Home /News /madhya-pradesh /

71 करोड़ के एमडी ड्रग्स केस में गिरफ्तार महिला है शातिर ड्रग पैडलर, लॉकडाउन में खपाया 40 करोड़ का माल

71 करोड़ के एमडी ड्रग्स केस में गिरफ्तार महिला है शातिर ड्रग पैडलर, लॉकडाउन में खपाया 40 करोड़ का माल

इंदौर क्राइम ब्रांच ने महजबीं को गिरफ्तार किया है. ये महिला शातिर तरीके से ड्रग सप्लाई करती थी. (सांकेतिक फोटो )

इंदौर क्राइम ब्रांच ने महजबीं को गिरफ्तार किया है. ये महिला शातिर तरीके से ड्रग सप्लाई करती थी. (सांकेतिक फोटो )

MD Drugs Racket News: 71 करोड़ के एमडी ड्रग्स मामले में गिरफ्तार महिला महजबीं शेख जबरदस्त शातिर है. उसका रैकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर तक फैला हुआ था. महिला राज खुलने के बाद दुबई भाग रही थी, तभी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

    इंदौर. 71 करोड़ रुपए के एमडी ड्रग्स रैकेट (MD Drug Racket) में बड़ा खुलासा हुआ है. मुंबई की ड्रग पैडलर महजबीं शेख बेहद शातिर है. महिला और उसके तीन साथियों का रैकेट अंतरराष्ट्रीय स्तर (International Level) तक फैला हुआ था. महिला दुबई सहित कई देशों की यात्रा कर चुकी है. ये डार्क नेट (Dark Net) के जरिए कई देशों में बड़े पैमाने पर एमडी ड्रग्स सप्लाई करती थी.

    क्राइम ब्रांच को चारों आरोपियों का 12 जुलाई तक रिमांड मिल गया है. पुलिस अब इनके बैंक खातों सहित सारी जानकारी निकाल रही है. ASP गुरु प्रसाद पाराशर ने बताया कि आरोपी महजबीं के इंटरनेशनल कनेक्शन सामने आने के बाद मामला बड़ा हो गया है. उसका पासपोर्ट (Passport) जब्त कर लिया गया है. पुलिस ने बताया कि महजबीं शेख को उस वक्त गिरफ्तार किया गया था, जब वह समुद्री रास्ते से दुबई भागने की फिराक में थी. क्योंकि, सलीम के पकड़े जाने के बाद उसे राज खुलने का डर था.

    शातिराना तरीके से खपाई 40 करोड़ की ड्रग्स
    जानकारी के मुताबिक, आरोपियों ने लॉकडाउन में 40 करोड़ की ड्रग्स मुंबई और दिल्ली में खपाई है. इस दौरान करीब 40 किलो ड्रग्स की खपत होने की बात सामने आई है. इनमें भी यही आरोपी महजबीं, सलीम चौधरी, जुबेर हलाई और अनवर लाला ही शामिल थे. बताया जा रहा है कि दवाओं के पैकेट में इन ड्रग्स को सप्लाई किया गया. चूंकि, लॉकडाउन में दवाएं जरूरी थीं और इनको लेकर किसी तरह की सख्ती नहीं थी, इसलिए यह ड्रग्स सप्लाई का काम आसान हो गया. आरोपी कई बार एसेंशियल सर्विस (Essential Service) के नाम पर भी कार से माल लेकर आए.

    इस तरह जुड़ते चले गए तार
    पुलिस ने बताया कि इंदौर के रईसुद्दीन और महिला का आपस में कनेक्शन था. इसी आरोपी के जरिये ये सभी टेंट कारोबारी दिनेश अग्रवाल के रैकेट से जुड़े. टेंट कारोबारी दिनेश अग्रवाल का ड्राइवर अशफाक था, जिसे उसके एमडी ड्रग्स कारोबार की जानकारी थी. बाद में अशफाक के जरिए रईस सीधे अग्रवाल पिता-पुत्र से जुड़ा और ड्रग्स मुंबई में बेचने लगा.

    ऐसे बनी ड्रग पैडलर
    पुलिस ने महजबीं की कहानी भी बताई. महजबीं को महंगी गाड़ियों और महंगी लाइफस्टाइल का जबरदस्त शौक था. उसका घर मूल रूप से वड़ोदरा में है. गुजरात दंगों का उसके ऊपर काफी असर रहा. दंगों के बाद वह नानी के पास मुंबई चली आई. उसके दो निकाह हुए, लेकिन दोनों में ही उसकी शौहर से नहीं बनी. इसके बाद वह मुंबई में कपड़ों पर जरी-गोटे का काम करने लगी. फिर सिलाई का काम छोड़कर पब में काम करने लगी. यहीं से उसे एमडी ड्रग्स सप्लाई का रास्ता दिखा और उस पर पैसा कमाने की जुनून चढ़ गया.

    Tags: Criminal women, Drug mafia, Drug peddler, Mp news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर