मध्यप्रदेश की लोटस वैली : कमल के फूलों की झील और सनसेट मेें कन्याकुमारी जैसा नज़ारा
Indore News in Hindi

मध्यप्रदेश की लोटस वैली : कमल के फूलों की झील और सनसेट मेें कन्याकुमारी जैसा नज़ारा
इंदौर में नया पर्यटन स्थल- लोटस वैली : कमल के फूलों की खूबसूरत झील

ये मध्यप्रदेश (madhya pradesh) की एक मात्र लोटस झील (Lotus Lake) है, जो सर्दियों में कमल के फूलों से भरी गुलाबी रंग से सजी हुई है. इसे एशिया (asia) की सबसे बड़ी लोटस वैली ( (Lotus Lake) ) कहा जा रहा है

  • Share this:
इंदौर.एमपी अजब है वाकई ग़ज़ब है. शायद कम ही लोग जानते होंगे कि एमपी (mp) में भी एक लोटस वैली (Lotus Valley) है जो खूबसूरती में कश्मीर (kashmir) को टक्कर दे रही है. ये लोटस वैली इंदौर से महज 25 किलोमीटर दूर गुलावट गांव में गुलज़ार है. ये मध्यप्रदेश (madhya pradesh) की एक मात्र लोटस झील (Lotus Lake) है, जो सर्दियों में कमल के फूलों से भरी गुलाबी रंग से सजी हुई है. इसे एशिया (asia) की सबसे बड़ी लोटस वैली कहा जा रहा है.

देश का सबसे स्वच्छ शहर इंदौर अब अपनी नई पहचान बना रहा है. यहां की गुलावट लोटस वैली देश दुनिया के पर्यटकों के लिए सबसे पसंदीदा जगह बनती जा रही है. इंदौर शहर से करीब 25 किलोमीटर दूर गुलावट गांव में यशवंत सागर डेम के बैक वाटर से बनी प्राकृतिक झील में कई किलोमीटर तक आपको कमल के फूल ही फूल दिखाई देंगे. पूरी झील कमल के फूलों से गुलाबी नजर आती है. यहां का सनसेट कन्याकुमारी और गोवा जैसा ही है. यहां पर साउथ अफ्रीका और आसाम के जंगलों जैसे जंगल हैं. बड़े बड़े बांस के पेड़ों के पीछे से जब सूर्य की किरणें दिखती हैं तो वो नज़ारा देखने लायक होता है.इंदौर में कश्मीर का अहसास
कश्मीर जैसी खूबसूरत वादियों वाली इस लोटस वैली को देखने दूरदराज से पर्यटक पहुंचते हैं. वो गंभीर नदी पर बनी इस झील की सैर करते हैं और कमल के फूलों की खूबसूरती नज़दीक से निहारते हैं. इस खूबसूरत झील के पास ही बांस का बगीचा है. बांसों की लंबाई बहुत ज्यादा होने के कारण ये ऊपर से झुक कर आपस में मिल गए हैं. इससे इनकी खूबसूरती और बढ़ जाती है. लोग लोटस वैली पर वीक एंड ट्रिप प्लान के साथ फोटो शूट और प्री वेडिंग शूट करने आते हैं. यहां घुड़सवारी, साइकिलिंग, खुली जीप की सवारी के साथ पेड़ों से बंधे आकर्षक झूलों का भी आनंद लेते हैं.

कश्मीर से कन्याकुमारी तक का नज़ारा



पर्यटकों का कहना है इस लोटस वैली में आकर कश्मीर से कन्याकुमारी का तक का अहसास हो जाता है. इसलिए अब इतनी दूर जाने की ज़रूरत ही नही है. ये प्राकृतिक नजारें शायद ही कहीं देखने मिलें. पर्यटकों का कहना है कुदरत के करिश्मे से बनी गुलावट लोटस वैली अद्भुत है. सौ से डेढ़ सौ फीट ऊंचे बांस के पेड़ों की बनी गुफाएं खास तरह का आकर्षण पैदा करती हैं. तालाब में कमल के फूल खूबसूरती में चार चांद लगाते हैं. यहां स्थापित हनुमान प्रतिमा और आकर्षक झूले मन को मोह लेते हैं.



फ्लोरल विलेज बनेगा गुलावट
गुलावट गांव में जंगल के बीच बने इस तालाब को अब पर्यटन स्थल के रूप में निखारा जाएगा. दरअसल, इस तालाब में कमल के फूल बड़ी संख्या में खिलते हैं. इस लिहाज से यहां का नज़ारा बेहद खूबसूरत होता है. पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने तो इसे अपना ड्रीम प्रोजक्ट कहा था. अब कमलनाथ सरकार इसे पर्यटन केन्द्र के रुप में विकसित करने जा रही है. कलेक्टर लोकेश कुमार जाटव का कहना है तालाब को और खूबसूरत बनाने के लिए सबसे पहले गंदगी और कचरा साफ किया जाएगा. बोटिंग के लिए वॉटर ट्रैक के साथ ही शिकारा चलाया जाएगा. तालाब में आकर्षक रोशनी, स्काय वॉक और रूफ टॉप रेस्टोरेंट का बनाने का प्लान है. साथ ही प्रीवेडिंग शूट की सुविधाएं यहां रहेंगी. गुलावट की वादियां इतनी खूबसूरत हैं कि टूरिज़्म डिपार्टमेंट गुलावट सहित शहर के आसपास 5 गांवों को फ्लोरल विलेज बना रहा है.

ये भी पढ़ें-...जब दूल्हे ने लगाई 11 किमी तक दौड़ और उसके पीछे-पीछे भागे 50 बाराती

सारंग गन का ​जबलपुर में सफल परीक्षण, अंधेरे में भी करेगी दुश्मन पर वार

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading