कमलनाथ से मिलने का समय मांगा तो निशाने पर आए शिवराज!

कृषि मंत्री सचिन यादव और श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने शिवराज सिंह पर जमकर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि पिछले 15 साल में शिवराज सरकार ने किसानों के नाम पर सिर्फ राजनीतिक रोटियां सेकी

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 11, 2019, 5:45 PM IST
कमलनाथ से मिलने का समय मांगा तो निशाने पर आए शिवराज!
शिवराज-कमलनाथ (फाइल फोटो)
Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 11, 2019, 5:45 PM IST
मध्यप्रदेश के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने किसानों के मुद्दे पर सीएम कमलनाथ से मिलने का वक्त क्या मांगा प्रदेश में सियासी भूचाल आ गया. कमलनाथ सरकार के मंत्रियों कृषि मंत्री सचिन यादव और श्रम मंत्री महेन्द्र सिंह सिसोदिया ने शिवराज सिंह पर जमकर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि पिछले 15 साल में शिवराज सरकार ने किसानों के नाम पर सिर्फ राजनीतिक रोटियां सेकी हैं. बीजेपी की सरकार ने किसानों पर गोलियां चलवाई है और एक बार फिर किसानों के बहाने सियासी लाभ लेने की तैयारी बीजेपी कर रही है.

दरअसल, किसानों की कर्ज माफी और धान खरीदी की शिकायतों को लेकर पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कमलनाथ से मिलने का वक्त मांगा. इस पर कृषि मंत्री सचिन यादव की त्यौरियां चढ़ गईं. इंदौर पहुंचे सचिन यादव ने कहा कि कर्ज माफी योजना एक प्रक्रिया है और इतिहास में ऐसी पहली सरकार जिस पर किसानों ने विश्वास किया कर्ज माफी के नाम पर बीजेपी सरकार ने बहुत बड़ा घोटाला किया है.

तस्वीरों में देखें: कैसी है कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ की निजी जिन्दगी



उन्होंने आरोप लगाया कि शिवराज की नाक के नीचे इस घोटाले को अंजाम दिया गया. पिछले 15 साल में किसानों के नाम बीजेपी ने सिर्फ राजनीति की है किसानों को कोई लाभ नहीं पहुंचाया. वहीं उन्होने कहा कि धान खरीदी में कहीं से भी गड़बड़ी की शिकायतें नहीं मिलीं हैं.

वहीं श्रम मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने शिवराज सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि कर्ज माफी का विरोध करने वाले शिवराज अब किस मुंह से कमलनाथ से मिलना चाह रहे हैं. बीजेपी सरकार ने किसानों कभी भला नहीं किया. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार मजदूरों के बच्चों के प्लेसमेंट तक की व्यवस्था कर रही है. अब मजदूरों के बच्चे विदेशों में प्लेसमेंट लेंगे. सरकार उनकी पढ़ाई और नौकरी की व्यवस्था कर रही है. कांग्रेस के शासन में हर वर्ग का ख्याल रखा जा रहा है.

यह पढ़ें- MP: लोकसभा चुनाव 2019 में सपा-बसपा गठबंधन किसका बिगाड़ेगा खेल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...