Home /News /madhya-pradesh /

mhow bomb blast case accused youth also died army and police started search operation mpsg

महू बम कांड में आरोपी युवक की भी मौत, सेना और पुलिस ने ली घर घर की तलाशी

महू कैंट इलाके के पास एक गांव में आपसी लड़ाई में बम फेंका गया था. उसमें अब तक दो लोगों की मौत हो चुकी है.

महू कैंट इलाके के पास एक गांव में आपसी लड़ाई में बम फेंका गया था. उसमें अब तक दो लोगों की मौत हो चुकी है.

Indore News. इलाके में हुए बम काण्ड के बाद पुलिस और सेना ने इलाके में सर्चिंग ऑपरेशन चलाया. सर्च ऑपरेशन में सेना को एक ही घर में दस बम मिले. गनीमत रही कि यह बम डिफ्यूज थे. इन बम को सेना ने नष्ट कर दिया. साथ ही रेंज के आसपास मिले बम को भी सेना ने डिफ्यूज किया. महू (Military Headquarters Of War.) के बड़गोंदा थाना इलाके में स्थित बेरछा गांव में रविवार रात कौशल परिवार में विवाद होने लगा था. बेरछा गांव महू के फायरिंग रेंज से लगा हुआ है. यहां अक्सर सेना के अधिकारी प्रेक्टिस करते हैं. यहां बमबारी की भी प्रेक्टिस होती है. कई अबार कुछ बम ऐसे होते है जो उपयोग युक्त नहीं होते है या प्रेक्टिस के दौरान चलते नहीं हैं. वह भी फ़ायरिंग रेंज के आसपास पड़े रहते हैं.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. महू बम कांड में एक और मौत हो गयी है. बम फेंकने वाले आरोपी ने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया. पुलिस और सेना पूरी तरह एक्शन में है. उसने पूरे इलाके में तलाशी अभियान छेड़ दिया है. एक ही घर से 10 डिफ्यूज बम मिल हैं. फायरिंग रेंज में मिले बम सेना ने डिफ्यूज कर दिए.

इंदौर से सटे महू के बड़गोंदा थाना इलाके में रविवार रात एक ही परिवार के दो गुटों में बड़ा विवाद हो गया था. यह विवाद परिवार की एक महिला से संबंधित आपत्तिजनक टिप्पणी और अन्य कारणों से उपजा था. विवाद के दौरान एक युवक घर से बम लाया और भीड़ पर फेंक दिया. बम की चपेट में आकर मौके पर ही एक युवक की मौत हो गई थी और 15 से अधिक लोग घायल हो गए थे. अब बम फेंकने वाले युवक विशाल की भी इलाज के दौरान मौत हो गई.

एक घर में 10 बम
इलाके में हुए बम काण्ड के बाद पुलिस और सेना ने इलाके में सर्चिंग ऑपरेशन चलाया. सर्च ऑपरेशन में सेना को एक ही घर में दस बम मिले. गनीमत रही कि यह बम डिफ्यूज थे. इन बम को सेना ने नष्ट कर दिया. साथ ही रेंज के आसपास मिले बम को भी सेना ने डिफ्यूज किया. महू (Military Headquarters Of War.) के बड़गोंदा थाना इलाके में स्थित बेरछा गांव में रविवार रात कौशल परिवार में विवाद होने लगा था. बेरछा गांव महू के फायरिंग रेंज से लगा हुआ है. यहां अक्सर सेना के अधिकारी प्रेक्टिस करते हैं. यहां बमबारी की भी प्रेक्टिस होती है. कई अबार कुछ बम ऐसे होते है जो उपयोग युक्त नहीं होते है या प्रेक्टिस के दौरान चलते नहीं हैं. वह भी फ़ायरिंग रेंज के आसपास पड़े रहते हैं. इस इलाके में सामान्य तौर पर किसी भी तरह का प्रवेश प्रतिबंधित है. बावजूद इसके ग्रामीण चोरी छुपे घुस जाते हैं और चले हुए बम उठाकर ले आते हैं. उनमें से निकलने वाली धातु को बेचकर थोड़ा बहुत पैसा कमा लेते हैं. कई बार वह चले हुए और गैर चले हुए बम में फर्क नहीं कर पाते और अनजाने में उनसे बम चल जाता है और लोग घायल हो जाते हैं.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस ने राहुल गांधी के लिए एमपी में तैयार किया बड़ा प्लान, जानिए क्या है पूरा मसला

भीड़ पर बम फेंका
रविवार रात भी झगड़े के बाद विशाल घर गया और घर पर रखे बम लेकर वहा पहुंच गया, जहां झगड़ा चल रहा था. विशाल ने भीड़ पर बम फेंक दिया. बम फेंकते ही घटना स्थल पर जोरदार धमाका हुआ. इसमें लगभग 14 साल के वैभव नामक किशोर की मौके पर ही मौत हो गई और लगभग 15 लोग घायल हो गए. बम फेंकने वाला विशाल भी गंभीर घायल हो गया, उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. लेकिन उसकी भी मौत हो गई.

सर्चिंग अभियान
इलाके में हुए बमकांड के बाद पुलिस और सेना मंगलवार सुबह से ही एक्शन मोड में आ गए. सेना ने पुलिस के साथ मिलकर आसपास इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया. इसमें एक घर से दस डिफ्यूज बम सेना ने बरामद किए. इसके साथ फायरिंग रेंज के आउटर इलाके में भी सर्चिंग ऑपरेशन चलाया. सेना को वहां से भी बम बरामद हुए, डिफ्यूज बम को सेना ने नष्ट कर दिया. एक्टिव बम डिफ्यूज कर दिया.

आरोपी की मौत
बड़गोंदा थाना पुलिस फिलहाल पूरे मामले की जांच कर रही है. उस बमकांड के मुख्य आरोपी विशाल की मौत हो जाने से जांच की रफ्तार जरूर धीमी हो गई. लेकिन पुलिस अधिकारी का दावा है कि इस मामले की विस्तार से जांच की जा रही है.

Tags: Indore News Update, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर