कमलनाथ कैबिनेट के एक फैसले से नाराज हैं व्यापम के व्हिसल ब्लोअर पारस सकलेचा

व्यापम घोटाले के व्हिसल ब्लोअर और कांग्रेस नेता पारस सकलेचा कमलनाथ कैबिनेट के एक फैसले से नाराज हैं. वह इस फैसले को बदलवाना चाह रहे हैं.

Sudhir Jain | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 18, 2019, 4:50 PM IST
Sudhir Jain | News18 Madhya Pradesh
Updated: June 18, 2019, 4:50 PM IST
व्यापम के व्हिसल ब्लोअर और कांग्रेस नेता पारस सकलेचा इन दिनों कैबिनेट के एक फैसले से नाराज हैं. कमलनाथ कैबिनेट ने हाल ही में एमपीपीएससी में दूसरे प्रदेश के परीक्षार्थियों की उम्र 28 से बढ़ाकर 35 साल और प्रदेश के परीक्षार्थियों की उम्र 40 से घटकर 35 साल तय कर दी है. सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन को प्रदेश सरकार ने अमल में लाया है. कैबिनेट के इस फैसले से जहां प्रदेश के परीक्षार्थियों में गुस्सा है वही कांग्रेस नेता भी दबी जुबान से नाराजगी जाहिर कर रहे हैं.

एमपीपीएससी में सबके लिए बराबर उम्र को चाहते बदलवाना 
व्यापम के व्हिसल ब्लोअर पारस सकलेचा का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला बाध्य नहीं करता कि दूसरे प्रदेश के परीक्षार्थियों की उम्र 28 से बढ़ाकर 35 साल की जाए. उन्होंने कहा कि कैबिनेट के इस फैसले में बदलाव होने चाहिए. गौरतलब है की बेरोजगारी से जूझ रहे मध्यप्रदेश में उम्र घटाने के सरकार के फैसले से एमपी पीएससी की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थी खासे नाराज हैं. कई ऐसे राज्य भी है जो अपने लोकल स्टडेंट्स के हित में इस गाइड लाइन का कतई पालन नहीं कर रहे हैं. ऐसे में प्रदेश सरकार ने एमपी पीएससी में लोकल स्टूडेंट्स की उम्र घटाकर और बाहरी परीक्षार्थियों की उम्र बढ़ाकर, प्रदेश के युवाओं से नाराजगी मोल ले ली है.

ये भी पढ़ें-


मंत्री ने ऐसे लगाई सिविल सर्जन और सीएमएचओ की क्लास
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...