• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • PM की आयुष्मान भारत योजना का एमपी में बुरा हाल, 25 फीसदी का ही बना कार्ड

PM की आयुष्मान भारत योजना का एमपी में बुरा हाल, 25 फीसदी का ही बना कार्ड

पीएम नरेन्द्र मोदी. फाइल फोटो.

पीएम नरेन्द्र मोदी. फाइल फोटो.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के महत्वकांक्षी योजनाओं में शामिल आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) का मध्य प्रदेश में बुरा हाल है.

  • Share this:
    इंदौर. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के महत्वकांक्षी योजनाओं में शामिल आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) का मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में बुरा हाल है. आयुष्मान भारत योजना “निरामयम” को लागू हुए दो साल हो गए, लेकिन प्रदेश में अब तक 25 फीसदी हितग्राहियों के ही कार्ड बन पाए हैं. इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली पर भी सवाल किए जा रहे हैं. बात इंदौर की करें तो यहां अभी तक 7,63,675 हितग्राहियों के ही कार्ड बने हैं, जबकि 15 लाख 14 हजार 487 हितग्राहियों के कार्ड बनाए जाने थे.

    मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक ज्यादातर लोग तभी कार्ड बनवाते हैं, जब वे किसी बीमारी के इलाज के लिए भर्ती होते हैं. कई परिवार में तो मुखिया के कार्ड बन गए, लेकिन अन्य सदस्यों के कार्ड नहीं बने हैं. इसलिए प्रदेशभर में आयुष्मान भारत योजना के ज्यादा से ज्यादा कार्ड बनवाने का लक्ष्य दिया गया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कहीं-कहीं 25 प्रतिशत कार्ड भी नहीं बने हैं.



    कार्ड के लिए हेल्पलाइन नंबर
    आयुष्मान भारत योजना के कार्ड बनाने के लिए 30 रुपए का शुल्क, समग्र आईडी, आधार कार्ड, राशन कार्ड लगता है. इंदौर में 7 सरकारी और 24 निजी अस्पतालों में कार्ड बनाए जा रहे हैं. जिले के 106 कॉमन सर्विस सेंटर में इस योजना के कार्ड बनाए जा रहे है. अधिकारियों के मुताबिक, यह संख्या बढ़ाई जाएगी. योजना के तहत कार्ड बनाने के लिए 30 रुपए का शुल्क तय किया गया है. इसके लिए समग्र आईडी, आधार कार्ड, राशन कार्ड या कोई सरकारी फोटो पहचान पत्र देना होगा. किसी तरह की अन्य जानकारी के लिए 18002332085 पर संपर्क किया जा सकता है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज