Indore News: कोरोना से पैरेंट्स खो चुके 234 बच्चों को मिला सहारा, नहीं रुकेगी शिक्षा

इंदौर के 234 बच्चों की शिक्षा व्यवस्था कर दी गई है. इन बच्चों ने कोरोना काल में अपने पैरेंट्स को खो दिया था.

Good News: मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के 234 बच्चों के लिए खुश खबरी है. कोविड में माता-पिता को खोने वाले इन बच्चों की शिक्षा नहीं रुकेगी. सांसद शंकर लालवानी ने इनके स्कूल एडमिशन और फीस की व्यवस्था कर दी है. महिलाओं को नौकरी की भी व्यवस्था की जा रही है.

  • Share this:
इंदौर. कोविड में माता-पिता को खोने वाले 234 बच्चों को सहारा मिल गया है. सांसद शंकर लालवानी ने उनकी स्कूल में एडमिशन और फीस की व्यवस्था करा दी है. सांसद लालवानी की पहल पर करीब 1 करोड़ रुपए की राशि इकट्ठा कर बच्चों को फ्री शिक्षा की गारंटी दी गई.

5वीं क्लास में पढ़ने वाले उदय राठौर बताते हैं कि कोरोना होने पर उनके पिता को इंदौर ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया था. लेकिन, 11 रेमेडिसविर और दो तोशी इंजेक्शन लगवाने के बाद भी बचाया नहीं जा सका. उनके परिवार में उनके पिता ही एक अकेले कमाने वाले थे. वे बताते हैं कि बीमार होने से पहले उनके पिता अच्छे स्कूल में पढ़ाने के लिए एडमिशन फॉर्म लेकर आए थे. लेकिन, अचानक उनके चले जाने के बाद पुराने स्कूल में ही पढ़ाई जारी रखना मुश्किल हो गया था.

राष्ट्र निर्माण का आधार शिक्षा- लालवानी

दसवीं क्लास की छात्रा तमन्ना मिश्रा बताती हैं कि उनके पिता भी कोरोना काल में चल बसे. उनकी मां गृहणी हैं और घर में सिर्फ दादी हैं. ऐसे में उनके सामने पढ़ाई जारी रखने का संकट खड़ा हो गया था. लेकिन, अब सांसद की पहल से स्कूल में पढ़ाई जारी रखने का मौका मिला है, जिसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देना चाहती हूं. इस मौके पर सांसद शंकर लालवानी ने कोविड में जान गंवाने वालों को श्रद्धांजलि दी. उन्होंने कहा कि किसी भी समाज और राष्ट्र के निर्माण का आधार शिक्षा ही है. इसलिए जब कोविड में अभिभावकों को गंवाने वाले बच्चों की शिक्षा का सवाल आया तो उन्होंने प्रण किया था कि बच्चों की पढ़ाई नहीं रुकेगी.

महिलाओं के लिए करेंगे नौकरी की व्यवस्था- सांसद

सांसद ने कहा कि अभी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की व्यवस्था की गई है और बुधवार को कॉलेज में पढ़ने वाले बच्चों के लिए बैठक होगी. जल्द ही उनके एडमिशन की भी व्यवस्था की जाएगी. हम जल्द ही नौकरी करने की इच्छुक माताओं-बहनों के लिए उनकी योग्यता के हिसाब से नौकरी की व्यवस्था भी करेंगे. साथ ही, बहनों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण का भी आयोजन किया जाएगा, ताकि वे अपने पैरों पर खड़ीं हो सकें.

कलेक्टर ने की तारीफ

जाल सभागृह में बच्चों को सर्टिफिकेट और चेक का वितरण के इस कार्यक्रम में कलेक्टर मनीष सिंह भी शामिल हुए. उन्होने सांसद लालवानी के इस अभिनव प्रयास की तारीफ की. उन्होने कहा कि सांसद शंकर लालवानी ने ये बहुत बड़ा काम हाथ में लिया और इतने कम समय में इसे पूरा भी कर लिया. ऐसा करने वाले वे देश के एकमात्र सांसद है. बच्चों की पढ़ाई आगे के सालों में भी जारी रहे इसकी व्यवस्था भी की जाएगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.