Home /News /madhya-pradesh /

अब वायु प्रदूषण रोकथाम में भी अव्वल होगा इंदौर, 168 छोटे-बड़े उद्योग चिन्हित, जानिए सबकुछ

अब वायु प्रदूषण रोकथाम में भी अव्वल होगा इंदौर, 168 छोटे-बड़े उद्योग चिन्हित, जानिए सबकुछ

एमपी की आर्थिक राजधानी इंदौर अब स्वच्छता के साथ-साथ पर्यावरण बचाने में अव्वल नंबर पर होगी.

एमपी की आर्थिक राजधानी इंदौर अब स्वच्छता के साथ-साथ पर्यावरण बचाने में अव्वल नंबर पर होगी.

Madhya Pradesh News: एमपी की आर्थिक राजधानी इंदौर स्वच्छता के बाद अब पर्यावरण बचाव में अव्वल आने की तैयारी कर रही है. यहां पर्यावरण को स्वच्छ करने के लिए युद्ध स्तर पर काम शुरू कर दिया गया है. इंदौर नगर-निगम और पर्यावरण प्रदूषण बोर्ड साथ मिलकर काम करने की योजना बना रहे हैं. इससे प्रदूषण का स्तर कम होगा और एयर क्वालिटी इंडेक्स में सुधार होगा. साफ आबो-हवा के लिए प्रशासन ने प्रदूषण फैलाने वाले 168 उद्योगों की पहचान कर ली है. इनके बॉयलर को सीएनजी में तब्दील किया जाएगा, ताकि प्रदूषण न हो.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. सफाई के साथ-साथ अब वायु प्रदूषण रोकथाम में भी इंदौर अव्वल होगा. इसे लेकर युद्ध स्तर पर काम शुरू कर दिए गए हैं. प्रशासन ने प्रदूषण फैलाने वाले 168 छोटे-बड़े उद्योग चिन्हित कर लिए हैं. 56 बाजार में दुकानों पर मौजूद भट्टियों के उपयोग पर दुकानदारों ने सहमति से प्रतिबंध लगा दिया है. अब इन दुकानों पर गैस का ही इस्तेमाल होगा. भट्टी से  प्रदूषण फैलता था, लेकिन अब इससे निजात मिलेगी.

जानकारी के मुताबिक, शहर में वायु प्रदूषण को कम करने के लिए इंदौर में संचालित उद्योगों में लकड़ी का इस्तेमाल बंद कर दिया जाएगा. 168 छोटे और बड़े उद्योगों में बॉयलर को सीएनजी में तब्दील कराया जाएगा. इसके लिए प्रदूषण नियंत्रण मंडल की टीमें भी निरीक्षण करेंगी. दरअसल इंदौर में प्रदूषण कम करने के लिए अलग-अलग विभागों ने संयुक्त प्रयास शुरू कर दिए हैं. एयर क्वालिटी इंडेक्स को बेहतर करने के लिए कलेक्टर ने संबंधित विभागों को निर्देश भी दिए हैं. अब होटलों में उपयोग होने वाले तंदूर सीएनजी से चलाए जाएंगे. वहीं, ईंट-भट्टी और दाल मिल से होने वाले प्रदूषण पर भी रोक लगाई जाएगी.

शहर में सीएनजी गाड़ियों पर दिया जाएगा जोर

मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर में प्रदूषण कम करने के लिए प्रशासन जन जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा. इस मामले को लेकर इंदौर सांसद शंकर लालवानी ने एक कार्यक्रम में कहा था कि पर्यावरण बचाने के लिए लोगों में जागरूकता लाई जाएगी, ताकि, इंदौर के एयर क्वालिटी इंडेक्स को सुधारा जा सके. शहर में सीएनजी वाहनों को चलाने पर ज्यादा जोर दिया जाएगा. साथ ही पेट्रोल और डीजल की गुणवत्ता में भी सुधार लाया जाएगा.

पर्यावरण को लेकर इन बातों पर ध्यान

गौरतलब है कि अब स्वच्छता सर्वेक्षण में सफाई के साथ-साथ वायु प्रदूषण के सूचकांक को भी शामिल किया गया है. इस वजह से इंदौर में पर्यावरण सुधार का काम पहले ही शुरू कर दिया गया है. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड शुरू से ही नगर निगम से सम्पर्क स्थापित कर पत्राचार कर चुका है. इसमें स्पष्ट था कि कि शहर में सड़कों पर सफाई करते वक्त पहले पानी का छिड़काव किया जाए और निर्माण एवं सुधार कार्य के वक्त बिल्डिंग के बाहर ग्रीन नेट लगाई जाए.

लगातार हो रहा काम

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के प्रयोगशाला प्रभारी एसएन पाटिल के मुताबिक फिलहाल शहर में वायु सूचकांक मॉडरेट स्थिति में है, लेकिन लगातार प्रयास यही करना है कि वायु सूचकांक और न बढ़े. इसको लेकर लगातार काम किया जाता है. औधोगिक इलाको में निरीक्षण किया जाता है, लकड़ी कोयले की भट्टी आदि के उपयोग पर प्रतिबंध है. समय-समय पर निरीक्षण के दौरान नियमों का उललंघन करने वालों के खिलाफ कार्यवाही की जाती है. 56 बाजार संघ के अध्यक्ष गुंजन शर्मा के मुताबिक पूरे बाजार में भट्टी के उपयोग को हमने स्वप्रेरणा से ही बंद कर दिया है. इसके बेहतर परिणाम आने वाले समय में अवश्य नजर आएंगे.

Tags: Indore news, Mp news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर