• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Indore News: स्वास्थ्य विभाग का दावा- बुजुर्गों को कोरोना वैक्‍सीन के पहले डोज का 103% लक्ष्य हासिल, अब उठने लगे सवाल

Indore News: स्वास्थ्य विभाग का दावा- बुजुर्गों को कोरोना वैक्‍सीन के पहले डोज का 103% लक्ष्य हासिल, अब उठने लगे सवाल

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि सभी बुजुर्गों को कोरोना का पहला डोज लगा दिया गया है.. (File)

मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि सभी बुजुर्गों को कोरोना का पहला डोज लगा दिया गया है.. (File)

Madhya Pradesh News: इंदौर में स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि सभी बुजुर्गों को शत-प्रतिशत कोरोना का पहला टीका लगा दिया गया है. विभाग का कहना है कि इसमें लक्ष्य से 103 फीसदी लक्ष्य प्राप्त कर लिया गया है. इस दावे पर अब सवाल खड़े हो गए हैं.

  • Share this:

इंदौर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh News) के इंदौर में स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि सभी बजुर्गों को पहला डोज लगा दिया गया है. कोरोना संक्रमण के वक्त सबसे ज्यादा मार झेलने वाला शहर इंदौर अब तीसरी लहर से पहले टीकाकरण पर खास ध्यान दे रहा है. बुजुर्गों के टीके के लिए स्वास्थ्य विभाग ने 301346 टीके का लक्ष्य रखा था, जबकि बुधवार को विभाग ने 310611 बुजुर्गों को डोज लगाकर एक रिकॉर्ड कायम कर लिया. अब इस दावे पर सवाल भी खड़ हो रहे हैं.

गौरतलब है कि इंदौर की 85 प्रतिशत आबादी को पहला डोज, जबकि 24 प्रतिशत आबादी को दूसरा डोज लगाया जा चुका है. स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि इंदौर ने शुरू से ही टीकाकरण को लेकर जागरूकता दिखाई. जगह-जगह टीकाकरण केंद्र शुरू किए गए थे. लोगों को जागरूक करने के लिए भी अभियान चलाए गए थे. हालांकि, टीके के डोज न मिल पाने के कारण कुछ दिन टीकाकरण रोकना भी पड़ा था.

दावे पर खड़े हुए सवाल
जिला टीकारण अधिकारी तरुण तिवारी का दावा है कि बुजुर्गों को टीके का शत-प्रतिशत पहला डोज लगाया जा चुका है. इस मामले में 103 प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त कर लिया गया है. स्वास्थ्य विभाग के इस दावे पर सवाल भी खड़े हो रहे हैं, क्योंकि जिस लक्ष्य को शत प्रतिशत माना जा रहा था उसकी प्राप्ति 103 प्रतिशत कैसे हो गई, क्योंकि शहर के 60 वर्ष की उम्र से अधिक लोगों को ध्यान में रख कर ही लक्ष्य का निर्माण किया गया था. शहर में संभावित जितने बुजुर्ग हैं, उन्हें ही चिन्हित किया गया था तो फिर अधिक लोगों का टीकाकरण कैसे हो गया? और शत-प्रतिशत टीकाकरण का दावा अभी कैसे हो गया?

देश में बढ़ने लगे मामले
भारत में कोरोना के मामलों में आई गिरावट के बाद अब धीरे-धीरे फिर से कोरोना के मामले (Corona Cases) बढ़ने शुरू हो गए हैं. पिछले कुछ दिनों से कोरोना के नए मरीजों की संख्‍या अब रोजाना 42 हजार से ऊपर पहुंच गई है. पिछले चौबीस घंटों में ही देश में 43 हजार से ज्‍यादा कोविड के नए केस सामने आए हैं. लिहाजा देश में तीसरी लहर के दस्‍तक देने की सुगबुगाहट भी तेज हो गई है.कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए लोगों में ये डर पैदा हो गया है कि कोरोना की तीसरी लहर (Corona Third wave) आना शुरू हो रही है. कुछ महीने पहले जुलाई और अगस्‍त में कोरोना की तीसरी लहर आने की बात विशेषज्ञों की ओर से की गई थी जिसके बाद अब मामलों के बढ़ने से नई लहर की शंका पैदा हो गई है. हालांकि विशेषज्ञों की मानें तो कोरोना की तीसरी लहर के लिए देश में एक निश्चित संख्‍या में मरीजों का सामने आना जरूरी है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज