अपना शहर चुनें

States

Indore : Online shopping में कंपनियों को ठग रहे थे शातिर, दिल्ली से जुड़े तार

गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम दिल्ली रवाना हो गयी है.
गिरोह के अन्य सदस्यों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम दिल्ली रवाना हो गयी है.

Indore : आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा के मुताबिक़ क्राइम ब्रांच पुलिस (Crime branch police) ने एक शातिर ठग गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है, जो ई कॉमर्स वेब साइट्स के माध्यम से मोबाइल कंपनियों को ठग (Thug) रहे थे.

  • Share this:
इंदौर. इंदौर (Indore) की क्राइम ब्रांच पुलिस ने ई-कॉमर्स वेब साइट्स के ज़रिए धोखाधड़ी करने वाले दो आरोपियों (Thug) को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने आरोपियों के कब्जे़ से लाखों रुपये के मोबाइल फोन जब्त किए हैं.

इंदौर क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का खुलासा किया है जो लम्बे समय से डिजिटल दुनिया का फायदा उठाकर धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दे रहा था. पुलिस ने  गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया है. ये अब तक कई कम्पनियों को लाखों रुपये का चूना लगा चुके हैं.

आम तौर पर कई लोग ई कॉमर्स वेब साइट्स का उपयोग मनपसंद सामान खरीदने के लिए करते हैं. ठग गैंग इनका भी दुरुपयोग कर रहा था.आरोपियों ने कबूला है कि वो ई कॉमर्स वेब साइट्स पर महंगे मोबाइल फोन के ऑर्डर करते थे.फोन की डिलीवरी होने के कुछ घंटे बाद ही वो उसकी क्वालिटी खराब होने की शिकायत कर देते थे. और ब्रांडेड असली मोबाइल फोन की जगह नकली फोन रख देते थे. चूँकि कम्पनी की रिफंड की पालिसी होती है. इसलिए वह या तो नया मोबाइल फोन भेजती या उसके बदले नगद राशि खाते में भेज देती थी.




दिल्ली से सैटिंग
आरोपियों ने दिल्ली की किसी खास दुकान से सेटिंग की हुई थी. जहां से वह ऑर्डर किये हुए मोबाइल फोन से मिलता जुलता सस्ता हैंडसेट मंगवाते थे. इतना ही आरोपी एक विशेष सॉफ्टवेयर के ज़रिए नकली हैंडसेट में असली मोबाइल के आईएमईआई नंबर भी कॉपी कर देते थे. ऐसी परिस्थिति में कम्पनी अक्सर इस बात पर भरोसा करने पर मजबूर हो जाती थी कि वाकई ग्राहक को गलत मोबाइल डिलीवर हुआ है. आरोपी हर बार मोबाइल ऑर्डर करने नए मेल आईडी और एड्रेस का उपयोग करते थे. इसकी वजह से भी वह लम्बे समय तक कम्पनी की निगाह से बचे रहे और धोखाधड़ी करते रहे.

अंतर्राज्यीय गिरोह
एक दुकानदार और कंपनी से मिली शिकायत के बाद पुलिस ने जांच शुरू की. शुरुआती पड़ताल में ही दो आरोपी पकड़ में आ गए. दोनों आरोपी मूलतः ग्वालियर के रहने वाले हैं. पुलिस ने इनके कब्जे से लगभग दस लाख रूपये के एक दर्जन हैंडसेट जब्त किये हैं. पुलिस को इनके गिरोह से और भी कई लोगों के जुड़े होने की जानकारी मिली है. पुलिस को आशंका है कि यह गिरोह अंतर्राज्यीय है, जो लम्बे समय से वारदात को अंजाम दे रहा है. पुलिस ने दूसरे राज्यों में गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार करने के लिए अलग अलग टीम रवाना कर दी हैं.

यूपी-दिल्ली से जुड़े तार
आईजी हरिनारायण चारी मिश्रा के मुताबिक़ क्राइम ब्रांच ने एक शातिर ठग गैंग के दो सदस्यों को गिरफ्तार किया है, जो ई कॉमर्स वेब साइट्स के माध्यम से मोबाइल कंपनियों को ठग रहे थे. आरोपियों के तार उत्तर प्रदेश और दिल्ली से जुड़े हैं. जल्द ही गिरोह के अन्य सदस्य भी गिरफ्तार होंगे.शुरुआती पूछताछ में पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से दस लाख से अधिक कीमत के हैंडसेट जब्त किये हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज