कमान इंद्रेश त्रिपाठी को सौंप दी गयी है. ये वही इंद्रेश त्रिपाठी हैं जिन्हें आईजी योगेश देशमुख ने कुछ समय पूर्व भंवरकुआ थाने पर अनियमितता मिलने के बाद लाइन अटैच कर दिया था.

इंदौर रेंज के आईजी योगेश देशमुख के मुताबिक गौतमपुरा थाना प्रभारी आरसी भास्करे और एसडीओपी साँवेर पंकज दीक्षित पर कार्रवाई की गई है. एसडीओपी की ड्यूटी रैली के दौरान लगाई गई थी.अब उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दे दिए गए हैं. गौतमपुरा थाने की कमान इंद्रेश त्रिपाठी को सौंपी गई है. गौरतलब है कि आईजी योगेश देशमुख ने कुछ समय पूर्व इंद्रेश त्रिपाठी को भंवरकुआ थाने पर अनियमितता मिलने के कारण लाइन अटैच कर दिया था. अब उन्‍हीं पर भरोसा जताते हुए संवेदनशील थाने की कमान सौंप दी है.

धारा 144 लागू
गौतमपुरा इलाके में मंगलवार को फैले तनाव के बाद एहतियातन इंदौर जिला कलेक्टर मनीष सिंह ने धारा 144 लगा दी है. आसपास के इलाको में पांच से अधिक लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर प्रतिबंध रहेगा. जुलूस, सभाओं पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है.
चंदा रैली पर पथराव


अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा इकट्ठा करने निकली रैली पर गौतमपुरा इलाके के चंदन खेड़ी गांव में पथराव कर दिया गया था. यहां दो पक्षों में विवाद के बाद तनाव फैल गया था. पथराव में करीब दर्जन भर लोग घायल हो गए थे. उसके बाद इलाके में भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया था.

आला अफसरों ने लिया जायज़ा
मामले की गंभीरता को देखते हुए इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह और डीआईजी हरिनारायण चारी मिश्र भारी दल बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले को शांत करने की कोशिश की थी. इस दौरान पूर्व विधायक मनोज पटेल भी मौके पर पहुंचे और अधिकारियों से चर्चा की. पुलिस ने भीड़ को शांत करने के लिए आंसू गैस के गोले भी दागे गए. चंदन खेड़ी गांव में हुए मामले के बाद देपालपुर विधानसभा के चारों नगर देपालपुर, गौतमपुरा, बेटमा और हातोद पूरी तरह से बंद रहे.



आश्वासन पर हटे कार्यकर्ता
देपालपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा के पूर्व विधायक मनोज पटेल ने दोषियो पर कड़ी कार्रवाई की मांग की. अधिकारियों के आश्वासन के बाद हिन्दू संगठन के लोग वहां से हटे. हालांकि, दिन भर कई बार दोनों पक्ष के लोग आमने-सामने होते रहे. शाम होते होते पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया. हंगामा करने वाले दो दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में ले लिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज