कर्ज से तंग आकर आत्महत्या करने वाले किसान के घर पहुंचीं महिला बाल विकास मंत्री
Indore News in Hindi

कर्ज से तंग आकर आत्महत्या करने वाले किसान के घर पहुंचीं महिला बाल विकास मंत्री
मृतक किसान के परिजनों को ढांढस बंधाती महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस

बुरहानपुर के भोलाना गांव में कर्ज से तंग आकर आत्महत्या करने वाले किसान के यहां महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस पहुंची. प्रदेश सरकार की मंत्री सहकारिता विभाग, राजस्व विभाग के अफसरों के साथ वहां पहुंची और पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाई.

  • Share this:
बुरहानपुर के भोलाना गांव में कर्ज से तंग आकर आत्महत्या करने वाले किसान के यहां महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस पहुंची. प्रदेश सरकार की मंत्री सहकारिता विभाग, राजस्व विभाग के अफसरों के साथ वहां पहुंची और पीड़ित परिवार को ढांढस बंधाई. उन्होंने गांव में लोगों से उनकी समस्याओं को लेकर चर्चा की.

मंत्री चिटनीस ने मीडिया से चर्चा करते हुए किसान द्वारा आत्महत्या करने की घटना पर गहरा दुख जताया. उन्होंने कहा कि मृतक किसान या गांव के किसी भी किसान या थिल्लारी समाज के लोगों ने अपने बच्चों को गिरवी नहीं रखा है. कुल मिलाकर मीडिया में किसान और इस गांव के अन्य लोगों द्वारा अपने बच्चों को कुछ पैसों के एवज में गिरवी रखने के मामले की बात सच नहीं है.

मीडिया में शोर शराबे के बाद थिल्लारी समाज बैकफुट प नजर आ रहा है. यह समाज अब अपने बच्चों को गिरवी रखने की बात से साफ इंकार कर रहा है. वहीं दबी जबान में सालदारी यानी परिवार के किसी सदस्य को साल भर की मजदूरी एडवांस में लेकर उसका काम पर रखवाने की परंपरा को समाज के लोग स्वीकार कर रहे हैं.



महिला बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस ने साफ कहा इस परिवार को विभिन्न सरकारी योजनाओं से जोड़कर सहायता दी जाएंगी. इसका सहकारी सोसायटी का बकाया 90 हजार लोन जो मुख्यमंत्री समाधान योजना में घटकर 34 हजार हो गया है, उसकी भरपाई मंत्री स्वेच्छानुदान मद जनभागीदारी से होगी. जरूरत पड़ी तो मृतक किसान के परिवार को खेती के लिए दोबारा लोन दिलाया जाएगा.



 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading