चर्चित वेब सीरीज अभय-02 को लेकर अब नया विवाद, शहीद खुदीराम बोस के अपमान का आरोप
Indore News in Hindi

चर्चित वेब सीरीज अभय-02 को लेकर अब नया विवाद, शहीद खुदीराम बोस के अपमान का आरोप
वेब सीरीज में दिखाए गए दृश्य पर आपत्ति जताई गई है.

क्रांतिकारी संगठनों का आरोप है कि वेब सीरीज के एक दृश्य में शहीद खुदीराम बोस (Martyr Khudiram Bose) का अपमान किया गया है, जिसके खिलाफ इंदौर (Indore) डीआईजी से शिकायत की गई है.

  • Share this:
इंदौर. चर्चित वेब सीरीज अभय-02 (Abhay-02) को लेकर एक नया विवाद शुरू हो गया है. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के इंदौर (Indore) में क्रांतिकारी परिवारों से जुड़कर काम करने वाले अब इस फ़िल्म का विरोध कर रहे हैं और फिल्म निर्माता एवं अन्य जिम्मेदारों पर कार्यवाही की मांग की जा रही है. दरअसल हाल ही में कई प्लेटफॉर्म पर रिलीज हुई वेब सीरीज अभय -02 में दिखाए गए एक दृश्य ने विवाद पैदा कर दिया है. इस दृश्य में एक थाने के अंदर क्रांतिकारी खुदीराम बोस की तश्वीर उस बोर्ड पर चस्पा दिखाई गई है, जहां इलाके के हिस्ट्रीशीटर और खूंखार बदमाशों की तश्वीर लगाई जाती है.

इस  दृश्य को देखने को बाद वेब सीरीज के दृश्य पर लगातार आपत्ति ली जा रही है और इसे शहीद खुदीराम के अपमान से जोड़कर देखा जा रहा है. क्रांतिकारी परिवारों से जुड़े लोगो इसे शहीद और क्रांतिकारियों का अपमान बता रहे हैं. बताते हैं कि खुदीराम बोस के मन में देश को आजाद कराने की ऐसी लगन लगी कि नौवीं कक्षा के बाद ही पढ़ाई छोड़ दी और स्वदेशी आंदोलन में कूद पड़े. छात्र जीवन से ही ऐसी लगन मन में लिये इस नौजवान ने हिन्दुस्तानी पर अत्याचारी सत्ता चलाने वाले ब्रिटिश साम्राज्य को ध्वस्त करने के संकल्प में धैर्य का परिचय देते हुए पहला बम फेंका, और भारतीय स्वाधीनता के लिये मात्र 19 साल की उम्र में भारत  की आजादी के लिये फांसी पर चढ़ गये.

ये भी पढ़ें: कांग्रेस छोड़ने के बाद पहली बार ग्वालियर आ रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया, धमाकेदार एंट्री की तैयारी कर रही BJP



लगे ये आरोप
शिकायकर्ताओं का आरोप है कि शहीद खुदीराम बोस के इस बलिदान को अनदेखा करते हुए फिल्म निर्माता ने फिल्मांकन के दौरान उनका अपमान किया है. इसके बाद कई क्रांतिकारी संघटन मैदान में उतर गए हैं. इस दृश्य के दौरान थाने के अंदर एक पुलिस कर्मी किसी संदिग्ध युवक से एक कथित हत्या के जुर्म की छानबीन करते हुए उससे पूछताछ कर रहा है. इसी दौरान पुलिस कर्मी (फिल्म अभिनेता) के ठीक पीछे दिखाई दे रहे बोर्ड पर क्रांतिकारी खुदीराम बोस की तश्वीर नजर आ रही है. दलील यह भी दी गई कि यह तश्वीर हूबहू खुदीराम बोस के जैसी हो सकती है, लेकिन क्रांतिकारी संघटन इस बात पर अड़े हुए है कि यदि हूबहू तश्वीर है भी तो इसे बदलकर ही उपयोग करना चाहिए था. यह शत प्रतिशत क्रांतिकारी का अपमान है और इसे किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जा सकता है. यह दृश्य वेब सीरीज के दूसरे पार्ट के 27 मिनट 30 सेकेण्ड पर दर्शाया गया है.

डीआईजी से शिकायत
ऐलान ऐ इंकलाब के राहुल इंकलाब के मुताबिक़ वेब सीरीज में शहीद क्रांतिकारी खुदीराम बोस की तश्वीर आपराधिक बोर्ड पर चस्पा की है, यह बेहद गलत है. इसको लेकर उनकी तरफ से इंदौर पुलिस के डीआईजी को शिकायत की गई है. जिम्मेदारों पर गंभीर धाराओं में प्रकरण दर्ज करवाया जायेगा या फिर वेब सीरीज से होने वाले मुनाफा से वह खुदीराम बोस के जीवन पर भी फिल्म बनाये. इस अभियान शहीद चंद्र शेखर आज़ाद, भगत सिंह , तात्या टोपे, सहादत खान समेत कई शहीदों के परिजन शामिल हैं. वह सब शहीद का अपमान करने वालो के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज