Assembly Banner 2021

Indore : अहिल्याबाई स्मारक के लिए सुमित्रा महाजन ने मांगी ज़मीन तो कांग्रेस ने पूछा-30 साल कहां थीं ताई!

सुमित्रा महाजन 30 साल तक लगातार इंदौर से बीजेपी की सांसद रहीं.

सुमित्रा महाजन 30 साल तक लगातार इंदौर से बीजेपी की सांसद रहीं.

INDORE : कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष अर्चना जायसवाल ने पूछा जब सुमित्रा महाजन (Sumitra Mahajan) 30 साल तक इंदौर की सांसद रहीं तब स्मारक बनाने की उन्हें याद क्यों नहीं आयी.जाहिर है नगरीय निकाय चुनाव से पहले इस मुद्दे को भुनाने की बीजेपी (BJP) की तैयारी है.

  • Share this:
इंदौर.इंदौर (Indore) में नगरीय निकाय चुनाव से पहले देवी अहिल्याबाई होल्कर के स्मारक का मुद्दा उठ गया है.पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन (Sumitra Mahajan) ने  कलेक्टर की जनसुनवाई में पहुंचकर स्मारक के लिए ज़मीन मांगी तो कांग्रेस ने पूछा-30 साल सांसद रहते हुए ताई स्मारक क्यों नहीं बनवाया.इस सब के बीच ताई जल्द ही इस मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान से भी चर्चा करने वाली हैं.

नगरीय निकाय चुनाव आते ही बीजेपी ने इंदौर में एक नया मुद्दा छेड़ दिया है. इंदौर से लगातार 30 साल तक सांसद रहीं पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन अपने समर्थक पार्षदों के साथ कलेक्टर मनीष सिंह की जनसुनवाई में पहुंची थीं और कलेक्टर से स्मारक के लिए 3 से 4 एकड़ जमीन की मांग की थी.सुमित्रा महाजन ने कहा उनकी सालों से इच्छा थी कि जिस अहिल्याबाई के नाम से इंदौर को जाना जाता है उनकी स्मृतियों को चिर स्थानी बनाने के लिए शहर में उनका एक स्मारक बनाया जाना चाहिए.उसमें देवी अहिल्याबाई के किए काम का सजीव चरित्र चित्रण हो.उनके जीवन से जुड़ी घटनाओं को लाइट एंड साउंड शो प्रोग्राम के जरिए दिखाया जाए.अहिल्या बाई पर लिखी गई किताबों की एक लाइब्रेरी भी बनाई जाए,जिससे देवी अहिल्याबाई के जीवन दर्शन,उनकी वीरता, प्रशासनिक क्षमता को लोग जान सकें.

कलेक्टर से मुलाकात
पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने अपनी ये इच्छा आज इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह को बताई और जल्द से जल्द जमीन तलाशने की बात कही. ताकि एक ठोस प्रस्ताव बनाकर सीएम शिवराज सिंह चौहान को भेजा  जा सके.कलेक्टर मनीष सिंह का कहना है इस शहर पर हमेशा देवी अहिल्याबाई होलकर का आशीर्वाद रहा है इसलिए ताई की परिकल्पना है कि देवी अहिल्याबाई होलकर का स्मारक शहर में बने.इससे आने वाली पीढ़ी उनके धार्मिक और सामाजिक कार्यों के महात्व समझ सकेगी.
बजट कहां से आएगा?


,देवी अहिल्या स्मारक के लिए बजट कहां से आएगा,ये अभी तय नहीं हैं और स्मारक का स्वरूप क्या होगा औऱ कब तक बनेगा इसके लिए अभी प्लान तैयार नहीं किया गया है.लेकिन नगरीय निकाय चुनाव से पहले ये मुद्दा उठाकर बीजेपी एक तीर से दो निशाने जरूर साध दिए है.इससे एक तो मराठी वोटर एकजुट हो जाएंगे और दूसरा अहिल्या माता के नाम पर लोगों की सहानुभुति भी मिल जाएगी,जिसका फायदा पार्टी को चुनाव में होगा.

कांग्रेस ने पूछा-30साल ताई को याद क्यों नहीं आयी
ताई की इस पहल पर कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष अर्चना जायसवाल ने पूछा जब सुमित्रा महाजन 30 साल तक इंदौर की सांसद रहीं तब स्मारक बनाने की उन्हें याद क्यों नहीं आयी.जाहिर है नगरीय निकाय चुनाव से पहले इस मुद्दे को भुनाने की बीजेपी की तैयारी है.उन्होंने कहा बीजेपी की अंदरूनी राजनीति की वजह से बुजुर्गों को सम्मान नहीं मिलता है. ताई जैसी बुजुर्ग और सम्मानित महिला को सीढ़ियां चढ़कर कलेक्टर की जनसुनवाई में जाना पड़ रहा है इससे आप अंदाजा लगा लीजिए कि आम लोगों की स्थिति क्या होगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज