Indore News: पिछले 24 घंटे में मिला सिर्फ 1 नया मरीज, रिकवरी रेट 99 % से ज्यादा

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में पिछले 24 घंटे में कोरोना का केवल एक नया मरीज मिला. (File)

MP News: मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर को राहत मिली है. यहां पॉजिटिवटी रेट 0.01 % पर पहुंच गई है. कोरोना वायरस की रिकवरी रेट 99 % से ज्यादा हो गई है. शहर में 24 घंटे में 8923 लोगों के सैंपल की टेस्टिंग की गई थी. इंदौर में अभी तक 19 लाख 8 हजार 514 लोगों की टेस्टिंग हो चुकी है.

  • Share this:
    इंदौर. मध्य प्रदेश की आर्थिक राजधानी इंदौर के लिए बड़ी और राहत की खबर है. 16 महीने बाद इंदौर में गुरुवार को कोरोना का सिर्फ एक नया मरीज मिला. इंदौर की पॉजिटिवटी रेट 0.01 % पर पहुंच गई. रिकवरी रेट 99 % से ज्यादा हो गई. गुरुवार को प्रशासन ने शहर में 8923 लोगों के सैंपल की टेस्टिंग की.

    गौरतलब है कि 1 जुलाई से अभी तक किसी भी मरीज की कोरोना से मौत नहीं हुई. अब शहर में एक्टिव मरीजों की संख्या 61 है. इन मरीजों में से अधिकतर होम हाइसोलेट हैं. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, जुलाई के 15 दिन में 91 मरीज मिले. जबकि, अप्रैल-मई में पीक था और इस दौरान 1300 मरीज हर दिन मिल रहे थे.

    अब बचे 61 मरीज

    प्रशासन ने गुरुवार देर रात 8923 लोगों के टेस्ट किए. इनमें से 8913 निगेटिव निकले. केवल एक नया मरीज पॉजिटिव मिला. बता दें, इंदौर में अभी तक 19 लाख 8 हजार 514 लोगों की टेस्टिंग हो चुकी है. 1 लाख 52 हजार 937 लोग संक्रमित पाए गए, जिनमें से 1 लाख 51 हजार 485 लोग ठीकर होकर घर लौट गए. 1351 की जान चली गई. अब सिर्फ 61 संक्रमित बचे हैं.

    कोरोना पर ICMR की नई स्टडी

    देशभर में इन दिनों कोरोना की वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) लगाने का काम तेज़ी से चल रहा है. वैक्सीन कितनी कारगर है इसको लेकर इन दिनों दुनिया भर में अलग-अलग रिसर्च किए जा रहे हैं. इसी कड़ी में इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) ने भी एक स्टडी की है. इस स्टडी के मुताबिक वैक्सीन की दोनों डोज़ लेने के बावजूद कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों में से सिर्फ 10 फीसदी को ही अस्पताल में भर्ती कराने की नौबत आई. खास बात ये है कि ऐसे लोगों को ऑक्सिजन और आईसीयू की भी जरूरत नहीं पड़ी. बता दें कि वैक्सीन की दो डोज़ लेने के बाद जिन्हें कोरोना संक्रमण होता है उन्हें विज्ञान की भाषा में 'ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन' कहा जाता है.

    जान बचाने के लिए जरूरी वैक्सीनेशन

    ICMR की इस स्टडी से कहा जा सकता है कि कोरोना की वैक्सीन बेहद असरदार है और किसी की जान बचाने के लिए बेहद जरूरी है. आईसीएमआर के इपिडिमिलॉजी और संचारी रोग विभाग के प्रमुख डॉक्टर समीरन पांडा ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, 'ये बेहद महत्वपूर्ण है, और रोग और मृत्यु दर की गंभीरता को कम करने में टीकों की महत्वपूर्ण भूमिका को रेखांकित करता है.'

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.