नर्मदा मालवा गंभीर लिंक सिंचाई परियोजना शुरू, किसानों को मोबाइल पर मिलेगी पानी की ख़बर
Indore News in Hindi

नर्मदा मालवा गंभीर लिंक सिंचाई परियोजना शुरू, किसानों को मोबाइल पर मिलेगी पानी की ख़बर
नर्मदा मालवा गंभीर लिंक सिंचाई परियोजना का लोकार्पण

पूरे सिस्टम को क्लाउड कंप्यूटिंग (Cloud Computing ) और वायरलेस कम्यूनिकेशन (Wireless Communication) के ज़रिए रिमोट से कंट्रोल किया जा रहा है. इसे SMS अलर्ट और नोटिफिकेशन से जोड़ा गया है.

  • Share this:
इंदौर.नर्मदा मालवा गंभीर लिंक सिंचाई परियोजना (Narmada Malwa Gambhir Link Irrigation Project) का पानी आज पहुंच इंदौर (Indore) के हातोद गांव पहुंच गया. पालकांकरिया में इस सिंचाई और पेयजल परियोजना (Drinking water project) की शुरुआत स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट और नर्मदा घाटी विकास मंत्री सुरेंद्र सिंह बघेल ने की. ये देश की ऐसी पहली नदी जोड़ो परियोजना है जिसमें  नर्मदा का पानी 427 मीटर से अधिक ऊंचाई तक लिफ्ट कर लाया गया है. ये इतनी हाईटेक परियोजना है कि इसमें किसान (farmer) अपने मोबाइल फोन (mobile phone) से ये पता कर सकेगा कि उन्हें खेतों की सिंचाई के लिए कब और कितना पानी मिलेगा.

हाईटेक है नर्मदा-मालवा गंभीर लिंक परियोजना
खेती की सिंचाई और स्थानीय लोगों को रोजगार देने में नर्मदा मालवा गंभीर लिंक परियोजना मील का पत्थर साबित होगी. परियोजना का मुख्य उददेश्य चंबल बेसिन के ऊपरी क्षेत्रों में किसानों को सिंचाई सुविधा देना है. अभी यहां सिंचाई का रकबा बहुत कम है. इलाके में पानी आने से इसका सीधा फायदा किसानों और स्थानीय लोगों को होगा. नर्मदा गंभीर लिंक परियोजना तकनीकी रूप से भी बहु-उपयोगी है.इस हाईटेक परियोजना में स्काडा प्रणाली,जल वितरण की इजरायली प्रणाली और बेहतरीन वॉटर मैनेजमेंट का उपयोग किया गया है.तेज़ प्रेशर
नर्मदा-मालवा गंभीर लिंक परियोजना को ओंकारेश्वर परियोजना के चार पंप हाउस की मदद से इंदौर के दतोंदा स्थित बीपीटी-2 तक लाया गया है. यहां तक पाइप लाइन की लंबाई 38.165 किलोमीटर है. यहां से 29.977 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन की मदद से पानी को इंदौर जिले के हातोद तहसील के बड़ीकलमेर तक पहुंचाया गया.पानी का प्रेशर इतना तेज है कि लाखों किसान सीधे पाइप जोड़कर स्प्रिंकलर और ड्रिप सिंचाई कर सकेंगे.सांवेर के 43 गांवों को इस योजना से फायदा मिलेगा और 15 हजार हेक्टेयर में सिंचाई हो सकेगी.



मोबाइल पर मिलेगी पानी की जानकारी
इस परियोजना की खासियत ये है कि इसमें बेहतरीन वॉटर मैनेजमेंट के जरिए किसानों की मांग पर उन्हें पानी उपलब्ध कराया जाएगा. ये इतनी हाईटेक है कि किसान अपने मोबाइल फोन से पता कर सकेंगे कि उन्हें कितना और कब पानी मिल पाएगा.पूरे सिस्टम को क्लाउड कंप्यूटिंग और वायरलेस कम्यूनिकेशन के ज़रिए रिमोट से कंट्रोल किया जा रहा है. इसे SMS अलर्ट और नोटिफिकेशन से जोड़ा गया है. आधुनिक और नई इजरायली तकनीक के जरिए नर्मदा घाटी विकास प्राधिकरण NVDA इस पूरी सिंचाई प्रणाली को ऑपरेट कर रहा है.



ये भी पढ़ें-'छपाक' पर विवाद : CM कमलनाथ ने कहा पिछले कुछ साल में शुरू हुई ये ग़लत परंपरा...

भोपाल में नामी गुटखा कंपनियों पर EOW का छापा, करोड़ों की टैक्स चोरी और मिलावट

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading