अपना शहर चुनें

States

INDORE : महापौर पद की रेस में MLA रमेश मेंदौला,संजय शुक्ला,विशाल पटेल और जीतू पटवारी भी शामिल

इंदौर महापौर का पद इस बार अनारक्षित है.
इंदौर महापौर का पद इस बार अनारक्षित है.

कांग्रेस (Congress) की ओर से महापौर के लिए जिताऊ चेहरे की तलाश जारी है. पहले आजमाए जा चुके चेहरों को इस बार मौका नहीं मिलेगा,भाजपा की ओर से दौड़ में मधु वर्मा जीतू जिराती,रमेश राठौर समेत जहां कई दावेदार शामिल हैं,तो वहीं अब सामान्य पद होने पर मंत्री पद ना मिलने के कारण रमेश मेंदोला का नाम मेयर प्रत्याशी के लिए फाइनल हो सकता है.

  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश (MP) में जल्द ही नगरीय निकाय चुनाव होने की संभावना है. तारीखों का ऐलान अभी नहीं हुआ लेकिन आज महापौर और अध्यक्ष पदों के लिए आरक्षण की प्रक्रिया पूरी कर ली गयी. इंदौर (Indore) नगर निगम में महापौर का पद अनारक्षित यानि मुक्त रखा गया है. यानि इस पद पर किसी भी वर्ग और लिंग का प्रत्याशी चुनाव लड़ सकता है.इसी के साथ इस पद के लिए दावेदारों में जारी होड़ और तेज़ हो जाएगी.

जैसी कि उम्मीद थी नगरीय निकाय चुनाव के लिए इंदौर मेयर पद किसी वर्ग के लिए आरक्षित नहीं किया गया है. ये सामान्य रखा गया है. महापौर पद के चुनाव के लिए शहर के सक्रिय राजनेता दावेदारों की सूची में सबसे आगे चल रहे हैं. फिलहाल जीतू पटवारी, रमेश मेंदौला, संजय शुक्ला और विशाल पटेल इस दौड़ में शामिल हैं. इंदौर नगर निगम महापौर का पद पिछली बार महिला ओबीसी के लिए आरक्षित था. इसलिए इस बार इसके मुक्त रहने की पहले से उम्मीद थी. इस बार भी पिछले बार की तरह महापौर और अध्यक्ष पद के लिए साल 2011 की जनगणना के आधार पर ही आरक्षण हो रहा है. ऐसे में जनसंख्या का अनुपात पिछले आरक्षण यानी 2014 जैसा ही होगा यानि अजा-अजजा के लिए आरक्षण में बदलाव नहीं होगा, ऐसी पहले से उम्मीद की जा रही थी.





ये सब हैं दौड़ में
नगरीय निकाय चुनाव की सुगबुगाहट के बीच महापौर पद के लिए भाजपा और कांग्रेस में दावेदारी शुरू हो गई थी. भाजपा की ओर से दौड़ में मधु वर्मा जीतू जिराती,रमेश राठौर समेत जहां कई दावेदार शामिल हैं,तो वहीं अब सामान्य पद होने पर मंत्री पद ना मिलने के कारण रमेश मेंदोला का नाम मेयर प्रत्याशी के लिए फाइनल हो सकता है. इंदौर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रह चुके और राऊ से टिकट से वंचित किए गए मधु वर्मा सामान्य या ओबीसी, दोनों ही वर्ग में फिट हैं. वहीं जीतू जिराती,गोपी नेमा और सुदर्शन गुप्ता भी दौड़ में हैं. लेकिन इनमें से मंत्री ना बनाए जाने की स्थिति में रमेश मेंदोला की दावेदारी भी सामने आ सकती है.

बीजेपी के मेयर पद के दावेदार -
-विधायक रमेश मेंदौला
- मधु वर्मा,पूर्व आईडीए अध्यक्ष
- जीतू जिराती,पूर्व विधायक
- रमेश राठौर,पूर्व पार्षद
- सुदर्शन गुप्ता,पूर्व विधायक
- गोपी कृष्ण नेमा,पूर्व विधायक

कांग्रेस की ओर से महापौर के लिए जिताऊ चेहरे की तलाश जारी है. पहले आजमाए जा चुके चेहरों को इस बार मौका नहीं मिलेगा.दोनों विधायक विशाल पटेल और संजय शुक्ला दावेदारों की दौड़ में शामिल हैं. वहीं राऊ के विधायक और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी भी महापौर का चुनाव लडऩे के इच्छुक बताए जाते हैं. एक नाम छोटे यादव का भी चर्चा में हैं. हालांकि कांग्रेस की ओर से उतने दावेदार अभी मैदान में नहीं हैं जितने भाजपा की ओर से हैं. इसलिए भाजपा को प्रत्याशी चुनने में खासी मशक्कत करना पड़ेगी, क्योंकि सभी प्रत्याशियों की दावेदारी मजबूत है.

कांग्रेस में मेयर पद के दावेदार 
- जीतू पटवारी,विधायक
- संजय शुक्ला,विधायक
- विशाल पटेल,विधायक
- अश्विनी जोशी,पूर्व विधायक
- सत्यनारायण पटेल,पूर्व विधायक
- विनय बाकलीवाल,शहर अध्यक्ष
- छोटे यादव,पूर्व पार्षद
- अर्चना जायसवाल,प्रदेश उपाध्यक्ष कांग्रेस

50 फीसदी महिला आरक्षण बाय रोटेशन
मध्यप्रदेश में नगरीय निकायों में 50 प्रतिशत महिला आरक्षण बाय रोटेशन होता है. यानी एक बार महिला वर्ग के लिए आरक्षित निकाय अगली बार अनारक्षित रखे जाते हैं. इसका आशय ये हुआ कि पिछली बार अनारक्षित रहे नगर निगम इस बार महिला वर्ग के लिए आरक्षित रखे गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज