अपना शहर चुनें

States

दिल्ली के किसान आंदोलन का BJP इंदौर में देगी जवाब, 16 दिसंबर को रैली में समझाएगी कृषि कानून

इंदौर में होने वाली रैली में किसानों को नये कृषि कानून के बारे में बताया जाएगा.
इंदौर में होने वाली रैली में किसानों को नये कृषि कानून के बारे में बताया जाएगा.

कांग्रेस के देपालपुर से विधायक (Congress MLA) विशाल पटेल ने कहा इससे बीजेपी का दोहरा चरित्र सामने आ गया है. बीजेपी (BJP) की सरकार एक तरफ कोरोना के चलते भीड़ न जुटाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील कर रही है. वहीं दूसरी ओर हजारों लोगों की भीड़ जुटाकर उनके जीवन को संकट में डाल देगी.

  • Share this:
इंदौर. नए कृषि कानून के विरोध में दिल्ली (Delhi) में चल रहे किसान आंदोलन Farmer agitation) का अब इंदौर में जवाब दिया जाएगा. इंदौर में नये कृषि कानून के समर्थन में किसान रैली होने जा रही है. दावा है कि इसमें लाखों किसान शामिल होंगे. ये रैली बीजेपी 16 दिसंबर को कर रही है.

15 दिन दिल्ली-NCR में हो रहे किसान आंदोलन की सुर्खियों के बीच अब ये खबर इंदौर से आयी है. बीजेपी 16 तारीख को किसान रैली कर रही है. इसमें किसानों को नये कृषि कानून के बारे में सही-सही जानकारी दी जाएगी. ताकि वो गलत बातों और अफवाहों में न आएं.बीजेपी ने भी अब किसानो के बीच जाकर कृषि कानून को समझाने का ऐलान किया है. इंदौर में होने वाले बीजेपी के इस किसान सम्मेलन के जरिए नये कानून की बारीकियां वो समझाएगी. साथ ही किसानों को कृषि कानून पर फैलाए जा रहे झूठ और कृषि कानून से भविष्य में उन्हें होने वाले फायदे के सच की जानकारी भी दी जाएगी.

किसानों को समझाएंगे 'हम'
इंदौर पहुंचे बीजेपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और सांसद नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा देश और देश का किसान मोदी जी के साथ खड़ा है. कांग्रेस पहले इन कानूनों का समर्थन करती थी वो आज इसका विरोध कर रही है. इसीलिए 16 दिसंबर को बीजेपी इंदौर में किसान रैली करेगी. इसका नेतृत्व बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा करेंगे.शहर के दशहरा मैदान में किसान सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा जिसमें हजारों की संख्या में किसान शिरकत करेंगे.इसमें कृषि कानून के फायदे किसानों को बताए जाएंगे.इसके अलावा कृषि कानून पर जो भ्रम किसानों के बीच फैला हुआ है उसे भी दूर करने की कोशिश की जाएगी.
रैली पर एतराज़


कोरोना काल में हो रही किसान रैली पर कांग्रेस ने आपत्ति जताई है. कांग्रेस के देपालपुर से विधायक विशाल पटेल ने कहा इससे बीजेपी का दोहरा चरित्र सामने आ गया है. बीजेपी की सरकार एक तरफ कोरोना के चलते भीड़ न जुटाने, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील कर रही है. वहीं दूसरी ओर हजारों लोगों की भीड़ जुटाकर उनके जीवन को संकट में डाल देगी. इंदौर कोरोना का हॉट स्पॉट बना हुआ है. ऐसे में यहां भीड़ जुटने से संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाएगा.इसलिए सीएम शिवराज सिंह से अपील है कि वे इंदौर में ऐसा कोई काम न करे जिससे जनता की जान जोखिम में पड़े. एक तरफ आपकी सरकार दिल्ली बॉर्डर पर किसानों के साथ अत्याचार कर रही है वहीं दूसरी ओर आप लोग किसान सम्मेलन कर किसान रैली कर रहे हैं. ये बीजेपी की दोहरी नीति किसान भी समझ रहे हैं.

कोरोना का ख़तरा
शादी त्योहार का सीजन होने के कारण इंदौर में फिर कोरोना तेज़ी से फैलने लगा था. राजनैतिक आयोजनों,त्यौहारों और शादियों में जुटी भीड़ की वजह से रोज पांच सौ से ज्यादा मरीज मिल रहे थे. लेकिन पिछले 3 दिन से ये संख्या चार सौ के करीब आई है. ऐसे में भीड़ भरे आयोजन से एक बार फिर कोरोना का संक्रमण बढ़ सकता है.हालांकि बीजेपी इस आयोजन को सोशल डिस्टेंसिंग के साथ करने की बात कह रही है. लेकिन देखने वाली बात ये होगी कि इस आयोजन में सोशल डिस्टेस का कितना पालन हो पाता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज