गीता को जल्द मिल सकता है उसका परिवार, DNA मैच हुआ तो मां को मिलेगी बेटी

पाकिस्‍तान से भारत लौटी गीता को उसका परिवार मिलने की उम्मीद है. (File pic)

पाकिस्‍तान से भारत लौटी गीता को उसका परिवार मिलने की उम्मीद है. (File pic)

औरंगाबाद की मीना पांद्रे ने दावा किया है कि गीता उसकी बेटी है. गीता 5 साल पहले पाकिस्तान से अपने देश लौटी. मीना ने गीता के शरीर पर एक निशान देखकर ये दावा किया. अब DNA टेस्ट के बाद बेटी को मां को सौंपा जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2021, 10:52 AM IST
  • Share this:
इंदौर. पाकिस्तान से 5 साल पहले अपने देश आई दिव्यांग गीता को उसकी मां मिल गई है. महाराष्ट्र की मीना पांद्रे ने गीता को अपनी बेटी बताया है. मीना औरंगाबाद के वाजुल की रहने वाली हैं. उनके मुताबिक, गीता का नाम राधा वाघमारे है. मीना ने पहले पति के गुजरने के बाद दूसरी शादी कर ली थी.

गीता ने गुरुवार को मीना पांद्रे और उनके परिवार से मुलाकात की. मीना का कहना है कि गीता के पेट पर वही जले का निशान है, जो कभी उनकी गुम हुई बेटी के पेट पर था. अब DNA टेस्ट कराया जाएगा. मीना का गीता से DNA मैच होने के बाद कानूनी प्रक्रियाएं पूरी की जाएंगी. इसके बाद ही गीता को उसकी मां को सौंपा जा सकेगा.

गीता को इस हालत में भारत लाई थीं सुषमा स्वराज



गीता पाकिस्तान में एक रेलवे स्टेशन पर 11-12 साल की उम्र में मिली थी. पाकिस्तान के ईधी वेलफेयर ट्रस्ट ने उन्हें अपने पास रखा था. 26 अक्टूबर 2015 को तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पहल पर गीता को पाकिस्तान से भारत लाया गया था. तब उसे इंदौर की मूक-बधिरों की संस्था में रखा गया था. यहां से उसके परिवार की तलाश शुरू की गई. गीता न बोल सकती हैं और सुन पाती हैं. वह पढ़ी लिखी भी नहीं थीं. ऐसे में जानकारी निकलवा पाना मुश्किल था.

इस तरह कर सकते हैं यकीन



इंदौर के आनंद सर्विस सोसायटी के पदाधिकारियों ने बताया कि गीता बोल तो नहीं पाती, लेकिन उसने इशारों में बताया था कि जहां वह रहती थी वहां एक नदी थी और गन्ने, मूंगफली के खेत थे. उनके मुताबिक, ये सभी बातें महाराष्ट्र के औरंगाबाद और इसके आसपास के इलाकों से मेल खाती हैं.

कई लोगों ने किया गीता के माता-पिता होने का दावा





गौरतलब है कि 26 अक्टूबर 2015 को गीता को इंदौर लाया गया था. उसके बाद देशभर के कई दंपतियों ने गीता के माता-पिता होने का दावा किया था. लेकिन हर बार DNA मैच नहीं हुआ. वर्तमान में गीता महाराष्ट्र के परभणी में रह रही है. पाकिस्तान के ईधी वेलफेयर ट्रस्ट की पूर्व प्रमुख दिवंगत अब्दुल सत्तार ईधी की पत्नी बिलकिस ईधी को भी गीता के परिवार से मिलने की जानकारी दी गई है. उन्होंने इस पर खुशी जताई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज