Home /News /madhya-pradesh /

इंदौर लोकसभा सीट: ताई फिर मैदान संभालने के लिए तैयार, कांग्रेस को कैंडिडेट की तलाश

इंदौर लोकसभा सीट: ताई फिर मैदान संभालने के लिए तैयार, कांग्रेस को कैंडिडेट की तलाश

सुमित्रा महाजन

सुमित्रा महाजन

लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन लगातार यहां से सांसद हैं. वो पहली ऐसी महिला सांसद हैं जो लगातार एक ही सीट और पार्टी से चुनाव जीतती आ रही हैं.

    इंदौर से आठ बार सांसद रहीं सुमित्रा महाजन 'ताई' फिर अपना भाग्य आजमाने को तैयार हैं. लेकिन कांग्रेस अभी भी उपयुक्त कैंडिडेट की तलाश में हैं. बीजेपी का गढ़ मानी जाने वाली इस सीट पर पिछले 29 साल से उसका कब्ज़ा है. लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन लगातार यहां से सांसद हैं. वो पहली ऐसी महिला सांसद हैं जो लगातार एक ही सीट और पार्टी से चुनाव जीतती आ रही हैं.

    लेकिन क्या ताई इस बार इतिहास दोहरा पाएंगी. ये सवाल इसलिए क्योंकि 3 महीने पहले हुए विधानसभा चुनाव में इंदौर लोकसभा सीट की आठ में से 4 सीटें कांग्रेस ने जीत ली हैं. बीजेपी के पास सिर्फ 4 सीट ही बचीं. इसलिए इस बार दोनों के बीच कांटे का मुकाबला माना जा रहा है.

    सुमित्रा महाजन इंदौर की राजनीति का एक ऐसा नाम जिसने सफलता की बुलंदियों का स्वर्णिम इतिहास रचा. मालवा की राजनीति में ताई के नाम से पहचाने जाने वाली लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन देश की ऐसी पहली महिला सांसद हैं जो एक ही सीट से लगातार आठ बार लोकसभा चुनाव जीती हैं. उनका जन्म 12 अप्रैल 1943 को महाराष्ट्र के चिपलुन में हुआ था. ताई के पिता संघ प्रचारक थे. ताई की शादी इंदौर में एडवोकेट रहे स्व. जयंत महाजन से हुई थी. ताई के दो बेटे मिलिंद और मंदार हैं.

    सुमित्रा महाजन का राजनीतिक जीवन 1980 के दशक में शुरू हुआ जब वो इंदौर की उप महापौर चुनी गईं. उसके बाद उन्हें इंदौर 3 से विधानसभा का टिकट दिया. लेकिन कांग्रेस के महेश जोशी ने उन्हें हरा दिया. ताई के अब तक के राजनीतिक जीवन में बस यही उनकी एकमात्र हार थी. उसके बाद 1989 में सुमित्रा महाजन लोकसभा चुनाव में उतरीं और कांग्रेस के हैविवेट नेता प्रकाश चंद्र सेठी को हराया.

    ये भी पढ़ें - क्या कभी टूटेगी MP के इन मज़बूत किलों की दीवार, सियासत के वे गढ़ जहां नहीं होती सेंधमारी

    करीब तीन दशक से कांग्रेस इंदौर सीट पर जीत के लिए छटपटा रही है. कांग्रेस की एक पूरी युवा पीढ़ी उन्हें सांसद देखते हुए बुजुर्ग हो गयी. वे देश की एकमात्र महिला सांसद हैं जो एक ही लोकसभा क्षेत्र और एक ही पार्टी से लगातार आठ लोकसभा चुनाव जीत चुकी हैं और नौवीं बार ताल ठोक रहीं हैं. इंदौर लोकसभा क्षेत्र में कुल 24,71,794 मतदाता हैं. इनमें-
    वैश्य - 1,69,000
    बोहरा - 22,000
    मुस्लिम - 2,70,000
    मराठी - 3,50,000
    सिंधी - 2,00,000
    ईसाई - 22,000
    राजपूत - 4,50,000
    ब्राह्मण - 2,00,000
    गुजराती - 32,000
    वाल्मीकि - 80,000
    सिख - 65,000
    जैन - 90,000

    अगर इंदौर सीट के राजनैतिक समीकरण की बात करें तो इस बार चुनाव में ना कोई लहर है और न हवा,जो अच्छा उम्मीदवार खड़ा करेगा,मुकाबला उतना ही रोचक होगा. लेकिन कांग्रेस के सामने समस्या यही है कि 76 साल की ताई के सामने किसे खड़ा किया जाए जो कड़ी टक्कर दे सके.हालांकि कांग्रेस ने फिल्म अभिनेता सलमान खान को चुनाव लड़ाने पर मंथन किया है. सलमान का जन्म इंदौर में हुआ था और उनका परिवार भी यहीं रहता है.लेकिन वो ताई को टक्कर दे पाएंगे इस पर संशय है. यही कारण है कि कांग्रेस में मंथन का दौर जारी है.

    ये भी पढ़ें - ताई सुमित्रा महाजन की बैठक में एक टिप्पणी से मच गया बवाल

    रही बात इंदौर के विकास की तो सुमित्रा महाजन के पक्ष में कई बातें जाती हैं. ताई के सांसद प्रतिनिधि राजेश अग्रवाल का कहना है ताई ने इंदौर को विकास में अव्वल नंबर पर ला दिया है. इंदौर से 90 से ज्यादा फ्लाइट और 100 से ज्यादा ट्रेन चलवायीं. इंदौर देश का पहला ऐसा शहर है जहां आईआईएम और आईआईटी दोनों संस्थान है. हालांकि अग्रवाल के इन दावों से आम जनता सहमत नहीं है. वो कहती है विकास तो एक सतत प्रक्रिया है.

    Tags: BJP, Congress, Election 2019, Indore news, Madhya Pradesh Lok Sabha Constituencies Profile, Sumitra mahajan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर