लाइव टीवी

पाकिस्तान से लौटी गीता को अभी तक नहीं मिले माता-पिता, अब सोशल मीडिया से होगी तलाश

Arun Kumar Trivedi | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 26, 2019, 10:08 PM IST
पाकिस्तान से लौटी गीता को अभी तक नहीं मिले माता-पिता, अब सोशल मीडिया से होगी तलाश
पाकिस्तान से आई गीता को 26 अक्टूबर 2015 को इंदौर लाया गया था.

पूर्व विदेश मंत्री दिवंगत सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) की पहल पर जिस गीता (Geeta) को पाकिस्तान (Pakistan) से भारत लाया गया, अब तक नहीं मिल सका है उसका परिवार. इंदौर (Indore) में रह रही दिव्यांग गीता के माता-पिता (Parents of Geeta) की तलाश के लिए अब लिया जा रहा सोशल मीडिया का सहारा.

  • Share this:
इंदौर. पाकिस्तान (Pakistan) से भारत लाई गई मूक-बधिर गीता (Geeta) को इंदौर आए 4 साल पूरे हो गए. इन 4 वर्षों में गीता के परिवार की तलाश होती रही, लेकिन उसके माता-पिता नहीं मिले. पूर्व विदेश मंत्री दिवंगत सुषमा स्वराज (Sushma Swaraj) की पहल पर गीता को भारत लाया गया था. उसी समय केंद्र सरकार की सक्रियता से गीता के परिवार की तलाश शुरू हुई, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. हरसंभव प्रयास करने के बाद अब सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफॉर्मों के जरिए गीता के माता-पिता की तलाश (Parents of Geeta) शुरू की गई है. फेसबुक (Facebook) पर जहां इसके लिए एक विशेष पेज बनाया गया है, वहीं एक अन्य मोबाइल एप्लीकेशन Face App के जरिए भी गीता के परिवार की तलाश की कवायद शुरू की गई है. आपको बता दें कि गीता न तो बोल सकती है और न सुन सकती हैं. वह आजकल इंदौर के मूक-बधिर संस्थान में रह रही हैं.

24 दंपतियों ने किया दावा, लेकिन हुए फेल
26 अक्टूबर 2015 को गीता को इंदौर (Indore) लाए जाने के बाद देशभर के कई दंपतियों ने गीता के माता-पिता होने का दावा किया, लेकिन किसी का डीएनए मैच नहीं होने से, 27 साल की दिव्यांग गीता के परिवार की तलाश अब भी अधूरी है. गीता को इंदौर के मूक-बधिर संस्थान में भर्ती कराने की वजह सिर्फ इतनी थी कि उसके माता-पिता के मिलने के बाद वह अपने घर चली जाएगी, लेकिन ऐसा हो न सका. इस बीच देशभर के 24 से अधिक दंपतियों ने गीता पर अपना दावा किया, लेकिन किसी का डीएनए गीता से मैच नहीं हुआ. इसका नतीजा हुआ कि 4 साल बाद भी उसके परिजनों का पता नहीं चल सका है.

गीता के परिजनों की तलाश के लिए शुरू किया गया है फेसबुक पेज.


अब फेस-ऐप से होगी तलाश
इस बीच चीन में मोबाइल एप्लीकेशन फेस-ऐप (Face App) के जरिए 18 साल पहले गुम हुए बच्चे को ढूंढ निकालने की खबर आई. कहा गया कि 3 साल की उम्र में गुम हुए बच्चे की तस्वीर को डेवलप कर चीन की पुलिस ने उसके माता-पिता की खोज कर ली. इस खबर की जानकारी के बाद गीता के माता-पिता की तलाश के लिए भी इसी मोबाइल ऐप्लीकेशन के इस्तेमाल का निर्णय लिया गया. इंदौर के सांकेतिक भाषा के विशेषज्ञ ज्ञानेंद्र पुरोहित ने भी फेस-ऐप के जरिए गीता का 10 साल पहले का चेहरा तैयार किया, जिसे सोशल मीडिया पर वायरल किया गया है. इससे उम्मीद की जा रही है कि गीता के माता-पिता मिल सकते हैं.

Pakistan return Geeta still looking for her family
गीता के माता-पिता की तलाश के लिए मोबाइल ऐप्लीकेशन फेस-ऐप का भी हो रहा इस्तेमाल.

Loading...

नतीजे आने शुरू, हो रही है जांच
फेस-ऐप के जरिए तैयार की गई गीता की फोटो के वायरल होने के बाद देशभर से उसकी पहचान के संबंध में संकेत मिलने शुरू हो गए हैं. कुछ मूक-बधिर युवतियों ने गीता के उनकी सहेली होने के संकेत दिए हैं, लेकिन उस बिंदु पर अभी जांच चल रही है. गीता करीब 10 साल की उम्र में गायब होने की बात कहती है, अभी उसकी उम्र करीब 27 साल है. ज्ञानेंद्र पुरोहित का कहना है कि नई टेक्नोलॉजी के जरिए गीता के परिवार को ढूंढने की कोशिश की जा रही है. फेसबुक पर भी 'रीयूनाइट गीता विथ हर फैमली' नाम से एक पेज बनाया गया है. इस पेज के जरिए गीता को लेकर न सिर्फ कई नए दावे करने वाले सामने आए हैं, बल्कि उसके लिए शादी के प्रस्ताव भी आए हैं. फिलहाल गीता मूक-बधिर संस्थान में रहकर स्कूली पढ़ाई के साथ-साथ कौशल उन्नयन की ट्रेनिंग ले रही है.

ये भी पढ़ें -

इंदौर में 3R कॉन्सेप्ट पर होगा भारत-बांग्लादेश टेस्ट मैच, स्टेडियम में प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पाबंदी

कर्मचारियों के वेतन और महंगाई भत्ते पर भाजपा नेता राकेश सिंह ने कमलनाथ सरकार को घेरा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 7:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...